होम /न्यूज /जीवन शैली /कोरोना में ब्लड क्लॉटिंग होने से धमनी में नहीं होता है इंफेक्शन - नई रिसर्च

कोरोना में ब्लड क्लॉटिंग होने से धमनी में नहीं होता है इंफेक्शन - नई रिसर्च

प्रतिकात्मक तस्वीर.

प्रतिकात्मक तस्वीर.

Blood Clotting in Covid-19 : एक नई रिसर्च में बताया गया है कि सार्स-कोव-2 वायरस (SARS-CoV-2 Virus) शरीर के ब्लड वेसल चै ...अधिक पढ़ें

    Blood clotting in Covid-19 : कोरोना संक्रमण के बहुत सारे प्रत्यक्ष और परोक्ष (direct and indirect) असर देखे गए हैं. इनमें कई अल्पकालिक होते हैं तो कई लंबे समय तक बने रहते हैं. दैनिक जागरण अखबार में छपी न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, एक नई रिसर्च में बताया गया है कि कोरोना के दौरान धमनी संबंधी रोग (arterial disease) वायरल संक्रमण के कारण नहीं होता है, क्योंकि सार्स-कोव-2 वायरस (SARS-CoV-2 Virus) शरीर के ब्लड वेसल चैनल (blood vessel channel) को संक्रमित नहीं करता है. साइंटिस्टों ने बताया है कि कोविड-19 के मरीज में ब्लड के थक्के (ब्लड क्लॉटिंग) बनने का खतरा बढ़ जाता है. अक्सर खून के थक्के के कारण ही कोरोना संक्रमण के मरीजों को हार्ट से जुड़ी गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है. ‘क्लीनिकल एंड ट्रांसलेशनल इम्युनोलॉजी (Clinical and translational Immunology)’ में प्रकाशित इस शोध से वायरस और धमनियों (Viruses and arteries) के बीच के संबंधों का स्पष्ट पता चलता है.

    ऑस्ट्रेलिया की क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी (Queensland University) के साइंटिस्टों के अनुसार कोविड के मरीजों में खून के थक्के बनने की परेशानी इन्फ्लेमेशन (सूजन) से होती है. ये सूजन वायुमार्ग की संक्रमित कोशिकाओं (infected cells of the airways) के कारण होती है.

    यह भी पढ़ें- वैज्ञानिकों ने खोजा एंटीबायोटिक का असर बढ़ाने का तरीका, सुपरबग्स का होगा खात्मा

    क्या कहते हैं जानकार
    इस संक्रमण का कारण धमनी नहीं होती है, जैसा कि पहले समझा जाता था. यूक्यू इंस्टीट्यूट (UQ Institute) में मॉलीक्यूलर बायोसाइंस (molecular bioscience) की एमा गार्डन (Emma Garden) के अनुसार, अस्पताल में भर्ती किए गए कोरोना संक्रमण के कम से कम 40 प्रतिशत मरीजों में खून के थक्के (blood clots) बनने के अत्याधिक खतरा होता है.

    यह भी पढ़ें- मोतियाबिंद का हार्ट से कनेक्शन, सर्जरी कराने वालों में मौत का रिस्क ज्यादा – रिसर्च

    क्या उपाय है 
    एमा गार्डन आगे बताती हैं कि इसीलिए सामान्य रूप से उनके इलाज के दौरान उनके खून को पतला करने के लिए समुचित उपाय किए जाते हैं. उन्होंने बताया कि यह देखने के लिए भी कई रिसर्च हुई है कि कोरोना वायरस के संक्रमण का असर धमनियों (arteries) के अंदर की सतह या उसकी कोशिकाओं यानी सेल्स (cells) में होता है या नहीं.

    Tags: Health, Health News

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें