लाइव टीवी

ब्लड टेस्ट बता देगा बच्चा ठीक से सोता है या नहीं, इन लक्षणों से हो जाएं अलर्ट

News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 9:26 AM IST
ब्लड टेस्ट बता देगा बच्चा ठीक से सोता है या नहीं, इन लक्षणों से हो जाएं अलर्ट
तीन साल की उम्र तक बच्चों को हर दिन 12 घंटे सोना चाहिए.

शोध में पाया गया है कि जो बच्चे रोजाना 9 घंटे की नींद लेते हैं वो अन्य बच्चों की तुलना में अधिक सेहतमंद और शारीरिक तौर पर एक्टिव रहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 9:26 AM IST
  • Share this:
अब डॉक्टर सिर्फ रक्त परीक्षण कर बता सकते हैं कि बच्चे में नींद की कमी है या नहीं. एक हालिया शोध में यह खुलासा किया गया है. बच्चों को रात में कम से कम नौ घंटे की नींद लेनी चाहिए जब तक वे 16 साल के नहीं हो जाते. नौ घंटे की नींद नहीं लेने से बच्चों के स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है. डॉक्टरों का कहना है कि अगर बच्चा रात को 9 घंटे से कम नींद लेता है तो दिन भर उसके व्यवहार में चिड़चिड़ापन बना रहता है.

साथ ही नींद न पूरी होने से बच्चे की सेहत और फिजिकल एक्टिविटी पर भी असर पड़ता है. शोध में पाया गया है कि जो बच्चे रोजाना 9 घंटे की नींद लेते हैं वो अन्य बच्चों की तुलना में अधिक सेहतमंद और शारीरिक तौर पर एक्टिव रहते हैं.

कम नींद से बच्चों का विकास बाधित होता है.
कम नींद से बच्चों का विकास बाधित होता है.


 

इसे भी पढ़ें : इनफर्टिलिटी दूर करने के लिए सप्‍लीमेंट लेकर पुरुष कर रहे बड़ी भूल, पढ़ लें ये खबर

बढ़ता है मोटापे का खतरा
कम नींद से बच्चों का विकास बाधित होता है. इससे वे स्कूल और पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते और उनमें मोटापे व मधुमेह से ग्रस्त होने का जोखिम बढ़ जाता है. अभिभावकों को भी इस बात की सही जानकारी नहीं होती कि बच्चा कितनी देर तक सोता है. लेकिन, वैज्ञानिकों का कहना है कि उन्होंने एक ऐसा रक्त परीक्षण विकसित कर लिया है जिससे बच्चों के सोने की आदतों के बारे में सही जानकारी प्राप्त की जा सकती है. 

 वैज्ञानिकों ने नींद के समय के अनुसार माइक्रो आरएनएज में काफी बदलाव देखा.
वैज्ञानिकों ने नींद के समय के अनुसार माइक्रो आरएनएज में काफी बदलाव देखा.


इसे भी पढ़ें : Health: सर्दियों में नहीं ढकते हैं कान ? तो हो सकती है ये खतरनाक बीमारी

ऐसे हुए बच्चे की नींद का टेस्ट
इटली के इंस्टीट्यूट ऑफ फूड साइंस ऑफ द नेशनल रिसर्च काउंसिल के शोधकर्ताओं ने इस रक्त परीक्षण को विकसित किया है. वैज्ञानिकों ने नींद के समय के अनुसार माइक्रो आरएनएज में काफी बदलाव देखा. दो विभिन्न प्रकार के माइक्रो आरएनएज को देखने के बाद उन्होंने बताया कि कौन-सा बच्चा नौ घंटे सोता है और कौन कम सोता है.

किस उम्र में बच्चों को कितनी लेनी चाहिए नींद

-तीन साल की उम्र तक बच्चों को हर दिन 12 घंटे सोना चाहिए

-उम्र में एक साल की बढोतरी के साथ नींद की मात्रा में 15 मिनट की कमी होनी चाहिए

-16 साल की अवस्था में उनके लिए 9 घंटे की नींद जरूरी होती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 9:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर