Breasts Sagging: ब्रेस्ट सैगिंग से हैं परेशान, अपनाएं ये घरेलू टिप्‍स

Breasts Sagging: ब्रेस्ट सैगिंग से हैं परेशान, अपनाएं ये घरेलू टिप्‍स
ब्रेस्ट सैगिंग बढ़ती उम्र और प्रेगनेंसी आदि की वजह से हो सकती है.

ब्रेस्ट सैगिंग (Breasts Sagging) बढ़ती उम्र के अलावा प्रेगनेंसी, चाइल्ड बर्थ और बहुत ज्यादा वजन कम होने की वजह से हो सकती है.

  • Share this:
जैसे-जैसे समय बीतता है, ब्रेस्‍ट (Breasts) के मूल आकार में लोच और गिरावट आना स्वाभाविक है. कई बार प्रेगनेंसी के बाद महिलाओं को ब्रेस्ट सैगिंग (Breasts Sagging) जैसे कॉमन इशू का सामना करना पड़ता है. ब्रेस्ट सैगिंग दरअसल, बढ़ती उम्र, प्रेगनेंसी, चाइल्ड बर्थ और बहुत ज्यादा वजन कम होने की वजह से हो सकती है. मगर हर महिला में इसके होने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं. विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक उपचार (Natural Remedies) अपना कर और जीवन शैली में कुछ बदलाव करके ब्रेस्‍ट पर पड़ने वाले इसके प्रभाव को रोकने या कम करने में मदद मिल सकती है. आप इसके लिए कुछ एक्‍सरसाइज कर सकती हैं. इसके अलावा अपनी डाइट (Diet) में कुछ खास चीजें शामिल करके काफी हद तक इससे आराम पाया जा सकता है.

कई बार इन कारणों से भी होती है ब्रेस्‍ट सैगिंग
वैसे तो इसका आम कारण यही है कि उम्र बढ़ती है, तो यह बदलाव आता ही है. भले ही लोग कहें कि आपके कुछ अलग तरह के पहनने या किसी अन्‍य वजह से ब्रेस्‍ट में यह बदलाव आया है, मगर समय के साथ यह बदलाव आना स्‍वाभाविक है, जो इनकी स्किन को कमजोर और कम लोचदार बनाता है. हालांकि कई बार कुछ युवा महिलाओं को भी यह समस्‍या हो सकती है. समय बीतने के अलावा कई अन्‍य कारण हैं जिनसे यह समस्‍या हो सकती है:

कई बार प्रेग्‍नेंट महिलाओं में यह समस्‍या देखी जाती है. इसकी वजह यह है कि ब्रेेेेस्‍ट उस समय कुछ भारी हो जाते हैं.
इसके अलावा कई बार धूम्रपान करने से भी स्किन में लचीलापन आ जाता है.


बड़े और भारी ब्रेस्‍ट के साथ यह समस्‍या होने की ज्‍यादा आशंका रहती है.
इसके अलावा अत्यधिक वजन घटाने से छाती के आकार और ब्रेस्‍ट में काफी परिवर्तन आ सकता है.
कई बार अधिक वजन होने की वजह से भी स्किन और ब्रेस्‍ट के ऊतकों में खिंचाव से यह दिक्‍कत आती है.
कई बार मेनोपॉज हार्मोनल परिवर्तन का कारण बनता है, जो त्वचा की लोच को प्रभावित करता है.

नियमित तौर पर करें व्यायाम
वैसे ब्रेस्‍ट में मांसपेशियां नहीं होती हैं, इसलिए आप व्यायाम के साथ ब्रेस्‍ट टिश्‍यू breast tissue को मजबूत नहीं कर सकतीं. हालांकि स्तनों के नीचे तंतुमय संयोजी ऊतक और मांसपेशियां होती हैं, जिनमें सुधार करने के लिए व्यायाम किया जा सकता है. इसके अलावा तैराकी आदि भी की जा सकती है.

आहार और पोषण
अपनी स्किन को बेहतर पोषण देने के लिए संतुलित, स्वस्थ आहार अपनी डाइट में शामिल करें. ताकि आपका शरीर आने वाले कई वर्षों तक स्वस्थ, मजबूत और लचीला बना रहे.

इसके लिए अपने वजन को संतुलित रखें. अधिक वजन होने के कारण आपकी त्वचा के ऊतकों पर दबाव पड़ता है और अतिरिक्त वजन आपके स्तनों में अतिरिक्त भार डाल सकता है, जिसकी वजह से भी ब्रेस्‍ट में यह समस्‍या हो सकती है.

ये भी पढ़ें - शतावरी के फायदे जानते हैं आप? क्‍या है इसका हेल्‍थ कनेक्‍शन

पोषण युक्‍त आहार लेने के अलावा एक स्वस्थ जीवन शैली भी जरूरी है. तंबाकू का सेवन आपकी त्वचा के साथ-साथ आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. यह स्तनों की शिथिलता के लिए एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है.

वहीं यह भी ध्‍यान रखें कि आप पूरे दिन पर्याप्त पानी पिएं और शरीर में इसकी कमी न होने दें. शरीर में पर्याप्त पानी होने से आपकी त्वचा मजबूत रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading