अल्‍ट्रा-वायलेट लाइट से मर सकता है कोरोना वायरस? जानिए क्या बोला विश्व स्वास्थ्य संगठन

कोरोना वायरस का संक्रमण अभी तक रोका नहीं जा सका है.
कोरोना वायरस का संक्रमण अभी तक रोका नहीं जा सका है.

Can UV Lights Disinfectants Corona Virus: सूर्य के प्रकाश में मौजूद अल्‍ट्रा- वायलेट या UV किरणें, जिन्‍हें पराबैंगनी किरणें भी कहा जाता है.

  • Share this:
सारी दुनिया इन दिनों कोरोना वायरस (Corona virus) के कहर से परेशान है. कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए वैज्ञानिकों द्वारा वैक्सीन तैयार की जा रही है. इस वक्त जब सारी दुनिया इस महामारी की मार झेल रही है. वहीं, दूसरी तरफ सोशल मीडिया (Social media) पर कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई तरह के दावे किए जा रहे हैं. इन्हीं दावों में से एक ये है कि सूर्य के प्रकाश में मौजूद अल्‍ट्रा-वायलेट किरणें हाथों को डिसइंफेक्‍ट कर सकती है. इस तरह के पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लोगों ने कई तरह के नुस्खें अपनाएं हैं, लेकिन क्या ये वाकई फायदेमंद है? इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) द्वारा अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया गया है.

अल्‍ट्रा-वायलेट किरणों पर क्‍या कहता है WHO (WHO ultra-violet rays)

सूर्य के प्रकाश में मौजूद अल्‍ट्रा- वायलेट या UV किरणें, जिन्‍हें पराबैंगनी किरणें भी कहा जाता है. विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (World Health Organisation) द्वारा किए गए पोस्ट के अनुसार, अल्ट्रा-वायलेट किरणों में इतनी ज्यादा तपन होती है कि ये शरीर की कोशिकाओं को नष्ट करने लगती है. साथ ही ये मनुष्य की आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा स्पष्ट किया गया है कि हाथों को डिसइंफेक्ट करने के लिए किसी भी स्थिति में अल्टा-वायलेट लाइट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.





क्या है कोरोना वायरस से बचाव के तरीके (Ways to protect against corona virus)

कोरोना वायरस का वर्तमान में किसी तरह का कोई सटीक इलाज नहीं है. जब तक इस वायरस का इलाज नहीं मिल जाता है तब तक हमें सावधानी बरतने की आवश्यकता है. हालांकि भारत में कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीजों के प्लाजा से बाकि मरीजों का इलाज किया जा रहा है.

- कोरोना वायरस से बचाव का सबसे सटीक और आसान तरीका है खुद को और अपने आस-पास के क्षेत्र को साफ-सुथरा रखना.

- किसी भी सामान को छूने के बाद हाथों को साबुन और पानी से 20 सेकेंड तक धोना या सैनेटाइजर का इस्तेमाल करना.

- घर के बाहर निकलते वक्त मास्क और दस्तानों को इस्तेमाल करना.

- अपने परिवार और दोस्तों से सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना.

- बाजार से फल, सब्जियां और अन्य सामान खरीदने के बाद उन्हें अच्छे से क्लीन करें.

 

इसे भी पढ़ें :

Color Therapy: बॉडी को हेल्दी और मन को शांत रखने के लिए बेस्ट है कलर थेरेपी, जानिए इसके फायदे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज