• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Chaitra Navratri 2019: आज इस तरह करें मां महागौरी की पूजा, मिलेगा अद्भुत फल!

Chaitra Navratri 2019: आज इस तरह करें मां महागौरी की पूजा, मिलेगा अद्भुत फल!

devi mahagauri

devi mahagauri

Chaitra Navratri 2019: मां महागौरी धन, ऐश्वर्य, प्रदायनी, चैतन्यमयी, त्रैलोक्य पूज्य मंगला शारिरिक, मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली हैं

  • Share this:
    Chaitra Navratri 2019: आज नवरात्र के आठवें दिन भक्तजन मां दुर्गा के महागौरी स्वरुप की पूजा करेंगे. मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है. मां महागौरी की शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है. इनकी उपासना से भक्तों को सभी पाप धुल जाते हैं, पूर्वसंचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं. मां महागौरी ने अपनी तपस्या के द्वारा गौर वर्ण प्राप्त किया था. अतः इन्हें उज्जवल स्वरूप की महागौरी धन, ऐश्वर्य, प्रदायनी, चैतन्यमयी, त्रैलोक्य पूज्य मंगला शारिरिक, मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली माता महागौरी का नाम दिया गया है.

    शुरु हो जाएं ये 3 चीजें तो समझ लो कि पुरुष का दुर्भाग्‍य शुरू हो चुका है!

    उत्पत्ति के समय यह आठ साल की उम्र की होने के कारण नवरात्र के आठवें दिन पूजने से सदा सुख और शान्ति देती है. अपने भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप है. इसीलिए इसके भक्त अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन और सम्मान करते हुए महागौरी की कृपा प्राप्त करते हैं.

    यह धन-वैभव और सुख-शान्ति की अधिष्ठात्री देवी है. सांसारिक रूप में इसका स्वरूप बहुत ही उज्जवल, कोमल, सफेद वर्ण तथा सफेद वस्त्रधारी चतुर्भुज युक्त एक हाथ में त्रिशूल, दूसरे हाथ में डमरू लिए हुए गायन संगीत की प्रिय देवी है, जो सफेद वृषभ यानि बैल पर सवार है.

    सुहागरात में हर लड़की चाहती है पति करे ये काम, लेकिन बता नहीं पाती!

    मां महागौरी की आराधना से किसी प्रकार के रूप और मनोवांछित फल प्राप्त किया जा सकता है. उजले वस्त्र धारण किये हुए महादेव को आनंद देवे वाली शुद्धता मूर्ती देवी महागौरी मंगलदायिनी हों.

    प्रिय भोग: नवरात्रि के आठवें दिन माता को नारियल का भोग लगाएं व नारियल का दान कर दें. इससे संतान संबंधी परेशानियों से छुटकारा मिलता है.

    आयुर्वेदिक औषधीय गुण: अष्टम महागौरी को प्रत्येक व्यक्ति औषधि के रूप में जानता है क्योंकि इसका औषधि नाम तुलसी है जो प्रत्येक घर में लगाई जाती है. तुलसी सात प्रकार की होती है.
    बीजमंत्र:

    सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके.
    शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते.

    अर्थ: नारायणी! तुम सब प्रकार का मङ्गल प्रदान करनेवाली मङ्गलमयी हो. कल्याणदायिनी शिवा हो. सब पुरुषार्थो को सिद्ध करनेवाली, शरणागतवत्सला, तीन नेत्रोंवाली एवं गौरी हो. तुम्हें नमस्कार है.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज