लाइव टीवी

Coronavirus: फैमिली मेंबर में दिखें कोरोना के लक्षण या टेस्ट आए पॉजिटिव तो क्या करें? जानें

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 4:10 PM IST
Coronavirus: फैमिली मेंबर में दिखें कोरोना के लक्षण या टेस्ट आए पॉजिटिव तो क्या करें? जानें
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को महामारी घोषित किया है.

Coronavirus: इस सबके बीच यह बात राहत देने वाली है कि ज्यादातर ऐसे लोग कोरोना वायरस के केवल माइल्ड या मॉडरेट लेवल पर ही प्रभावित होंगे और उन्हें हॉस्पिटलाइजेशन की जरूरत संभवत: नहीं होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 4:10 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (coronavirus) संक्रमण के कारण सारी दुनिया में हाहाकार सा मचा हुआ है. इस वायरस से संक्रमित हजारों लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, लाखों लोग इस वायरस से संक्रमित हैं. पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैलने के बीच सच तो यह है कि संभवत: हममें से अधिकांश लोग किसी न किसी स्तर पर इसके असर से प्रभावित होगें. लेकिन, इस सबके बीच यह बात राहत देने वाली है कि ज्यादातर ऐसे लोग कोरोना वायरस के केवल माइल्ड या मॉडरेट लेवल पर ही प्रभावित होंगे और उन्हें हॉस्पिटलाइजेशन की जरूरत संभवत: नहीं होगी.

ऐसे में हममें से ज्यादातर लोगों के मन में इस नई बीमारी की चपेट में आने को लेकर तमाम तरह के सवाल-जवाब हैं. सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि वे कौन से लक्षण हैं जब आपको मेडिकल केयर की जरूरत है. न्यूयॉर्क टाइम्स के जरिए आइए जानें कुछ ऐसे सिम्पटम्स के बारे में जो यह बताते हैं कि आपको या आपके परिवार को कब चिकित्सकीय मदद की जरूरत होगी.

फ्लू जैसे लक्षण दिखने पर क्या करें?

अगर, आपको ऐसा लगता है कि आप में या परिवार के किसी सदस्य में किसी को फ्लू जैसे लक्षण हैं तो सावधानी बरतें. साथ ही ऐसे समय में डॉक्टर को फोन करें और उनके द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें. फ्लू जैसे लक्षण दिखने पर ज्यादा परेशान न हो.



 

सीधे अस्पताल पहुंचने से बचें

डॉक्टर से मिलने के लिए सीधे अस्पताल न पहुंचे. पहले उनसे फोन पर बातचीत के जरिए सभी चीजों की जानकारी लें. आवश्यकता होने पर ही अस्पताल जाएं. आप चाहें तो सरकार द्वारा जारी किए गए इमरजेंसी नंबर पर भी फोन कर सकते हैं. कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर तुरंत अस्पताल न जाएं, क्योंकि अस्पताल संभावित कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज के वहां पहुंचने से पहले कुछ नियमों का पालन कर रहे हैं, ताकि अस्पताल के स्टाफ और अन्य मरीजों को इस संक्रमण का खतरा न हों.

इमरजेंसी रूम में जानें की जल्दबाजी न करें

कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर जल्दबाजी करते हुए किसी भी अस्पताल के इमरजेंसी रूम में न जाएं. सभी अस्पतालों के इमरजेंसी रूम बहुत सारे बीमार मरीजों से भरा हुआ है. इमरजेंसी रूम में मौजूद डॉक्टर्स और नर्स भी ज्यादा काम करने की वजह से काफी थके हुए हैं.




अगर, आप बिना किसी कारण सिर्फ फ्लू के लक्षण दिखने पर इमरजेंसी रूम में जाते हैं तो हो सकता है कि किसी बीमार व्यक्ति को उस वक्त डॉक्टर की आवश्यकता हो वो इलाज न करवा पाए.





 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 4:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर