Covid-19: रेस्टोरेंट में खाना और किराने की दुकान पर जाने से भी वायरस का खतरा

रेस्टोरेंट में खाना वायरस का शिकार बना सकता है. Image Credit: Pexels/Adrienn
रेस्टोरेंट में खाना वायरस का शिकार बना सकता है. Image Credit: Pexels/Adrienn

कोरोना काल में रेस्टोरेंट( Restaurants) में खाने का शौक और किराने (Grocery) की दुकान से सामान खरीदने के लिए घर से बाहर जाना लोगों को वायरस का शिकार बना सकता है. ऐसा करने से लोगों में कोरोना वायरस (Corona virus) का जोखिम अधिक बढ़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 12:47 PM IST
  • Share this:
कोरोना काल में अगर आप रेस्टोरेंट( Restaurants) में खाना खाने जाते हैं और किराने (Grocery) की दुकान से सामान खरीदने के लिए घर से बाहर जा रहे हैं, तो आप सतर्क हो जाएं. क्योंकि एक अध्य्यन के अनुसार ऐसा करने से लोगों में कोरोना वायरस (Corona virus) का जोखिम अधिक बढ़ रहा है. अध्ययन में लोगों की इस गतिविधि को हवाई यात्रा (Air Travel) से भी ज्यादा जोखिमपूर्ण माना है. यह अध्ययन हार्वर्ड टीएच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ (Harvard T H Chan School of Public Health) के वैज्ञानिकों ने किया है. इसका खुलासा इस सप्ताह 'एविएशन पब्लिक हेल्थ इनिशिएटिव' नामक प्रकाशित लेख से हुआ है.

हवाई यात्रियों में ऐसे कम होगा वायरस का खतरा
अध्ययन में वैज्ञानिकों ने दावा किया कि अगर हवाई यात्री कोरोना वायरस के खिलाफ रोकथाम उपायों का पालन करते हैं, तो इसके संचरण में तेजी से कमी आ सकती है. बता दें कि हवाई अड्डों पर यात्रियों को नियमित रूप से हाथ धोने, मास्क पहनने और वहीं अथॉरिटी को हवाई जहाजों को सैनिटाइज करने के नियमों का पालन करने को कहा है. अध्ययन के मुताबिक अगर इन नियमों का पालन सावधानीपूर्क किया जाए तो यात्रियों को अन्य लोगों के रेस्टोरेंट में खाना खाने और किराने की दुकान से समान लाने जैसी गतिविधियों की तुलना में वायरस का खतरा कम हो सकता है.

ये भी पढ़ें - आईवीएफ तकनीक के जरिए बनना चाहते हैं माता-पिता, जान लें ये बातें
वायरस के खात्म के लिए शिक्षा और जागरूकता जरूरी


अध्ययन में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि शिक्षा और जागरुकता वायरस को हराने में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं. बता दें कि एयरलाइंस और एयरपोर्ट्स वायरस के संचरण को कम करने के लिए यात्रियों को सूचित करने का भी अभियान चला रहे हैं. इसमें चेक-इन, बोर्डिंग और विमान में बुकिंग के समय सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा जानकारी शामिल है. साथ ही केबिन क्रू को भी इस स्थिति से निपटने के लिए परीक्षण दिया गया है.

ये भी पढ़ें - न्यूमोकोकल टीका लगवाते समय इन साइड इफेक्ट का रखें ध्यान

दुनिया भर में 45 मिलियन से ऊपर पहुंचे केस
बता दें कि यह अध्ययन वैश्विक स्तर पर कोरोना के 45 मिलियन से अधिक मामलें होने के कारण सामने आया है. वर्ल्डोमीटर वेबसाइट के अनुसार कोरोना वायरस से दुनिया भर में 1,187,029 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में 1,21,090 लोगों ने वायरस से दम तोड़ दिया है और देश में शुक्रवार को संक्रमितों की 8,088,851 संख्या दर्ज हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज