• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • COVID 19 PANDEMIC KEEP YOUR CHILD BUSY IN THESE ACTIVITY IN LOCKDOWN PRA

Covid Time: बच्चों को ऐसे रखें बिजी, बनेंगे शार्प माइंड और हेल्दी

घर पर बच्‍चों को बिजी रखना बहुत जरूरी है. Image Credit : Pixabay

Keep Your Child Busy In Pandemic : कोरोना महामारी के दौरान घर से बाहर जाना असंभव है. ऐसे में बच्‍चे घर पर बोर न हों इसके लिए उन्‍हें व्‍यस्‍त रखना बहुत जरूरी है.

  • Share this:
    Keep Your Child Busy In Pandemic : कोरोना महामारी की वजह से सोसायटी में अकेलापन और मेंटल स्‍ट्रेस तेजी से बढ़ा है. होम आइसोलेशन की वजह से हर उम्र के लोग इससे प्रभावित हुए हैं  और उनमें डिप्रेशन, तनाव की गंभीर अवस्‍था देखने को मिल रही है. साइंस डेली में छपी अमेरिकन अकेडमी ऑफ चाइल्‍ड एंड अडोलेसेंट साइक्रिएट्री (JAACAP) में एक रिपोर्ट आई है जिसमें कोविड की वजह से 4 साल के बच्‍चों से लेकर युवाओं पर अध्‍ययन किया गया है. इसमें पाया गया है कि इस उम्र के बच्‍चों और युवाओं में मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का खतरा तेजी से बढ़ा है. ऐसे में पेरेंट्स की यह जिम्मेदारी बनती है कि वे अपने बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का पूरा-पूरा ध्यान रखें. ऐसे में हम यहां कुछ ऐसे आइडियाज़ शेयर कर रहे हैं जिसकी मदद से आप अपने बच्‍चों को लॉकडाउन के दौरान घर में बिजी रख सकते हैं.  यही नहीं, बिजी रहने से वे स्‍ट्रेस फ्री और रिलैक्‍स्‍ड भी रहेंगे.

    1.योग और एक्सरसाइज

    कोरोना काल में योग और एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है. ऐसे में बच्‍चों को
    योग के बारे में बताएं. उन्‍हें सूर्य नमस्कार और अन्य योगासन सिखाएं. इसके अलावा मेडिटेशन, प्राणायाम आदि की प्रैक्टिस कराएं. इससे बच्चे शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से हेल्‍दी रहेंगे.



    इसे भी पढ़ें : कोराना महामारी के बीच बच्चों में बढ़ रहा है मेंटल स्‍ट्रेस, इन टिप्स के जरिए रखें उनका ख्‍याल




    2.ऑनलाइन लर्निंग

    कोरोना काल में जब हर चीज ऑनलाइन संभव है तो बच्‍चों की जरूरतों को भी ऑनलाइन उपलब्‍ध कराने में हिचकिए मत. वर्तमान समय में ऑनलाइन काम करना और सीखना हमारी जीवनशैली का हिस्सा बन चुकी है. ऐसे में बच्चों को कला से जोड़ने के लिए कई ऑनलाइन कार्यक्रम ऑनलाइन उपलब्ध हैं. आप इनकी मदद से नृत्य, संगीत और कई अन्य एक्टिविटी में बच्‍चों को इंगेज करें. इन प्रोग्राम के जरिए बच्‍चों की पर्सनैलिटी डेवलपमेंट में बहुत फायदा मिलेगा.

    3.रीसाइकल टास्‍ट दें

    घर पर बच्चों को क्रिएटिव टास्क दें. पुरानी चीजों की रीसाइकिल करना और उनसे कुछ नया बनाना आदि के लिए प्रोत्‍साहित करें. उनकी बनाई चीजों को ड्रॉइंग रूम में डेकोरेट करें. ऐसा करने से बच्‍चों की क्रिएटिविटी बढ़ेगी और उन्‍हें प्रोत्‍साहन मिलेगा.

    4.घर के काम में लें मदद

    घर के काम में आप बच्चों की मदद ले सकते हैं. सब्जियों और फलों को धोने, डस्टिंग करने आदि में बच्चों की मदद लें, देखिएगा वे भी खूब एन्‍जॉय करेंगे. इस दौरान उन्‍हें सब्जियों के गुणों आदि के बारे में बताएं और खूब बात करें. अपने बचपन का एक्‍सपेरियंस भी आप शेयर कर सकते हैं. किसी भी काम को हेक्टिक ना बनाएं. गलतियों को माफ करते चलें और उन्‍हें डराएं नहीं.

    5.वीडियो कॉलिंग की दें इजाजत

    लोगों से इंटरेक्‍शन जरूरी है. ऐसे में वीडियो कॉलिंग के जरिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से उन्‍हें बात करने की छूट दें. इससे वे मोटिवे‍टेड रहेंगे और अकेलापन महसूस नहीं करेंगे.

    इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में बदल दें अपनी ये 6 बुरी आदतें, तभी संक्रमण से होगा बचाव



    6.इंडोर गेम्स

    इंडोर गेम्स जैसे चेस, कैरम, लूडो और रूबिक आदि जैसे खेलों से परिचय कराएं. ये मानसिक रूप से बच्चों को फिट रखने में मदद करेगा. इससे बच्चे काफी समय तक व्यस्त भी रहेंगे.

    7.अनुशासित रूटीन के साथ मौज मस्‍ती जरूरी

    बच्चों का अनुशासित रूटीन तैयार करें. इसमें बच्चों का खाने, खेलने, पढ़ने और सोने का समय तय करें. बच्चों का स्क्रीन टाइम कम करें. मोबाइल और टीवी देखने की एक समय सीमा तय करें. लेकिन उनके साथ मौज मस्‍ती भी करें. थोड़ा शरारत करने दें और अधिक टोकटाक ना करें.

    8.गार्डनिंग सिखाएं

    बच्चों को गार्डनिंग जरूर सिखाएं. इसके माध्‍यम से आप जीवन की बारीकियों को प्रैक्टिकली उन्‍हें समझा सकते हैं. इससे बच्चों में बहुत सी अच्‍छी आदतों को भी विकसित किया जा सकता है. पौधे लगाना और रोज पानी देना सिखाएं. पौधों का नाम रखें और उसकी जिम्‍मेदारी पूरी तरह से बच्‍चों को दें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Pranaty tiwary
    First published: