Amalaki Ekadeshi 2019: ब्रह्मा जी ने विष्णु जी की असलियत जानने के लिए की सालों तपस्या, पढ़िए व्रत कथा

Amalaki Ekadeshi 2019/Amalaki Ekadeshi Vrat Katha: ब्रह्मा जी की नाभि से निकले विष्णु भगवान तो कंफ्यूज हुए खुद ब्रह्मा जी, फिर किया ये...

News18Hindi
Updated: March 16, 2019, 9:03 AM IST
Amalaki Ekadeshi 2019: ब्रह्मा जी ने विष्णु जी की असलियत जानने के लिए की सालों तपस्या, पढ़िए व्रत कथा
Amalaki Ekadeshi 2019, God Vishnu- Brahma Ji
News18Hindi
Updated: March 16, 2019, 9:03 AM IST
Amalaki Ekadeshi 2019/Amalaki Ekadeshi Vrat Katha: आमलकी एकादशी 17 फ़रवरी को मनाई जाएगी. इस दिन आंवले के पेड़ के साथ भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. इसी दिन रंगभरनी एकादशी भी मनाई जाती है, जिसमें भगवान शिव को रंग लगाकर होली की तैयारियों की शुरुआत की जाती है. यही वजह है कि ये दिन शिव और विष्णु भक्तों दोनों के लिए महत्व रखता है.

Holi Herabal Colors: होली के लिए घर पर ऐसे तैयार करें हर्बल रंग, प्यार का रंग हो जाएगा गहरा!

आमलकी एकादशी व्रत कथा:
सृष्टि की शुरुआत में जब परमपिता ब्रह्मा जी की नाभि से भगवान विष्णु की उत्पत्ति हुई तो ब्रह्मा जी खुद इस बात को लेकर आश्चर्यचकित हुए और उनके मन में एक सवाल कौंधा कि आखिरकार ये कौन है जिसकी उत्पत्ति उन्हीं की नाभि से हुई है. अपने इस सवाल का जवाब पाने के लिए ब्रह्मा जी ने कई सालों तक परमब्रह्म की कठोर तपस्या की. इसके बाद भगवान विष्णु प्रकट हुए और ब्रह्मा जी से आंखें खोल वरदान मांगने को कहा. विष्णु जी को सामने देखकर ब्रह्मा जी की आंखों से खुशी के आंसू जमीन पर गिर गए. जहां उनके आंसू गिरे थे वहां आंवले का पेड़ उग आया. इसे देखकर मुस्कुराकर भगवान विष्णु ने कहा कि चूंकि इस पेड़ की उत्पत्ति आपके आंसुओं से हुई है इसलिए ये पेड़ और इसके फल मुझे हमेशा से पसंद होंगे. इस दिन जो भक्त भी सच्चे मन से आंवले के पेड़ की पूजा करेगा उसके सारे बुरे कर्मों का नाश होगा और उसे स्वर्ग की प्राप्ति होगी.

Amalaki Ekadeshi 2019: आमलकी एकादशी पर ऐसे करें भगवान विष्‍णु की पूजा, पूरी होगी हर मनोकामना!



रंगभरनी एकादशी व्रत कथा:
शिवपुराण में ऐसा उल्लेख है कि इस दिन देवी पार्वती का गौना हुआ था और वे शिव के पास आ गई थीं. देवी पार्वती के आने पर शिवभक्तों ने रंग खेलकर अपनी खुशी जताई थी. यही कारण है कि इसे रंगभरनी एकादशी भी कहते हैं. इस दिन काशी में भगवान शिव का विशेष श्रृंगार होता है और भक्त एक-दूसरे को गुलाल लगाकर खुशियां मनाते हैं.
Loading...

Holi 2019, Holika Dahan: होलिका की राख से करें ये उपाय, धन-धान्य से भर जाएगा घर, चमकेगी किस्मत!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...