HartalikaTeej 2019: हरतालिका तीज की तारीख को लेकर असमंजस, जानें कब है व्रत

News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 4:20 AM IST
HartalikaTeej 2019: हरतालिका तीज की तारीख को लेकर असमंजस, जानें कब है व्रत
HartalikaTeej 2019: हरतालिका तीज की तारीख को लेकर असमंजस, जानें कब है व्रत

HartalikaTeej 2019: यह तीज भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है. यह सभी तीजों से सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2019, 4:20 AM IST
  • Share this:
HartalikaTeej 2019: हिंदू धर्म में हरतालिका तीज (Hartalika Teej) के व्रत का काफी महत्व है. विवाहित महिलाएं इस दिन पति की लंबी आयु और सौभाग्य की कामना के साथ पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं और अगले दिन सूर्योदय के साथ स्नान और नित्यकर्म निपटाकर पूजा पाठ कर व्रत खोलती हैं. इस व्रत के दौरान भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है. यह व्रत भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन रखा जाता है. लेकिन इस बार इस व्रत की तारीख को लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है. कुछ जानकारों के मुताबिक़, इस बार हरितालिका व्रत 1 सितम्बर को है तो वहीं कुछ का कहना है कि यह 2 सितम्बर को है. आइए जानते हैं कि क्यों इस बार हरतालिका व्रत की तारीख को लेकर है उहापोह और किस तरह रखें इस बार यह व्रत.

दरअसल, हर बार यह व्रत भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन रखा जाता है जोकि गणेश चतुर्थी से एक दिन पहले पड़ती है. लेकिन इस साल के पंचांग के मुताबिक, तृतीया तिथि का क्षय हो रहा है. तो इस आधार पर अगर पंचांग की गणना की जाए तो इस बार जब 1 सितम्बर को सूर्योदय के समय द्वितीया तिथि लगेगी लेकिन यह 08 बजकर 27 मिनट पर समाप्त भी हो जाएगी. जानकारों के अनुसार, इसके बाद तृतीया लग जाएगी जोकि अगले दिन यानी कि 2 सितंबर को सूर्योदय से पहले ही सुबह 04 बजकर 57 मिनट खत्म भी हो जाएगी. इस तरह तृतीया तिथि को मान्य नहीं माना जाएगा क्योंकि इस तिथि में सूर्योदय हुआ ही नहीं. इसीलिए इस बार व्रत की तिथि को लेकर उहापोह बनी हुई है कि जब तृतीया नहीं है तो आखिर व्रत कब रखा जाए.

इस बार हरतालिका की तिथि को लेकर ज्योतिषियों में भी दो मत हैं. कुछ का कहना है कि चूंकि 1 सितंबर को दिनभर तृतीया रहेगी तो इस हिसाब से हरतालिका का व्रत 1 सितंबर को रखा जाना चाहिए. इसके साथ ही उनका कहना यह भी है कि हस्त नक्षत्र के दौरान ही हरतालिका का व्रत रखा जाता है और 1 सितम्बर को ही हस्त नक्षत्र भी लग रहा है. वहीं, कुछ ज्योतिष शास्त्रियों का मानना है कि तीज का व्रत इस बार 2 सितम्बर को रखा जाना चाहिए क्योंकि अगर ग्रहलाघव सिद्धांत पर आधारित पंचांग की सहायता ली जाये तो 2 सितंबर को सूर्योदय के बाद सुबह 8 बजकर 58 मिनट तक तृतीया तिथि रहेगी और इसके बाद चतुर्थी लग जाएगी. सीधे शब्दों में कहें तो सूर्योदय के बाद तृतीया रहेगी और पूरे दिन तक चतुर्थी. जानकारों के अनुसार, तृतीया और चतुर्थी का यह योग काफी शुभ माना जाता है.

नोट: हरतालिका की तिथि को लेकर इस बार काफी असमंजस है इसलिए बेहतर है कि आप किसी विद्वान् से सलाह लेने के बाद ही व्रत की तारीख को लेकर निश्चिंत हों.

ये है हरतालिका तीज:
यह तीज भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है. यह सभी तीजों से सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय है. हरतालिका तीज को बड़ी तीज व्रत के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपनी पति की लंबी आयु के लिए सारे दिन निर्जला उपवास रखती है. यह व्रत एक सूर्योदय से लेकर दूसरे सूर्योदय तक चलता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 4:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...