मकर संक्रांति का नाम क्यों है 'मकर संक्रांति', जानिए ऐसे ही 6 रोचक तथ्य

माना जाता है कि इस दिन सूर्य अपने पुत्र शनिदेव से नाराजगी त्याग कर उनके घर गए थे. इसलिए इस दिन को सुख और समृद्धि का माना जाता है.

News18Hindi
Updated: January 13, 2018, 2:55 PM IST
मकर संक्रांति का नाम क्यों है 'मकर संक्रांति', जानिए ऐसे ही 6 रोचक तथ्य
मकर संक्रांति
News18Hindi
Updated: January 13, 2018, 2:55 PM IST
मकर संक्रांति के दिन सूरज धनु राशि से मकर में प्रवेश करता है. एक राशि को छोड़ के दूसरे में प्रवेश करने की सूर्य की इस क्रिया को संक्रांति कहते है. सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है इसलिए इस समय को मकर संक्रांति कहा जाता है.

इस दिन सूर्य अपनी दिशा बदलकर दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है. इसी दिन ने दिन बढ़ना और रात छोटी होनी शुरू होती है. भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है.

सूर्य उदय के साथ ही पतंग उड़ाना शुरू हो जाता था. पतंग उड़ाने के पीछे की वजह कुछ घंटे सूर्य के प्रकाश में बिताना है.

सर्दी के मौसम में गर्मी तासीर वाली चीज़ें खाना सेहत के लिए फ़ायदेमंद होता है. इसीलिए दिन गुड़ और तिल से बने मिष्ठान खाए जाते हैं.

माना जाता है कि इस दिन सूर्य अपने पुत्र शनिदेव से नाराजगी त्याग कर उनके घर गए थे. इसलिए इस दिन को सुख और समृद्धि का माना जाता है.

यह पर्व भारत और नेपाल में फसलों के आगमन की खुशी के रूप में मनाया जाता है. इस समय खेतो में खरीफ की फसलें काटी जा चुकी और रबी की फसलें लहलहा रही होती है. अलग-अलग राज्यों में विविधता  की वजह ये इसे अलग-अलग स्थानीय तरीकों से मनाया जाता है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर