Sheetla Saptami 2019: आज इस विधि से करें शीतला सप्तमी व्रत, मिलेगी मां की कृपा!

Sawan 2019, Sheetla Saptami 2019:शीतला माता की पूजा के दिन यानी शीतला अष्टमी को चूल्हा नहीं जलाने की परंपरा है. शीतला सप्तमी से एक दिन पहले ही खाना बनाकर रख लिया जाता है.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 7:28 AM IST
Sheetla Saptami 2019: आज इस विधि से करें शीतला सप्तमी व्रत, मिलेगी मां की कृपा!
शीतला सप्तमी व्रत: पूजन विधि एवं महत्व
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 7:28 AM IST
Sawan 2019, Sheetla Saptami 2019: हिंदू धर्म में अनादि काल से श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को शीतला माता की पूजा और व्रत रखने का रिवाज रहा है. इस व्रत को शीतला सप्तमी का व्रत कहा जाता है. कई लोग माता आने (चेचक, चिकन पॉक्स) पर भी देवी की आराधना करते हैं. मान्यता है कि मां की कृपा से बुखार, टीबी, चेचक और संक्रमण फैलाने वाले विषाणुओं से मुक्ति मिलती है. यह भी माना जाता है कि जो भी जातक शीतला सप्तमी का यह व्रत करता है उसके परिवार के सदस्यों की काया भी निरोगी रहती है और उसे इस प्रकार के संक्रामक रोग नहीं होते हैं. आइए जानते हैं शीतला सप्तमी व्रत के बारे में-

पौराणिक धर्म ग्रंथों में माता शीतला की आराधना करते हुए लिखा गया है कि - ''शीतले त्वं जगन्माता शीतले त्वं जगत्पिता। शीतले त्वं जगद्धात्री शीतलायै नमो नमः।।

इसे भी पढ़ें: जब 45°C के ऊपर जाता है पारा, तो शरीर में ये होते हैं बदलाव?

इसका मतलब है कि- हे! मां शीतला आप ही इस विश्व की आदि माता हैं, आप ही पिता हैं और आप ही इस नश्वर दुनिया को धारण करतीं हैं, इसलिए मैं आपको बार बार प्रणाम करता हूं. माना जाता है कि माता शीतला के मंत्र 'ॐ ह्रीं श्रीं शीतलायै नमः' का जाप करने से सभी प्रकार के रोग, दोष और परेशानियों से मुक्ति मिलती है.

इसे भी पढ़ें: SUNDAY को करें ये काम, पूरा हफ्ता बीतेगा मजे में

पूजा विधि:
शीतला माता की पूजा के दिन यानी शीतला अष्टमी को चूल्हा नहीं जलाने की परंपरा है. शीतला सप्तमी से एक दिन पहले ही खाना बनाकर रख लिया जाता है. इसके बाद सुबह जल्दी उठकर शीतल माता की पूजा करने के बाद बसौड़े के तौर पर मीठे चावल का प्रसाद चढ़ाया जाता है. कई लोग इस दिन शीतली माता के मंदिर जाकर हल्दी और बाजरे से पूजा भी करते हैं. पूजा के बाद बसौड़ा व्रत कथा कही जाती है. पूजा के बाद परिवार के सभी लोगों को प्रसाद देकर एक दिन पहले बनाया गया बासी भोजन खाया जाता है.
Loading...

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 3:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...