Devshayani Ekadashi 2019: देवशयनी एकादशी आज, 4 महीने के लिए सो जाएंगे विष्णु भगवान, बंद हो जाएंगे सारे शुभ काम!

Devshayani Ekadashi 2019, देवशयनी एकादशी 2019: भगवान विष्णु आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को विश्राम में चले जाते हैं, इसे देवशयनी एकादशी की संज्ञा दी गई है.

News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:17 PM IST
Devshayani Ekadashi 2019: देवशयनी एकादशी आज, 4 महीने के लिए सो जाएंगे विष्णु भगवान, बंद हो जाएंगे सारे शुभ काम!
Devshayani Ekadashi 2019, देवशयनी एकादशी 2019: देवशयनी एकादशी: इस दिन 4 महीने के लिए सो जाएंगे विष्णु भगवान, बंद हो जाएंगे सारे शुभ काम!
News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:17 PM IST
Devshayani Ekadashi 2019, देवशयनी एकादशी 2019: हिंदू धर्म में अषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी का काफी महत्व है. इसे देवशयनी एकादशी (हरिशयनी एकादशी) भी कहा जाता है. साथ ही इसके अन्य कई नाम भी हैं. आज 12 जुलाई शुक्रवार को हरिशयनी एकादशी मनाई जा रही है. मान्यता है कि इस दिन से भगवान विष्णु सोना शुरू करते हैं और फिर चार महीने बाद यानी कि देवप्रबोधिनी एकादशी के दिन जोकि कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को पड़ती है, के दिन जागते हैं. मान्यता है कि इस दौरान विश्व में कोई भी शुभ काम जैसे शादी, विवाह और धर्म से संबंधित अन्य संस्कार करने की मनाही होती है. इस दिन संन्यास आश्रम ग्रहण कर चुके लोगों का चातुर्मास्य व्रत शुरू होता है.

मान्यता है कि भगवान विष्णु आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को विश्राम में चले जाते हैं, इसे देवशयनी एकादशी की संज्ञा दी गई है. इस बीच कोई भी शुभ काम करने से परहेज करना चाहिए. जब तक जगत के पालनहार भगवान विष्णु निद्रा में लीन रहते हैं तब तक भगवान शिव और अन्य देवी देवता सृष्टि का संचालन करते हैं.



जब 45°C के ऊपर जाता है पारा, तो शरीर में ये होते हैं बदलाव?

विष्णु भगवान जब चार महीने बाद यानी कि देवप्रबोधिनी एकादशी के दिन जब जागते हैं तो माना जाता है देवी देवता स्वर्ग से पुष्प वर्षा करते हैं और खुशियां मनाते हैं. इस दौरान लोग मांगलिक कार्यों को करने पर जोर देते हैं क्योंकि ऐसी मान्यता है कि इस समय किए गए काम शुभ फलदायी होते हैं. देवउठनी एकादशी को देव दिवाली भी कहा जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन सभी देवी-देवता भगवान विष्णु के जागने की ख़ुशी में धरती पर आकर दिवाली का जश्न मनाते हैं.

वार्डरोब में शामिल करें फ्लोरल प्रिंट, भारत के प्रमोशन में कटरीना ने भी कैरी किया ये लुक

देवशयनी एकादशी के बीच ही दीपावली का त्यौहार भी पड़ता है और इस समय भगवान विष्णु निद्रा में रहते हैं इसी कारण लक्ष्मी जी की पूजा गणेश जी के साथ की जाती है. जब भगवान विष्णु जागे तो सभी देवी देवताओं ने भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की आरती की. इस कारण ही इस दिन देव दिवाली मनाने का रिवाज प्रचलित हुआ.

लाइफस्टाइल, खानपान, रिश्ते और धर्म से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...