अपना शहर चुनें

States

नेचुरल माउथ फ्रेशनर और दांतों के लिए वरदान है दातुन, जानिए इसके फायदे

आयुर्वेद में नीम के दातून को बहुत फायदेमंद बताया गया है. Image Credit/Youtube
आयुर्वेद में नीम के दातून को बहुत फायदेमंद बताया गया है. Image Credit/Youtube

दांतों को साफ (Clean Teeth) करने के लिए बहुत से लोग आज भी दातुन (Datun) का इस्‍तेमाल करना पसंद करते हैं. औषधीय गुणों (Medicinal Properties) से भरपूर दातून के बहुत से फायदे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 10:08 AM IST
  • Share this:
भारत में प्राचीन काल से ही दांतों को साफ  (Clean Teeth) करने के लिए कई परंपरागत तरीके अपनाए जाते हैं. इसी में से एक दातुन (Datun) का इस्‍तेमाल भी है. दातुन किसी खास तरह के पेड़ की पतली टहनी से बना होता है. वैसे तो इसके लिए कई तरह के पेड़ों की टहनियां इस्‍तेमाल की जा सकती हैं, मगर नीम, बेर और बबूल आदि के दातून काफी फायदेमंद माने जाते हैं. वैसे तो आजकल दांतों को मजबूत बनाए रखने का दावा करने वाले कई अच्‍छे टूथपेस्ट और हर्बल टूथपेस्‍ट भी मिल जाते हैं, मगर औषधीय गुणों (Medicinal Properties) से भरपूर दातून के अलग ही फायदे हैं. दातून से एक फायदा यह भी होता है कि इससे आप अपने दांतों के साथ अपनी जीभ भी साफ कर सकते हैं. ऐसे में आप भी जानिए कि कौन से दातून खास हैं और इनके क्‍या फायदे हैं.

नीम का दातून
दातून का इस्‍तेमाल पुराने समय से ही किया जाता रहा है. आयुर्वेद में नीम के दातून को बहुत फायदेमंद बताया गया है. माना जाता है कि दातून से दांत तो साफ और स्‍वस्‍थ रहते ही हैं, इसके इस्‍तेमाल से पाचन क्रिया भी दुरुस्‍त रहती है.

बेर का दातुन
माना जाता है कि नीम की तरह बेर के पेड़ की टहनी से बना दातून भी जहां दांतों के लिए फायदेमंद होता है, वहीं इससे गले की खराश आदि भी दूर होती है और आवाज साफ होती है.



ये भी पढ़ें - नेफ्रोटिक सिंड्रोम: ज्यादातर बच्चों में होती है ये घातक बीमारी

बबूल का दातुन
नीम और बेर के दातून के अलावा लोग बबूल की टहनी से बने दातून को भी इस्‍तेमाल करना पसंद करते हैं. इसके पीछे माना जाता है कि बबूल का दातुन मसूड़ों को भी स्‍वच्‍छ रखता है और दांतों को मजबूती देता है.

दातुन करने के फायदे
दातून करने के कई फायदे होते हैं. माना जाता है कि अगर आप नियमित तौर पर दातुन करते हैं तो दांतों में कीड़ा नहीं लगता. इसके पीछे वजह यह है कि दातुन पूरी तरह से प्राकृतिक औेर किटाणुनाशक होता है और इससे अच्‍छी तरह से दांत और जीभ अंदर तक साफ हो जाते हैं. ऐसे में दांतों का कीड़ों से बचाव रहता है.

मसूड़े मजबूत बनते हैं
नीम के दातुन को सबसे अच्‍छा माना जाता है. इसके पीछे वजह यह है कि नीम के दातुन से नियमित तौर पर दांत साफ करने से मसूड़ों को मजबूती मिलती है और दांत साफ रहते हैं.

दांतों की समस्‍याएं होंगी दूर
आज की बदलते लाइफस्‍टाइल में कुछ भी और कभी भी खा लेना दांतों को नुकसान पहुंचा रहा है. ऐसे में दांतों में कई तरह की दिक्‍कतें हो रही हैं. ऐसे में पायरिया की समस्या भी होना आम हो गया है. मगर दातून के इस्‍तेमाल से इस समस्‍या से बचाव रहता है.

ये भी पढ़ें - जानिए क्या है कीगल एक्सरसाइज, यौन संबंधों में है फायदेमंद

नेचुरल माउथ फ्रेशनर है
इसके अलावा दातुन नेचुरल माउथफ्रेशनर भी है. खासतौर पर नीम का दातुन मुंह से आने वाली दुर्गंध का नाश करता है. जिन लोगों को मुंह से दुर्गंध आती है, उनके लिए दातुन बहुत फायदेमंद रहता है. इसके लिए सुबह और रात में सोने से पहले दातुन करना फायदेमंद रहता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज