Home /News /lifestyle /

कुल्हड़ में चावल, छोले और पालक का स्वाद बन जाता है लाजवाब, फतेहपुरी में 'गोल हट्टी' पर लें ये ज़ायका

कुल्हड़ में चावल, छोले और पालक का स्वाद बन जाता है लाजवाब, फतेहपुरी में 'गोल हट्टी' पर लें ये ज़ायका

इस रेस्तरां की कई फूड डिश काफी फेमस हो चुकी हैं.

इस रेस्तरां की कई फूड डिश काफी फेमस हो चुकी हैं.

Delhi Food Outlets: कुल्हड़ वाली चाय का जायका तो कई लोगों ने लिया होगा लेकिन क्या कभी कुल्हड़ में चावल, छोले और पालक का स्वाद लिया है. अगर नहीं तो आज हम आपको ऐसे रेस्तरां में लिए चल रहे हैं जहां कुल्हड़ के चावल, छोले और पालक का अलग ही स्वाद मिलता है जो और कहीं नसीब नहीं होता है. इस दुकान के गुलाबजामुन, रसमलाई भी काफी फेमस हैं.

अधिक पढ़ें ...

Delhi food outlets: भोजन को परोसने के कई तरीके हैं और उसे सजावट देने के लिए कई प्रकार की क्रॉकरी व बर्तन भी हैं. भारतीय भोजन को हरे-भरे पत्तल से लेकर चांदी की प्लेटों में परोसने का रिवाज रहा है. लेकिन आज हम आपको ऐसे रेस्तरां में लेकर चल रहे हैं जो कुल्हड़ में चावल, छोले और पालक की तरी परोसता है. कुल्हड़ (Kulhad) की मिट्टी में समाकर इस भोजन का स्वाद गजब हो जाता है. जब से यह रेस्तरां खुला है, तब से इस भोजन को यहां कुल्हड़ में परोसने की परंपरा है. ऐसे भी लोग हैं, जिनको कुल्हड़ में यह डिश खाने की आदत पड़ी हुई है और दूसरे लोग चाहें प्लेट में खाएं, कुल्हड़ के दीवाने आज भी पुराने चलन को आजमाए हुए हैं.

चावल-छोले-पालक में कुल्हड़ की मिट्टी की खुशबू

पुरानी दिल्ली का खारी बावली बाजार दुनियाभर के मसालों व किराना सामान के लिए मशहूर है. पहले यहां यह कारोबार थोक में ही होता था, लेकिन अब रिटेल में भी चल रहा है. फतेहपुरी से इस बाजार में घुसने से पहले ही दायीं ओर मुहाने पर ‘गोल हट्टी’ के नाम से सालों पुराना रेस्तरां है. रेस्तरां क्या है जनाब, भूख शांत करने का खजाना है. किसी भोजन प्रेमी (Food Lover) को पेट और मन भरने के लिए जो चाहिए, वह इस रेस्तरां में हाजिर है. लेकिन बात तो कुल्हड़ वाले व्यंजन की हो रही है. आप रेस्तरां के अंदर बैठिए या पुरानी दिल्ली का नजारा देखते हुए कुल्हड़ वाले छोले-पालक की ग्रेवी चावल के पुलाव का ऑर्डर दीजिए, मिनटों में वह आपके सामने पेश कर दिया जाएगा.

इस रेस्तरां पर खाने के लिए एक से एक जानदार व्यंजन मौजूद हैं.

इस रेस्तरां पर खाने के लिए एक से एक जानदार व्यंजन मौजूद हैं.

बड़े कुल्हड़ में पहले पुलाव भरा जाता है फिर उसके ऊपर छोले व पालक की गाढ़ी तरी बिछाई जाती है. इनके ऊपर खट्टी चटनी के अलावा कटी प्याज व गाजर का अचार परोसा जाता है. खाइए देखिए, अलग ही मजा आएगा. कारण यह कि गरम व्यंजन के साथ कुल्हड़ की मिट्टी की खुशबू भी आपको महसूस होगी. इस भोजन की एक विशेषता यह भी है कि यह मसालेदार तो है लेकिन तीखापन बिल्कुल भी नहीं है. खाइए और पैक करवाकर ले जाइए. घरवालों को भी आनंद मिलेगा. भरे-पूरे एक कुल्हड़ की कीमत 90 रुपये है.

इसे भी पढ़ें: दिन में मटन तरीवाला और बिरयानी, शाम ढले मटन चाप और टिक्का, आजाद मार्केट में ‘सरदार जी मीट वाला’ पर आकर खाएं

छोले-कुलचे व रसमलाई भी है स्वादिष्ट

इस रेस्तरां पर खाने के लिए एक से एक जानदार व्यंजन हैं. बड़ी बात यह है कि उनका स्वाद आपको अलग ही महसूस होगा. इस रेस्तरां के छोले-कुलचे भी खासे मशहूर हैं. दूर-दूर से लोग खाने आते हैं. यहां मिलने वाले छोलों में ऑयल की भरमार नहीं है. मसाले भी सधे हुए हैं, लेकिन स्वाद मन को मोहता है. इनके गाजर के अचार का स्वाद भी अलग है, तीखापन न के बराबर लेकिन खट्टापन भरा हुआ है.

इस रेस्तरां के छोले-कुलचे भी खासे मशहूर हैं. दूर-दूर से लोग खाने आते हैं.

इस रेस्तरां के छोले-कुलचे भी खासे मशहूर हैं. दूर-दूर से लोग खाने आते हैं.

यहां पर छोले-भटूरे, आलू की टिक्की, समोसा, दही भल्ला के अलावा रसमलाई, रसगुल्ले व गुलाब जामुन भी मिलते हैं. लेकिन खाने के शौकीनों का मन कुल्हड़ वाला व्यंजन, छोले-कुलचे और रसमलाई में ही अधिक रमता है. इन सभी व्यंजनों का मूल्य 40 रुपये से लेकर 90 रुपये तक है.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में राजमा-चावल का असली स्वाद चखना हो तो कनॉट प्लेस में ‘ढाबा फूड’ पर पहुंचें

लाहौर का स्वाद आज भी है बरकरार

इस रेस्तरां को चलाने वाले लोग देश विभाजन के चलते लाहौर से आए थे. विभाजन से पहले लाहौर में भी उनका यही काम था. वर्ष 1954 में दो भाई नत्थूराम व रामकिशन ने इस रेस्तरां की शुरुआत की और पुरानी दिल्ली के लोगों को लाहौर का यह शाकाहारी भोजन खिलाया. यहां शुरू से ही कुल्हड़ वाले चावल-छोले-पालक के अलावा छोले-कुलचे परोसे जा रहे हैं. बाद में माहौल को देखते हुए और भी व्यंजन जोड़ लिए गए. आज इस रेस्तरां की जिम्मेदारी उनके बेटे जेपी कंबोज, यशपाल व विनोद सूदन के पास है.

सभी व्यंजनों का मूल्य 40 रुपये से लेकर 90 रुपये तक है.

सभी व्यंजनों का मूल्य 40 रुपये से लेकर 90 रुपये तक है.

उनका कहना है कि लाहौर वाला स्वाद आज भी कायम है. हम संतुलित मसाले डालते हैं, जो लोगों को भाते हैं. सुबह 11 बजे खानपान शुरू हो जाता है और रात 8 बजे तक कामकाज समाप्त हो जाता है. रविवार को अवकाश रहता है.

नजदीकी मेट्रो स्टेशन: चांदनी चौक

Tags: Food, Lifestyle

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर