लाइव टीवी

दिल्ली में पेयजल पर राजनीति, कितना शुद्ध है आपके घर आने वाला पीने का पानी!


Updated: November 21, 2019, 6:53 PM IST

अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) की दिल्ली सरकार (Kejriwal Government) द्वारा दिए जा रहे पेयजल की शुद्धता (Quality of Drinking Water) पर बहस छिड़ गई है. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) से पहले आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच आरोप प्रत्यारोप का यह दौर और तेज होगा.

  • Last Updated: November 21, 2019, 6:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार स्वच्छ पेयजल सबका अधिकार  है. दुनिया भर में पीने के पानी की किल्लत (Water Crisis) लगातार बढ़ रही है. सभी को साफ पीने का पानी मुहैया नहीं हो पा रहा है. भारत की राजधानी दिल्ली में साफ पानी को लेकर हाल ही में आई सरकार की रिपोर्ट ने नया राजनीतिक विवाद (Delhi Water Crisis) खड़ा कर दिया है. यहां अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की दिल्ली सरकार द्वारा दिए जा रहे पेयजल की शुद्धता पर बहस छिड़ गई है. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) से पहले आम आदमी पार्टी (AAP) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच आरोप प्रत्यारोप का यह दौर और तेज होगा. आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि आप जो पानी पी रहे हैं वो शुद्ध है या नहीं.

हमारे शरीर के लिए साफ पानी पीना बेहद जरूरी है. पानी में गंदगी न हो इसके लिए सबसे पहले तो उसके रंग, गंध और स्वाद से ही उसे जांच लें. अगर पानी का रंग बदला हुआ है या उसमें से गंध आ रही है तो समझ जाइए कि यह पानी पीने योग्य नहीं है. रंग और गंध ठीक होने के बावजूद यदि आपको इसके स्वाद में कुछ अजीब लगता है तो भी इसे बिल्कुल मत पीजिए.

हमारे शरीर के प्रत्येक अंग को पानी की आवश्यकता होती है. हमारी हड्डियां भी इस पानी का उपयोग रोजाना करती हैं. खाना न मिले तो हम 18 दिन तक जीवित रह सकते हैं लेकिन अगर हमारे शरीर को सात दिन तक पानी नसीब नहीं होता तो हमारी मौत निश्चित है. इससे आप समझ सकते हैं कि जल ही जीवन क्यों कहा जाता है.

RO Water कितना शुद्ध

water crisis, Chhattisgarh, Bijapur, water project, बीजापुर में पानी की समस्या, छत्तीसगढ़, रायपुर में पानी की समस्या
अशुद्ध पानी पीने की वजह से कई तरह की बीमारियां हो सकतीं है.


पानी न केवल हमें तमाम तरह की बीमारियों से बचाता है बल्कि हमें स्वस्थ भी रखता है. डॉक्टरों के मुताबकि हमें रोजाना 10-12 गिलास पानी पीना चाहिए. लेकिन क्या यह पानी शुद्ध है इसकी जांच भी बेहद जरूरी है. यहां आपको यह जानना भी जरूरी है कि आरओ का पानी साफ तो हो सकता है लेकिन जरूरी नहीं कि वह हमारे शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक हो. क्योंकि पानी में कई तरह के बैक्टीरिया ऐसे होते हैं जो हमारे लिए जरूरी होते हैं.

कंज्यूमर एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट के मुताबिक आरओ का इस्तेमाल करने वाले घरों और न करने वाले परिवारों में बीमारी का अनुपात बराबर है. यानी 50-50. आरओ में पानी को शुद्ध करने के लिए खास तरह की मेंब्रेन का इस्तेमाल किया जाता है. इससे हमारे शरीर के लिए बुरे के साथ-साथ अच्छे जीवाणु भी नष्ट हो जाते हैं. इससे पानी में शामिल मिनरल हमारे शरीर में नहीं पहुंच पाते. अच्छे जीवाणु पेट से जुड़े रोगों से हमारे रक्षा करते हैं.शुद्धता की पहचान कैसे करें
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पानी की शुद्धता के कुछ मानक तय किए हैं. पानी का टोटल डिजाल्व सॉलिड यानी कि डीटीएस से इसकी शुद्धता मापी जाती है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक 100 से 150 टीडीएस वाला पानी पीने के लिए ठीक बताया गया है. आप अपने घर पर आरओ या यूवी उपकरण लगाने से पहले सप्लाई हो रहे पानी का टी़डीएस जांच ले. अगर यह तय मानक से अधिक हो तो ही यह उपकरण लगवाएं.

Package water business source
पैकेड्ज पानी का बिजनेस करने वाली कंपनियां नदी, नालों और ग्राउंड वाटर का इस्तेमाल करतीं हैं.


आपके घर नगर निगम की सप्लाई नहीं है और आप बोतलबंद पानी से काम चला रहे हैं तो भी आप निश्चिंत नहीं हो सकते. बोतलबंद पानी को किसी भी मायने में शुद्ध मान लेना ठीक नहीं है. पैकेज्ड पानी में शरीर को नुकसान पहुंचाने वाला जीवाणु गायर्डिया पाया जाता है. पैकेड्ज पानी का बिजनेस करने वाली कंपनियां नदी, नालों और ग्राउंड वाटर का इस्तेमाल करतीं हैं. इस पानी को साफ करने के लिए वो इनमें कोगुलेंट्स केमिकल का इस्तेमाल करतीं हैं. इससे पानी में मौजूद गंदगी नीचे जमा हो जाती है लेकिन वह शुद्ध नहीं होता.

अशुद्ध पानी पीने की वजह से कई तरह की बीमारियां हो सकतीं है. अशुद्ध पानी पीने की वजह से हैजा, गेस्ट्रोएन्ट्राइटिस, टॉयफाइड, पोलियो, पीलिया, डायरिया और चर्मरोग जैसी बीमारियां हो सकतीं हैं.

ये भी पढ़ें:

अब हड्डी टूटने पर नहीं लगेगा प्लास्टर, नई तकनीक से खुजली और बदबू से भी मिलेगी मुक्ति
बचाना चाहते हैं अपनी बत्तीसी तो अपनाएं यह आसान तरीका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 3:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर