भूलने की है बीमारी तो रोज करें ये योगासन

डिमेंशिया के दो कारण हो सकते हैं. पहला तो मस्तिष्क की कोशिकाओं का नष्ट हो जाना और दूसरा उम्र के साथ मस्तिष्क की कोशिकाओं का कमजोर होना

News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 6:21 PM IST
भूलने की है बीमारी तो रोज करें ये योगासन
डिमेंशिया के दो कारण हो सकते हैं. पहला तो मस्तिष्क की कोशिकाओं का नष्ट हो जाना और दूसरा उम्र के साथ मस्तिष्क की कोशिकाओं का कमजोर होना
News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 6:21 PM IST
Dementia शब्द 'de' मतलब without और 'mentia' मतलब mind से मिलकर बना है. डिमेंशिया को आम बोल चाल में लोग भूलने की बीमारी के रूप में जानते हैं. लेकिन इसे पहचानने का केवल यही एक कारण नहीं है. डिमेंशिया के अनेक गंभीर और चिंताजनक लक्षण होते हैं. यह अधिकतर 65 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों को होती है. इसका अर्थ यह नहीं कि उससे कम उम्र वाले लोगों को यह बीमारी नहीं छू सकती. कम उम्र के लोगों में इसकी शुरुआत अल्जाइमर नाम की बीमारी से होती है.

डिमेंशिया के दो कारण हो सकते हैं. पहला तो मस्तिष्क की कोशिकाओं का नष्ट हो जाना और दूसरा उम्र के साथ मस्तिष्क की कोशिकाओं का कमजोर होना.

डिमेंशिया के लक्षण

- स्मरण शक्ति कमजोर हो जाना

- व्यक्तित्व में बदलाव
- नंबर जोड़ने-घटाने में दिक्कत
- छोटी-छोटी समस्याओं को भी न सुलझा पाना
Loading...

योग से ऐसे हो सकता है समाधान

प्राणायाम और ध्यान- प्राणायाम आपके मस्तिष्क के लिए बहुत फायदेमंद है. सिद्धासन में बैठकर हर सुबह और शाम 10 मिनट तक अनुलोम-विलोम करें और उसके बाद 10 मिनट तक ध्यान करें. इसे लगातार तीन महीने तक करते रहें.

सूर्य नमस्कार- सूर्य नमस्कार में लगभग प्रमुख आसनों का समावेश हो जाता है और आपके शरीर को तंदुरुस्त बनाए रखने में मददगार साबित होता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
First published: August 12, 2019, 6:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...