लाइव टीवी
Elec-widget

डिप्रेशन की वजह से कड़वे और मीठे का फर्क नहीं कर पाती जीभ: रिसर्च

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 9:39 AM IST
डिप्रेशन की वजह से कड़वे और मीठे का फर्क नहीं कर पाती जीभ: रिसर्च
डिप्रेशन की वजह से कड़वे और मीठे का फर्क नहीं कर पाती जीभ

रिसर्च को लीड करने वाले प्रो. श्रीकांत श्रीवास्तव ने जानकारी दी कि जिन मरीजों में ये समस्या पायी गयी वो डिप्रेशन से पहले बिल्कुल सामान्य थे. उनकी स्वाद ग्रंथियां ठीक तरीके से काम कर रही थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 9:39 AM IST
  • Share this:
खाना चाहे वो खट्टा, मीठा, तीखा या नमकीन हो उसका स्वाद तभी पता चलता है, जब टेस्ट ग्लैंड ठीक तरह से काम करें. आम भाषा में हम इसे जुबान का स्वाद ठीक होना या खराब होना भी कहते हैं, लेकिन हर बार आपकी जुबान के खराब स्वाद के पीछे केवल स्वाद गरंटी जिम्मेदार नहीं हो सकती. इसके पीछे डिप्रेशन भी एक कारण हो सकता है. एनबीटी ने लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज (केजीएमयू)  के जीरियाटिक ऐंड मेंटल हेल्थ विभाग द्वारा की गई एक रिसर्च को प्रकाशित किया है, जिसमें यह बात सामने आई है. आइए जानते हैं क्या कहती है यह रिसर्च...

केजीएमयू ने 200 मरीजों में 40 पर इस रिसर्च को किया. रिसर्चर्स ने मरीजों को दो भागों में बांटा- 60 से कम उम्र के मरीज और दूसरा 60 से 80 साल तक के मरीज. इस रिसर्च में यह बात सामने आई कि अगर कोई व्यक्ति डिप्रेशन से जूझ रहा है, तो उसे कड़वा या मीठा ठीक से समझ नहीं आता है; लेकिन मरीजों ने नमकीन स्वाद को आसानी से पहचान लिया.

इसे भी पढ़ें: इस कोर्स में हुए फेल तो जिंदगी भर रह जाएंगे कुंवारे, छीन लिया जाएगा शादी का अधिकार

रिसर्च को लीड करने वाले प्रो. श्रीकांत श्रीवास्तव ने जानकारी दी कि जिन मरीजों में ये समस्या पायी गयी वो डिप्रेशन से पहले बिल्कुल सामान्य थे. उनकी स्वाद ग्रंथियां ठीक तरीके से काम कर रही थीं. रिसर्चर्स का यह भी मानना है कि जो लोग ठीक से स्वाद को न समझ पाने की शिकायत करते हैं वो किसी न किसी मानसिक दबाव से जूझ रहे होते हैं या डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: अच्छी नींद के लिए आज ही शुरू कर दें योग: रिसर्च

उन्होंने ये भी बताया कि डिप्रेशन के पहले फेज में पता चला कि लोगों को स्वाद बदला हुआ महसूस हुआ. दूसरे फेज में रिसर्चर्स ने यह पता लगाने की कोशिश की कि कहीं दवाओं के सेवन के कारण लोगों की जुबान का स्वाद नहीं बिगड़ रहा है, लेकिन गहन रूप से पड़ताल करने के बाद पता चला कि दवाओं के सेवन की वजह से स्वाद ग्रंथि या जुबान के स्वाद में कोई परिवर्तन नहीं आया था.

रिसर्चर्स अब यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिरकार ऐसा क्यों होता है, ताकि रोगी के इलाज में थोड़ी मदद मिल सके.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 9:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...