Home /News /lifestyle /

डिजिटल मल्टीटास्किंग हो सकती है बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक - स्टडी

डिजिटल मल्टीटास्किंग हो सकती है बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक - स्टडी

डिजिटल मल्टीटास्किंग बच्चे के लिए नुकसानदायक-Image/shutterstock

डिजिटल मल्टीटास्किंग बच्चे के लिए नुकसानदायक-Image/shutterstock

Digital Multitasking: आज कल बच्चों (Children) का सबसे ज्यादा समय स्मार्ट फोन, कम्प्यूटर, टेलीविजन, टैबलेट जैसी इलेक्ट्रॉनिक चीजों पर ही ज्यादा गुजरता है. कोरोना के इस दौर ने बड़े ही नहीं बल्कि छोटे-छोटे बच्चों के हाथ में भी स्मार्ट फोन (Smartphone) थमा दिया है. जिस पर वो एक नहीं बल्कि कई-कई घंटे बिताते हैं. एक रिपोर्ट में ये सामने आया है कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर मल्टीटास्किंग (Multitasking) बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकती है.

अधिक पढ़ें ...

    Digital Multitasking: कुछ समय पहले तक बच्चे (Children) अपना ज्यादातर समय वीडियो गेम खेलने में ही बिताया करते है. जिसको बच्चों की सेहत (Health) के लिए नुकसानदायक बताया जाता था. लेकिन आज कल बच्चों का सबसे ज्यादा समय स्मार्ट फोन, कम्प्यूटर, टेलीविजन, टैबलेट जैसी इलेक्ट्रॉनिक चीजों पर ही ज्यादा गुजरता है. कोरोना के इस दौर ने बड़े ही नहीं बल्कि छोटे-छोटे बच्चों के हाथ में भी स्मार्ट फोन (Smartphone) थमा दिया है. जिस पर वो एक नहीं बल्कि कई घंटे बिताते हैं.

    इस बारे में foxnews.com में प्रकाशित एक खबर के अनुसार एक रिपोर्ट में ये सामने आया है कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर मल्टीटास्किंग बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकती है. आइये जानते हैं इसके बारे में.

    बच्चों पर किया गया सर्वे

    बच्चे अपना ज्यादातर समय टेलीविजन, कंप्यूटर, टैबलेट, स्मार्टफोन और वीडियो गेम जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर ज्यादा बिताते हैं. लक्ज़मबर्ग विश्वविद्यालय और यूनिवर्सिटी डी जेनेव के शोधकर्ताओं की एक टीम ने 8 से 12 साल की उम्र के 118 स्विस लड़कों और लड़कियों की स्टडी की.

    ये भी पढ़ें: ड्राई फ्रूट की मदद से आप घटा भी सकते हैं वजन, डाइट में जरूर शामिल करें इन्हें

    इसमें  इलेक्ट्रॉनिक चीजों के इस्तेमाल के साथ-साथ इस बात की भी जांच की गई कि उनका ध्यान किस चीज पर सबसे ज्यादा रहता है. इसके लिए एक सर्वे पेपर तैयार किया गया जिसमें नींद, ग्रेड और मानसिक स्वास्थ्य जैसी चीजों के बारे में बच्चों के माता-पिता से जानकारी हासिल की गयी थी.

    सर्वे में आयी ये बात सामने

    सर्वे के अनुसार ये बात सामने आयी कि बच्चों द्वारा बिताया गया कुल समय मेंटल हेल्थ को इफेक्ट नहीं करता है. बल्कि जब बच्चे एक साथ कई इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स का इस्तेमाल करते हैं, जैसे कि टेक्स्टिंग करते समय टेलीविजन देखना. तो इससे बच्चों को ज्यादा स्ट्रेस या बाकी कई सारी दिक्कतें हो सकती हैं.

    ये भी पढ़ें: Health News: एंटी एजिंग के लिए दवा से बेहतर असर करती है डाइट- नई स्टडी

    लड़कों ने बिताया लड़कियों से ज्यादा समय

    डेटा से यह भी पता चला कि बच्चे आठ साल की उम्र के आसपास तक दिन में लगभग साढ़े चार घंटे मीडिया मल्टीटास्किंग पर बिताते थे. लेकिन जैसे-जैसे वे बड़े होते गए उन्होंने बारह साल की उम्र तक आते-आते आठ से ज्यादा घंटे का समय इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर बिताया. रिपोर्ट में ये बात भी सामने आयी कि लड़कों ने लड़कियों की तुलना में वीडियो गेम पर ज्यादा समय बिताया.

    Tags: Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर