लाइव टीवी

Diwali 2019: दिवाली में अस्थमा के मरीज अपनाएं ये खास टिप्स, पटाखों के धुएं से नहीं होगा इंफेक्शन

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 1:15 PM IST
Diwali 2019: दिवाली में अस्थमा के मरीज अपनाएं ये खास टिप्स, पटाखों के धुएं से नहीं होगा इंफेक्शन
अस्‍थमा एक गंभीर बीमारी है, जो सांस लेने की प्रक्रिया को प्रभावित करती है.

पटाखों का धुंआ अस्थमा मरीजों के लिए बहुत खतरनाक होता है. अक्सर देखा गया है कि दिवाली के बाद प्रदूषण के चलते अस्‍थमा के मरीजों की संख्या बढ़ती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 1:15 PM IST
  • Share this:
दिवाली का त्‍योहार खुशियों का पर्व होता है. दिवाली को परिवार और दोस्तों के साथ बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. जहां एक ओर ये त्योहार खुशियां लेकर आता है वहीं इन जलने वाले पटाखों से कई तरह की बीमारियों का खतरा भी बना रहता है. पटाखों का धुंआ अस्थमा मरीजों के लिए बहुत खतरनाक होता है. अक्सर देखा गया है कि दिवाली के बाद प्रदूषण के चलते अस्‍थमा के मरीजों की संख्या बढ़ती है.

अस्‍थमा एक गंभीर बीमारी है, जो सांस लेने की प्रक्रिया को प्रभावित करती है. अस्थमा के दौरान खांसी, नाक बंद होना या बहना, छाती का कड़ा होना, रात और सुबह के समय सांस लेने में तकलीफ होने जैसी समस्याएं होती हैं. हालांकि ऐसे में घबराने की बजाए साहसे से काम लेना जरूरी है. आइए आपको कुछ ऐसे टिप्स के बारे में बताते हैं जिनसे अस्थमा के मरीज दिवाली में सही तरीके से रह सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः Diwali 2019: पटाखे फोड़ने से पहले क्या करें और क्या करने से बचें, अपनाएं ये सेफ्टी टिप्स

अस्थमा के मरीजों के लिए खास टिप्स-


  • दिवाली की शाम को गर्म कपड़े पहनकर रहें.

  • ऐसी कोई भी चीज खाने से बचें जो शरीर में गर्मी को खत्म करें.

  • Loading...

  • दिन में धूप निकलने के बाद योग या एक्सरसाइज जरूर करें.

  • गर्म पानी या गर्म चीज से शरीर को गर्माहट पहुंचाएं.

  • बम पटाखों से दूर रहें. धुएं से भी दूर रहने की कोशिश करें.

  • चकरी और अनार के धुएं में सल्फर और कार्बन मोनोआक्साइड जैसे जहरीले रसायन होते हैं. एलर्जी,

  • अस्थमा के मरीजों और बच्चों को इससे दूर रहना चाहिए.

  • अपना इन्हेलर हमेशा अपने पास रखें.

  • एसी या पंखे के बिलकुल नीचे न बैठें.

  • धूल भरे वातावरण में अपने आपको ढक कर रहें.

  • घर और बाहर तापमान में परिवर्तन से सावधान रहें.

  • ज्या‍दा गर्म और ज्यादा नम वातावरण से बचें क्योंकि ऐसे में मोल्ड स्पोर्स के फैलने की संभावना बढ़ जाती है. अपनी दवाएं हमेशा साथ रखें.

  • अपने पास स्कार्फ जरूर रखें जिससे आप हवा के साथ आने वाले पार्टिकल्स से बच सकें.


Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 1:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...