Home /News /lifestyle /

खुद को किसी से भी कम न समझें, ये हैं सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के 6 सुपरहिट तरीके

खुद को किसी से भी कम न समझें, ये हैं सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के 6 सुपरहिट तरीके

खुद को अपनी ताकत और सफलताओं की याद दिलाएं. फोटो-Shutterstock

खुद को अपनी ताकत और सफलताओं की याद दिलाएं. फोटो-Shutterstock

Ways to Build Self-Confidence: सेल्फ कॉन्फिडेंस का बेहतर स्तर आपको अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में सफल होने में मदद करता है.

    Ways to Build Your Self-Confidence : सेल्फ कॉन्फिडेंस (Self Confidence) यानी आत्मविश्वास को किसी की क्षमताओं, गुणों और निर्णय में विश्वास की भावना के रूप में परिभाषित किया गया है. सेल्फ कॉन्फिडेंस आपकी हेल्थ और मेंटल स्ट्रेंथ के लिए बहुत जरूरी है. सेल्फ कॉन्फिडेंस का बेहतर स्तर आपको अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में सफल होने में मदद करता है. इससे आपको घर में, काम पर और अपने रिश्तों में कई फायदे हो सकते हैं.

    वेरीवेल माइंड (Verywell Mind) वेबसाइट ने सेल्फ कॉन्फिडेंस से आपकी लाइफ पर पड़ने वाले कुछ पॉजिटिव प्रभावों के बारे में बताया है.

    बेटर परफोर्मेंस : यह चिंता करने में टाइम और एनर्जी बर्बाद करने के बजाय कि आप पर्याप्त रूप से अच्छे नहीं हैं, आप अपनी एनर्जी को अपने प्रयासों में लगा सकते हैं. इसलिए अंततः, जब आप आत्मविश्वास महसूस करेंगे तो आप बेहतर प्रदर्शन करेंगे.

    हेल्दी रिलेशन : सेल्फ कॉन्फिडेंस न केवल आपको खुद को समझने, बल्कि दूसरों को भी बेहतर ढंग से समझने और प्यार करने में मदद करता है. अगर आपको लगता है कि आपको वो नहीं मिल रहा है जिसके आप हकदार हैं, सेल्फ कॉन्फिडेंस आपको दूर जाने की ताकत भी देता है.

    नई चीजों को आजमाने का खुलापन : जब आप खुद पर विश्वास करते हैं तो आप नई चीजों को आजमाने के लिए ज्यादा इच्छुक होते हैं. चाहे आप प्रमोशन के लिए आवेदन करें या कुकिंग क्लास के लिए साइन अप करें, जब आपको खुद पर और अपनी क्षमताओं पर भरोसा हो तो खुद को ओपन रखना बहुत आसान हो जाता है.

    मुश्किलों का सामना करना : अपने आप में विश्वास आपकी मुसीबतों का सामना करने की क्षमता को बढ़ा सकता है, या जीवन में सामने आने वाली किसी भी चुनौती को करारा जवाब देने के काबिल बनाता है.

    यह भी पढ़ें- बच्चों को जरूर सिखाएं ये 4 योगासन, बढ़ेगी उनकी हाइट

    अगर आप भी किसी स्पेशल फील्ड में सेल्फ कॉन्फिडेंस की कमी रखते हैं या किसी भी चीज़ के बारे में कॉन्फिडेंट महसूस करने में आपको परेशानी होती हैं, तो ये 6 स्टेप्स आपकी मदद कर सकते हैं.

    दूसरों से अपनी तुलना करना बंद करें
    पर्सनैलिटी एंड इंडिविजुअल डिफरेंसेस (Personality and Individual Differences) में प्रकाशित 2018 के की एक स्टडी में ईर्ष्या या जलन (Envy) और आपके अपने बारे में महसूस करने के तरीके के बीच एक सीधा संबंध पाया गया. शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग खुद की तुलना दूसरों से करते हैं वे ईर्ष्या का अनुभव करते हैं और जितना अधिक उन्होंने ईर्ष्या का अनुभव किया, उतना ही बुरा उन्होंने अपने बारे में महसूस किया. अगर आप किसी और की लाइफ से ईर्ष्या महसूस कर रहे हैं, तो खुद को अपनी ताकत और सफलताओं की याद दिलाएं. अपनी लाइफ पर फोकस करें, न कि दूसरों की.
    जब आपको लगता है कि आप खुद की किसी से तुलना कर रहे हैं, तो अपने आप को याद दिलाएं कि ऐसा करना सही नहीं है. हर कोई अपनी-अपनी दौड़ में भाग रहा है और लाइफ कोई कॉम्पिटीशन नहीं है.

    अपने आसपास सकारात्मक लोगों को रखें
    इस बात पर ध्यान दें कि आपके दोस्त आपको कैसा महसूस कराते हैं. क्या आपके दोस्त आपको उठाते हैं या आपको नीचा दिखाते हैं? क्या वे लगातार आपको जज कर रहे हैं या वे आपको स्वीकार करते हैं कि आप कौन हैं? आप जिन लोगों के साथ समय बिताते हैं, वे आपके बारे में आपके विचारों और दृष्टिकोणों को आपके विचार से अधिक प्रभावित करते हैं. यदि आप किसी व्यक्ति विशेष के साथ घूमने के बाद अपने बारे में बुरा महसूस करते हैं, तो समझिए कि आपको उन्हें अलविदा कहने का टाइम आ गया है. अपने आप को ऐसे लोगों से घेरें जो आपसे प्यार करते हैं और आपके लिए बेस्ट की चाहत रखते हैं.

    यह भी पढ़ें- ब्रेन में एक खास प्रोटीन की कमी होने से बढ़ता है मोटापा- शोध

    इस तरह शरीर की देखभाल करें
    अगर आप अपने शरीर का मिसयूज कर रहे हैं, तो आप अपने बारे कभी अच्छा फील नहीं कर सकते है, आपके लिए ये मुश्किल होगा. इसलिए अपनी हेल्थ और फिटनेस का ख्याल रखें. अच्छी डाइट लें, जब आप अपने शरीर को सही खाद्य पदार्थों से भर देते हैं, तो आप हेल्दी, स्ट्रॉन्ग और अधिक ऊर्जावान महसूस करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप आप अपने बारे में बेहतर महसूस कर सकते हैं.

    नियमित एक्सरसाइज करें, न्यूरोसाइकिएट्रिक डिजीज एंड ट्रीटमेंट में प्रकाशित 2016 के एक स्टडी में पाया गया कि नियमित शारीरिक गतिविधि ने प्रतिभागियों के शरीर की छवि में सुधार किया और जब उनके शरीर की छवि में सुधार हुआ, तो उन्होंने और अधिक आत्मविश्वास महसूस किया.

    यह भी पढ़ें- थकान की वजह केवल फिजिकल नहीं, मेंटल प्रॉब्लम भी हो सकती है- एक्सपर्ट

    ध्यान लगाएं, क्योंकि ध्यान कई तरीकों से आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद कर सकता है. ये आपको नेगेटिव सेल्फ टॉक को रोकने और आपके आत्मविश्वास में हस्तक्षेप करने वाली किसी भी मानसिक बकवास से अलग होना भी सिखाता है. अच्छी नींद लें, क्योंकि अच्छी नींद को पॉजिटिव पर्सनालिटी के लक्षणों से जोड़ा गया है. जिसमें आशावाद और आत्मसम्मान शामिल हैं.

    खुद के प्रति दयालु रहें
    जब आप कोई गलती करते हैं, असफल होते हैं, या आपको कोई झटका लगता हैं, तो आत्म-करुणा (Self-compassion) में स्वयं के साथ दयालुता (kindness) का व्यवहार करना शामिल है. शोधकर्ताओं ने आत्म-विश्वास के लिए करुणामय तरीके से खुद से संबंधित होने की क्षमता को जोड़ा है. जर्नल ऑफ पर्सनालिटी में प्रकाशित 2009 की एक स्टडी में पाया गया कि आत्म-करुणा अधिक सुसंगत आत्मविश्वास में योगदान करती है. इसलिए अगली बार जब आप एक चुनौतीपूर्ण स्थिति में हों, तो पहचानें कि पूरा नहीं होना या कभी-कभी कम होना जीवन का एक हिस्सा है. इन अनुभवों को आत्म-करुणा के साथ नेविगेट करने की पूरी कोशिश करें.

    पॉजिटिव सेल्फ टॉक की प्रैक्टिस करें
    अपने आप को यह कहने के बजाय कि “मैं इसे संभाल नहीं सकता,” या “यह असंभव है,” अपने आप को यह याद दिलाने की कोशिश करें कि “आप इसे कर सकते हैं,” या “मुझे बस कोशिश करनी है.” जब आप कोई गलती करते हैं तो अपने आप को “मैं कुछ भी सही नहीं कर सकता” ये कहने के बजाय, अपने आप को याद दिलाएं “मैं अगली बार बेहतर कर सकता हूं” या “कम से कम मैंने कुछ सीखा.” पब्लिक में बोलने से आपको “नफरत”है, ये कहने के बजाय, “पसंद नहीं है” जैसे हल्के शब्द का प्रयोग करें और खुद को याद दिलाएं कि “हर किसी में ताकत और कमजोरियां होती हैं.”

    अपने डर का सामना करो
    अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने डर का डटकर सामना करें. अपने कुछ डर का सामना करने का अभ्यास करें, जो आत्मविश्वास की कमी से उत्पन्न होते हैं. यदि आप डरते हैं तो आप खुद को शर्मिंदा करेंगे या आपको लगता है कि आप गड़बड़ करने जा रहे हैं, वैसे भी कोशिश करें. अपने आप को बताएं कि यह सिर्फ एक प्रयोग है और देखें कि क्या होता है.

    Tags: Health, Health News, Mental health

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर