होम /न्यूज /जीवन शैली /बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर!

बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर!

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

बच्चों (child) में होने वाले कैंसर में ब्रेन ट्यूमर (Brain tumor) दूसरे नंबर का सर्वाधिक होने वाला कैंसर है. हमारे द्वा ...अधिक पढ़ें

    जयपुर. बच्चों में ब्लड कैंसर (Blood cancer) के बाद सर्वाधिक होने वाला कैंसर ब्रेन ट्यूमर (Brain tumor)देश में तेजी से बढ़ रहा है. देश के नेशनल हेल्थ प्रोग्राम के द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बड़ों के मुकाबले बच्चों में यह बीमारी ज्यादा तेजी से बढ़ रही है. इस बीमारी के लक्षणों को अनदेखा करना हजारों बच्चों के अकाल मौत का कारण बन सकता है. वयस्कों में होने वाले कैंसर में इसका प्रतिशत 2 से 3 फीसदी है, वहीं बच्चों में यह आंकड़ा 26 फीसदी है. भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर, (Bhagwan Mahaveer Cancer Hospital & Research Center) जयपुर के न्यूरो ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ नितिन द्विवेदी का कहना है कि मानव शरीर के विभिन्न अंगों में होने वाले कैंसर में 40 फीसदी कैंसर ब्रेन तक अपनी पहुंच बना लेते हैं.

    मस्तिष्क में जब असामान्य कोशिकाएं विकसित होने लगती हैं तो ब्रेन ट्यूमर का रूप ले लेती है. कोशिकाओं के विकास की गति ट्यूमर के प्रकार के अनुसार अलग-अलग होती है, लेकिन इस दौरान कई लक्षण व्यक्ति में नजर आते हैं. इन लक्षणों को अगर गंभीरता से लेकर समय पर चिकित्सक से सलाह ली जाए तो शुरुआती अवस्था में इस पर काबू पाया जा सकता है. जीवनशैली में आए परिवर्तन की वजह से ब्रेन ट्यूमर के अहम लक्षण सिरदर्द और याददाश्त का कमजोर होना जीवनशैली का हिस्सा बनते जा रहे हैं. आज के समय में ब्रेन टयूमर के उपचार में कई नवीन तकनीक आ रही हैं, इसके बावजूद रोग की पहचान समय पर ना होने के कारण रोगियों की मृत्युदर भी तेजी से बढ़ती जा रही है.

    इन्हें ना करें अनदेखा
    बच्चों और वयस्कों में इसके लक्षणों में काफी समानता है. इन लक्षणों में तेज या लगातार रहने वाला सिरदर्द, चलने में परेशानी, तालमेल में समस्या, मांसपेशियों में कमज़ोरी, रह-रहकर परेशानी होना, शरीर के एक तरफ़ कमज़ोरी या हाथों और पैरों की कमज़ोरी, चक्कर आना, उल्टी या मतली आना, चुभन महसूस करना या स्पर्श कम महसूस होना, ठीक से बोलने और समझने में परेशानी या सुध-बुध खोना, दौरे पड़ना, धुंधला दिखना, बेहोशी आना, बोलने में कठिनाई या व्यक्तित्व में बदलाव.

    युवाओं में बढ़ती परेशानी
    50 वर्ष से ज्यादा की उम्र के लोगों के सामने आने वाला ब्रेन ट्यूमर अब युवा अवस्था में भी में तेजी से सामने आ रहा है. 30 से 40 की उम्र में भी हजारों रोगी इसका उपचार ले रहे हैं. छोटी उम्र में तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर मेडिकल साइंस में कई रिसर्च हुई हैं, लेकिन अभी तक इसके कारणों का पता नहीं लग पाया है. कई शोध में पाया गया है कि मोबाइल का अधिक उपयोग और रेडिएशन एक्सपोजर के कारण मस्तिष्क पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिससे व्यक्ति के व्यवहार में कई तरह के परिवर्तन देखने को मिलते हैं.

    80 फीसदी रोगी समय पर नहीं लेते उपचार
    ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों की अनदेखी और समय की पहचान ना होने के कारण 80 फीसदी से ज्यादा रोगी ट्यूमर के पूरी तरह से बढ़ जाने के बाद ही न्यूरो एक्सपर्ट के पास आते हैं. एडवांस स्टेज में ट्यूमर की पहचान होने पर उसे तुरंत प्रभाव से ऑपरेशन के जरिए उपचार दिया जाता है. कुछ केसेज में रोगी ट्यूमर की पहचान होने के बाद भी बाबा और झाड़-फूंक के चक्कर में फंसकर उपचार मे देरी करते हैं.

    (रिपोर्ट–महेंद्र सिंह) 

    Tags: Corona, Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें