खूबसूरत त्‍वचा के लिए लाइफस्‍टाइल में करें ये बदलाव, नेचुरली स्किन बनेगी हेल्‍दी और प्रॉब्‍लम फ्री

खूबसूरत स्किन के लिए स्‍ट्रेस को खुद से दूर रखें. इसके लिए आप योगा ध्‍यान कर सकते हैं. Image Credit : Pixabay

अगर आप चाहते हैं कि आपकी त्वचा सेहतमंद और खूबसूरत (Healthy And Beautiful Skin) रहे तो इसके लिए आपको अपनी जीवनशैली (Lifestyle) में कुछ बदलाव लाना बहुत जरूरी है.

  • Share this:
    Lifestyle For Healthy Skin: चेहरा आपकी हेल्‍दी बॉडी का आईना होता है. आपके शरीर में जितने भी अंदरूनी बदलाव होते हैं उन सभी का असर आपके चेहरे पर साफ देखा जा सकता है. फिर वह चाहे चेहरे पर पिंपल्‍स का आना हो या आंखों के नीचे काले घेरे. ये सभी बॉडी के अंदर हो रहे बदलावों का ही परिणाम होते हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि जब आप स्‍ट्रेस में होते हैं, आपकी सेहत में किसी तरह की समस्‍या होती है या न्‍यूट्रिशन की कमी होती है तो इन सब के लक्षण आपके चेहरे पर नजर आता है. ऐसे में अगर आप चाहते हैं कि आपकी त्वचा  (Skin) सेहतमंद (Healthy Skin), कोमल, सौम्य और चमकदार बनी रहे तो आपको अपने लाइफस्‍टाइल (Lifestyle) में कुछ बदलाव जरूरी हो जाता है. तो आइए जानते हैं कि हम जीवन में किन छोटी छोटी चीजों को बदलकर आपकी खूबसूरती का बनाए रख सकते हैं.

    1.स्‍ट्रेस करें कम

    आपने ये कभी गौर किया है कि जब आप किसी बड़े इवेंट में हिस्‍सा लेने वाले होते हैं तो उसी दिन आपके चेहरे पर पिंपल्‍स क्‍यों आ जाते हैं? इसकी वजह दरअसल आपका स्‍ट्रेस लेना है. एक शोध के मुताबिक, कुछ लोग किसी भी बड़े या इंपोर्टेंट काम को करने से पहले इतना ज्‍यादा तनाव और चिंता करने लगते हैं कि उनके चेहरे पर एक्‍ने  या पिंपल्‍स होने का चांस 23 प्रतिशत बढ़ जाता है. इसलिए यह जरूरी है कि आप किसी भी काम को करने से पहले प्‍लान बनाएं जिससे आपको कम से कम चिंता करनी पड़े. आप इसके लिए अपने सुबह की शुरुआत योगा ध्‍यान से कर सकते  हैं.



    इसे भी पढ़ें : गर्दन के कालेपन से हैं परेशान तो अपनाएं ये 5 अचूक नुस्‍खे, कुछ ही दिनों में दिखेगा असर


    2.सुबह की शुरुआत करें वर्कआउट से

    आज अधिकतर लोगों की लाइफ स्‍टाइल ऐसी हो गई है जिसमें सुबह की शुरुआत बहुत ही सुस्त और आलस भरी होती है. अधिकतर लोगों के लिए काम का मतलब कम्प्यूटर के आगे 8 से 10 घंटे बैठे रहना होता है. अगर आप भी ऐसा ही करते हैं तो इसका असर आपकी सेहत के साथ-साथ आपकी त्वचा पर भी पड़ने लगेगा. इसीलिए सुबह की शुरुआत योगा, वॉकिंग, ट्रेडमिल, वर्कआउट से करें. आप जितना एक्टिव होंगे आपके शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन उतना बेटर रहेगा और तनाव भी कम होगा.

    3.सेहतमंद भोजन जरूरी

    अपने दैनिक भोजन को जहां तक हो सके हेल्‍दी रखें. इसके लिए आप डाइट प्‍लान बना सकते हैं. कोशिश करें कि रंगबिंरेगे फलों और सब्जियों का सेवन करें. इनमें विटामिन्‍स और न्‍यूट्रिशन भरे पड़े होते हैं. इसके अलावा, प्रोटीन स्किन कॉलिजन को बेहतर रखता है. आप फिश, अंडा और चिकन को भी अपने साप्‍ताहिक भोजन में शामिल कर सकते हैं. अगर आप अनहेल्‍दी और अधिक तेल मसाले वाला भोजन करते हैं तो यह आदत तुरंत ही छोड़ दें. इनके सेवन से आपके चेहरे पर दाग धब्‍बे हो सकते हैं और कई स्किन की समस्‍याएं शुरु हो सकती हैं.अपने भोजन में फ्रूट स्मूदी, ड्रायफ्रूट्स और सलाद आदि को शामिल करें. इनमें मौजूद पोषक तत्व आपकी त्वचा का ख़्याल रखेंगे.



    4.रात की नींद के साथ ना करें समझौता

    मेडिकलन्‍यूजटुडे के मुताबिक, अगर आप रात में 7 से 8 घंटे की नींद रोज लेते हैं तो आपके चेहरे पर डार्क सर्कल नहीं होगा. यही नहीं, इससे आपका स्किन टोन भी इंप्रूव होगा. नींद के अभाव में स्किन न्‍यू कॉलेजन प्रोड्यूज करना छोड़ देते हैं जिससे स्किन सैगी होने लगते हैं. इसलिए भरपूर नींद बहुत जरूरी है.

    5.पानी भरपूर पिएं

    हेल्दी स्किन के लिए पर्याप्‍त पानी पीना बहुत जरूरी है. पानी हमारे शरीर के भीतर के ज़हरीले पदार्थों को बाहर निकालता है और त्वचा को लचीला बनाने में मदद करता है. जिससे स्किन की हीलिंग क्षमता अच्‍छी रहती है और किसी भी तरह के इंफ्लामेशन को स्किन खुद से ठीक कर पाती है.



    इसे भी पढ़ें : Body Polishing: अब घर पर भी कर सकते हैं बॉडी पॉ‍लिशिंग, स्किन करेगी एक्‍स्‍ट्रा ग्‍लो



    6.यूवी किरणों से करें बचाव

    धूप और सूरज की किरणें की वजह से सन बर्न होता है और स्किन की एजिंग प्रक्रिया तेजी से शुरु हो जाती है. ऐसे में जब भी घर से बाहर निकलें सनस्क्रीन लगाना न भूलें और जिस समय सूरज की किरणें सबसे ज़्यादा तेज़ होती हैं यानी सुबह 10 से शाम 4 बजे तक, संभव हो तो धूप में निकलने से बचें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Pranaty tiwary
    First published: