दांतों की सुंदरता को बढ़ाने के लिए लगवाना चाहते हैं ब्रेसेस, जान लें फायदे और नुकसान

अगर किसी के दांत टेढ़े हैं या एक सीध में नहीं हैं या आगे की ओर ज्‍यादा निकले हुए हैं तो उन लोगों को दांतों में ब्रेसेस लगवाने से बहुत फायदा होता है.

दांतों को एक पंक्‍ति में लाकर सीधा करने के लिए अक्‍सर डेंटिस्‍ट ब्रेसेस की मदद लेते हैं. क्‍या आप जानते हैं दांतों में ब्रेसेस लगवाना सही है या नहीं? या फिर इसके क्या फायदे-नुकसान हो सकते हैं.

  • Share this:
    टेढ़े-मेढ़े दांतों को सीधा करने के लिए अधिकतर लोग दांतों में तार लगाते हैं. इसे ब्रेसेस (Braces) कहा जाता है. दांतों को एक पंक्‍ति में लाकर सीधा करने के लिए अक्‍सर डेंटिस्‍ट ब्रेसेस की मदद लेते हैं. क्‍या आप जानते हैं दांतों में ब्रेसेस लगवाना सही है या नहीं? या फिर इसके क्या फायदे-नुकसान हो सकते हैं.
    कई लोग बस डेंटिस्‍ट की सलाह पर दांतों में तार लगवाने के लिए हामी भर देते हैं जो कि बिल्कुल गलत है. शरीर के साथ साथ दांतों का स्‍वस्‍थ होना भी बहुत जरूरी होता है वरना आपको आगे चलकर कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. दांतों में तार लगवाने से पहले इनके फायदे और नुकसान के बारे में जरूर जान लें.

    इसे भी पढ़ेंः आंखों की फुंसी 'गुहेरी' का इन घरेलू तरीकों से करें इलाज, जल्द कम होगा दर्द और सूजन

    दांतों में ब्रेसेस लगाने के फायदे
    अगर किसी के दांत टेढ़े हैं या एक सीध में नहीं हैं या आगे की ओर ज्‍यादा निकले हुए हैं तो उन लोगों को दांतों में ब्रेसेस लगवाने से बहुत फायदा होता है. इसके अलावा दांतों में तार लगवाने के बाद व्‍यक्‍ति की खाने को चबाने की क्षमता में सुधार आता है. अगर दांतों में किसी खराबी की वजह से पहले दिक्‍कत होती थी तो वह परेशानी भी तार लगाने से दूर हो जाती है.

    ब्रश करने और दांतों को ठीक तरह से साफ करना आसान होता है. दांतों में तार लगवाने से कैविटी और दांतों से जुड़ी बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है. अगर आपको दांतों को पीसने की आदत है तो वह भी दूर हो जाती है.

    दांतों में ब्रेसेस लगाने के नुकसान
    दांतों में तार लगवाने के फायदे ही नहीं बल्कि नुकसान भी बहुत हैं इसीलिए ब्रेसेस लगवाने से पहले आप इसके नुकसान के बारे में जरूर जान लें. तार की वजह से दांतों के ऊपर थोड़ी जगह बच जाती है जिसमें खाना फंस सकता है. अगर फंसे हुए खाने को समय से नहीं निकाला जाएगा तो इससे दांतों पर सफेद रंग के धब्‍बे पड़ सकते हैं जिन्‍हें हटा पाना नामुमकिन होता है. दांतों में खाना फंसने की वजह से दांतों में सड़न का भी खतरा हो सकता है.

    ब्रेसेस लगवाने पर दांत अपनी जगह से हट जाते हैं और इस स्थिति में दांतों के रास्‍ते की कुछ हड्डियां गल जाती हैं जबकि पीछे की ओर नई हड्डियां बनने लगती हैं. इसमें दांतों की रूट की लंबाई के कम होने का खतरा रहता है. अगर ऐसा होता है तो इसकी वजह से दांत कमजोर हो सकते हैं. हालांकि ऐसा कम लोगों को ही होता है.

    दांतों और ब्रेसेस को नुकसान से बचाने के लिए क्‍या करें
    मीठी और स्‍टार्चयुक्‍त चीजें खाने या पीने से प्‍लाक जमने और दांतों में कीड़ा लगने का खतरा रहता है इसलिए इन चीजों का सेवन करने से बचें.

    खाना खाने के बाद फ्लोराइड टूथपेस्‍ट और मुलायम ब्रिसल वाले ब्रश से दांतों को जरूर साफ करें. अगर आप हर बार ब्रश नहीं कर सकते हैं तो पानी से कुल्‍ला जरूर कर लें.

    डॉक्‍टर की सलाह से फ्लोराइड लिक्विड से कुल्‍ला कर सकते हैं. आपको दांतों को फ्लॉस भी करना चाहिए. इससे दांत साफ रहते हैं और उनमें किसी भी तरह की बीमारी रहने का खतरा कम होता है.

    ज्‍यादा चिपचिपी चीजें जैसे च्‍युंइगम, कैंडी, कैरेमल न खाएं. ये तार पर चिपक कर उन्‍हें अपनी जगह से हटा सकते हैं.

    इसे भी पढ़ेंः क्या आपको है बार-बार गर्म पानी पीने की आदत? आज ही जान लें इसके नुकसान

    दांतों में तार लगवाने के बाद आपको ज्‍यादा सख्‍त चीजें नहीं खानी चाहिए जैसे कि गाजर, बर्फ, मक्‍का और सूखे मेवे. इनकी वजह से तार टूट सकता है.

    ब्रेसेस लगवाने के बाद आपको नियमित रूप से डेंटिस्‍ट के पास चेकअप करवाने जाते रहना चाहिए. इससे दांत और मसूड़े दोनों स्‍वस्‍थ रहते हैं.

    Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.