कुत्ते और बिल्लियां भी COVID-19 का हो सकती हैं शिकार, जान लें ये बड़ी बात

बिल्लियां वायरस फैलाती हैं और अन्य बिल्लियों को संक्रमित करती हैं.
बिल्लियां वायरस फैलाती हैं और अन्य बिल्लियों को संक्रमित करती हैं.

शोधकर्ताओं ने बताया है कि जब पूरी दुनिया में लाखों मानव कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हैं और 1 मिलियन से ज्यादा लोग मारे गए हैं, वहां केवल कुछ ऐसे पालतू जानवरों (Pet Animals) की रिपोर्ट है जो स्वाभाविक रूप से संक्रमित हो गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 4:18 PM IST
  • Share this:
एक नई वैज्ञानिक रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण बिल्लियों (Cats) और कुत्तों (Dogs) को हो सकता है. हालांकि, बिल्लियों में एक मजबूत, सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) होती है इसलिए मानव टीके के लिए उन्हें अध्ययन के लायक बना सकती है. अभी भी यह कोई ठोस सबूत के साथ नहीं कह सकता है कि पालतू जानवरों (Pet Animals) ने मनुष्यों में वायरस (Virus) फैलाया है. हालांकि बिल्लियां वायरस फैलाती हैं और अन्य बिल्लियों को संक्रमित करती हैं. नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि संक्रमित कुत्ते अपने श्वसन तंत्र या अन्य किसी माध्यम से वायरस नहीं फैलाते. हालांकि कुछ अन्य अध्ययनों में अलग-अलग परिणाम मिले हैं. स्टडी में न तो बिल्लियों और न ही कुत्तों में कोई बीमारी दिखाई दी है.

प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल अकादमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित रिपोर्ट के लेखक ने दुनिया में कोरोना वायरस के प्रसारण की ओर इशारा करते हुए कहा कि क्यों पालतू जानवर मानव संक्रमण के लिए एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय नहीं हैं. एंजेला एम बॉस्को-लूथ, एयरन ई हार्टविग, स्टेफनी एम पोर्टर और कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ वेटरनरी मेडिसिन एंड बायोमेडिकल साइंसेज के अन्य शोधकर्ताओं ने बताया है कि जब पूरी दुनिया में लाखों मानव वायरस से संक्रमित हैं और 1 मिलियन से ज्यादा लोग मारे गए हैं, वहां केवल कुछ ऐसे पालतू जानवरों की रिपोर्ट है जो स्वाभाविक रूप से संक्रमित हो गए हैं.

इसे भी पढ़ेंः ई-सिगरेट के मामले में पैरेंट्स करते हैं बच्चों के धूम्रपान की अनदेखी: स्टडी



यदि बिल्लियां वायरस फैला सकती हैं, तो वे लोगों को संक्रमित क्यों नहीं करती, जो एक सैद्धांतिक संभावना है? एक कारण यह है कि वायरस को ग्रहण करने वाले मनुष्यों की संख्या इतनी बड़ी है और वे इसे बिल्लियों को दे रहे हैं. एक और संभावित कारण यह है कि रोजमर्रा की जिंदगी में संक्रमण प्रयोगशाला में एक संक्रमण से बहुत अलग है. नए प्रायोगिक कार्य में, वैज्ञानिकों ने बिल्लियों और कुत्तों को वायरस देने के लिए इनके नाक की गुहाओं में पिपेट (Pipettes) डाला. जानवरों को प्रक्रिया से पहले एनिसथीसिया (Anesthesia) दिया गया. ज्यादातर घरों में ऐसा नहीं होता है. बाद में अन्य बिल्लियों को संक्रमित बिल्लियों के साथ संपर्क में रखा गया, जो वायरस फैला रही थीं.
क्या वास्तविक दुनिया में ऐसा होता है? चीन के वुहान में सड़क पर रहने वाली बिल्लियों में कुछ वायरस के सबूत हैं. लेकिन यह हो सकता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में ऐसा न हो. संयुक्त राज्य अमेरिका में कई बिल्लियों को घर के अंदर रखा जाता है और इसमें प्रसारण न्यूनतम है. बोस्को-लॉथ ने कहा कि वायरस के साथ लक्षणों की कमी के कारण बिल्ली का संक्रमण मनुष्यों को ध्यान दिए बिना अपेक्षाकृत आम हो सकता है. उन बिल्लियों को जो प्रयोग में संक्रमित की गई थी. बिल्लियां भी वन्यजीवों को वायरस दे सकती हैं.

बोस्को-लॉथ ने कहा कि जैसा कि अभी तक अप्रकाशित कार्य से पता चलता है कि चूहे भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं. इसके अलावा, एक लैब के बाहर, संक्रमण मुख्य रूप से एक संक्रमित व्यक्ति से वायरल कणों में सांस लेने पर निर्भर करता है और सामान्य संपर्क जानवरों के लिए संक्रमण में जरूरी नहीं है. वायरस के साथ संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील होने के लिए और इसे अन्य फेरेट्स (Ferrets) में फैलाने के लिए प्रयोगशाला में फेरेट्स को दिखाया गया है.

लेकिन टफ्ट्स के वैज्ञानिकों ने बताया, जिसकी अभी तक समीक्षा की गई है कि एक घर में 29 फेरेट्स के साथ COVID संक्रमित दो मनुष्य थे लेकिन एक भी फेरेट्स वायरस से संक्रमित नहीं हुआ. 29 फेरेट्स (Ferrets) घर में स्वतंत्र रूप से घूमते थे जबकि दोनों मानव में संक्रमण के लक्षण थे जिसके कारण संक्रमण के लिए पर्याप्त अवसर थे. टफ्ट्स विश्वविद्यालय में एक वायरोलॉजिस्ट और फेरेट पेपर के लेखकों में से एक, केटलिन सवत्ज़की ने कहा- क्या यह अविश्वसनीय नहीं है? यह एक सुंदर प्राकृतिक प्रयोग था.

ये भी पढ़ें - कोरोना काल में बच्‍चों से जुड़ी परेशानियों पर यूनिसेफ ने दिए 5 सुझाव

शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि संक्रमण के लिए आनुवंशिक बाधाएं हो सकती हैं जो वायरस की केंद्रित खुराक के साथ एक प्रयोगशाला में दूर हो जाती हैं. मिंक, जो कि फेरेट्स के समान परिवार में हैं, वे आसानी से संक्रमित हो जाते हैं. शोधकर्ताओं ने नीदरलैंड में मिंक जानवरों से मनुष्यों तक संचरण की सूचना दी है. कोलोराडो राज्य के शोधकर्ता बिल्लियों को घर के अंदर रखने की सलाह देते हैं, खासकर अगर एक घर में कोई व्यक्ति संक्रमित हो गया है, क्योंकि वे इसे बिल्लियों में फैला सकते हैं. इसके अलावा, अगर COVID-19 वाले व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है और उसके पास पालतू बिल्लियां हैं, तो इन बिल्लियों की देखभाल करने वाले को सुझाव दिया जाता है कि वह सावधान रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज