Vera Gedroits Birth Anniversary: गूगल डूडल आज रूस की पहली महिला सर्जन का 151 वां जन्मदिन मना रहा है

वेरा गेड्रोइट्स ने सिर्फ सर्जरी और मेडिकल प्रोफेसर ही नहीं थीं, इसके अलावा उन्होंने कई मेडिकल रिसर्च भी लिखे हैं.

वेरा गेड्रोइट्स ने सिर्फ सर्जरी और मेडिकल प्रोफेसर ही नहीं थीं, इसके अलावा उन्होंने कई मेडिकल रिसर्च भी लिखे हैं.

Google Doodle Vera Gedroits: वेरा गेड्रोइट्स (Vera Gedroits) रूस की पहली महिला सैन्य सर्जन थीं. सिर्फ इतना ही नहीं वह सर्जरी के क्षेत्र में पहली महिला प्रोफेसर और रूस के इंपीरियल पैलेस में एक डॉक्टर के रूप में सेवा देने वाली पहली महिला थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 10:56 AM IST
  • Share this:
Google Doodle For Vera Gedroits 151 Birth Anniversary: गूगल ने आज रूस की पहली महिला सर्जन को सम्मानित करते हुए डूडल बनाया है. आज वेरा गेड्रोइट्स (Vera Gedroits) का 151वां जन्मदिन है जिसके लिए गूगल ने आज खास डूडल तैयार किया है. प्रिंसेस वेरा इग्नाटिवेना गेड्रोइट्स एक रूसी डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (Doctor Of Medicine) थीं. वेरा गेड्रोइट्स रूस की पहली महिला सैन्य सर्जन थीं. सिर्फ इतना ही नहीं वह सर्जरी के क्षेत्र में पहली महिला प्रोफेसर और रूस के इंपीरियल पैलेस में एक डॉक्टर के रूप में सेवा देने वाली पहली महिला थीं. एक सर्जन होने के अलावा वेरा गेड्रोइट्स प्रोफेसर, कवि और लेखिका भी थीं. वेरा गेड्रोइट्स को उनके निडर सेवा और युद्ध चिकित्सा के क्षेत्र में अनगिनत जवानों की जान बचाने के लिए जाना जाता है।

एक युवा चिकित्सक के रूप में गेड्रोइट्स ने पहली बार रूस में हाईजीन, पोषण और स्वच्छता को लेकर आवाज उठाई थी. रूस की चिकित्सा स्थितियों में सुधार करने के लिए उन्होंने सिफारिशें भी कीं. वेरा गेड्रोइट्स का जन्म 19 अप्रैल को 1870 को कीव के लिथुआनियाई शाही वंश के एक प्रमुख परिवार में हुआ था, उस वक्त वो रूसी साम्राज्य का हिस्सा था. वेरा गेड्रोइट्स ने स्विट्जरलैंड में दवाइयों के बारे में पढ़ाई की थी. डॉक्टर बनकर 20वीं शताब्दी के अंत में वेरा गेड्रोइट्स लौट कर अपने देश रूस आई थीं. इसके बाद जल्द ही उन्होंने एक फैक्ट्री अस्पताल में सर्जन के रूप में अपना मेडिकल करियर शुरू किया था.

इसे भी पढ़ेंः देश की सबसे छोटे कद की वकील, जिन्‍होंने हौसलों के बल पर जीता जहां

वेरा गेड्रोइट्स के पांच भाई-बहन और थे लेकिन वह पढ़ने में सबसे होशियार थीं. उनके एक भाई की मौत सही चिकित्सा न मिलने के कारण युवावस्था में ही हो गई थी जिसके बाद उन्होंने डॉक्टर बनने का फैसला किया था. अपने भाई सर्गेई की मौत के बाद ही उन्होंने डॉक्टर बनने की कसम खाई, ताकि वह दूसरे के दुख को रोकने में मदद कर सकें. उनके पिता कैथोलिक थे जबकि उनकी मां काफी ऑर्थोडॉक्स थीं. उन्होंने अपने आखिरी समय तक लोगों की चिकित्सा की और सामाजिक कार्य किया. 56 वर्ष की आयु में साल 1932 में कीव में उनकी मृत्यु हो गई. उन्होंने सर्जरी से डुड़ी कई किताबें लिखी थीं जो भविष्य में चिकित्सा के क्षेत्र में काफी काम आई थीं.
वेरा गेड्रोइट्स ने सिर्फ सर्जरी और मेडिकल प्रोफेसर ही नहीं थीं, इसके अलावा उन्होंने कई मेडिकल रिसर्च भी लिखे हैं. वेरा गेड्रोइट्स की एक लेखक के रूप में उनकी प्रतिभा शिक्षाविदों तक सीमित नहीं थी. डॉ. गेड्रोइट्स ने 1931 के संस्मरण सहित कई कविताओं के कई संग्रह प्रकाशित किए हैं जिसमें उनकी 1931 में आई अपनी बॉयोग्राफी 'लाइफ' भी शामिल है. इस किताब में उन्होंने अपनी व्यक्तिगत यात्रा की कहानी को बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज