लाइव टीवी

Home Remedies: सर्दियों में फेफड़ों को डिटॉक्स करेंगे ये खास ड्रिंक्स!

News18Hindi
Updated: January 19, 2020, 4:45 PM IST
Home Remedies: सर्दियों में फेफड़ों को डिटॉक्स करेंगे ये खास ड्रिंक्स!
सांस लेते वक्त ऑक्सीजन के साथ प्रदूषित कण भी शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और फेफड़ों को प्रभावित करते हैं

फेफडों को किसी तरह का नुकसान न हो इसके लिए उन्हें वक्त रहते डिटॉक्स करना बहुत जरूरी है. बाजार में आज कई सारी ऐसे प्रोडक्ट्स मौजूद हैं जो फेफडों को डिटॉक्स करने का दावा करते हैं, लेकिन इसे नेचुरल तरीके से किया जाए तो यह ज्यादा बेहतर रहता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2020, 4:45 PM IST
  • Share this:
सर्दियों के मौसम में अक्सर लोगों को सर्दी, खांसी, बुखार जैसी समस्याएं परेशान करती हैं. विशेषकर दिल्ली जैसे बड़ें शहरों में सर्दी के साथ प्रदूषण का स्तर बढ़ने से यह समस्याएं ज्यादा हो रही हैं. जिसका सीधा असर फेफड़ों पर पड़ रहा है.

फेफडों को किसी तरह का नुकसान न हो इसके लिए उन्हें वक्त रहते डिटॉक्स करना बहुत जरूरी है. बाजार में आज कई सारी ऐसे प्रोडक्ट्स मौजूद हैं जो फेफडों को डिटॉक्स करने का दावा करते हैं, लेकिन इसे नेचुरल तरीके से किया जाए तो यह ज्यादा बेहतर रहता है. इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं फेफड़ों को डिटॉक्स करने के कुछ नेचुरल तरीकें.

फेफड़ों को डिटॉक्स करने के लिए अदरक और नींबू की चाय बेस्ट मानी जाती है.
फेफड़ों को डिटॉक्स करने के लिए अदरक और नींबू की चाय बेस्ट मानी जाती है.


अदरक, नींबू की चाय

भारतीय घरों में सर्दियों के मौसम में अदरक का इस्तेमाल बहुत होता है. अदरक शरीर को डिटॉक्स करने का सबसे बेस्ट प्रोडक्ट है. फेफड़ों को डिटॉक्स करने के लिए अदरक और नींबू की चाय बेस्ट मानी जाती है. अदरक में विटामिन, मैग्नीज, कॉपर पाया जाता है वहीं, नींबू में विटामिन पाया जाता है जो फेफड़ों को पूरी तरह से डिटॉक्स कर पाता है.

 

इसे भी पढ़ें : सावधान अगर वैसलीन, लोशन, नारियल तेल का करते हैं सेक्स के दौरान इस्तेमाल: रिपोर्ट 

ग्रीन टी
ज्यादातर लोगों को लगता है कि ग्रीन टी का इस्तेमाल सिर्फ वजन को कम करने के लिए किया जाता है. ग्रीन टी जितना वजन को कम करने में फायदेमंद है उतना ही शरीर को क्लीन करने में भी. ग्रीन टी में प्रचूर मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो शरीर से बेकार तत्वों को बाहर निकालने में सहायक साबित होते हैं.

हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व घातक बीमारियों से बचाते हैं.
हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व घातक बीमारियों से बचाते हैं.


हल्दी
भारतीय घरों में हल्दी का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है. हल्दी औषधीय गुणों से भरपूर होती है. सर्दी, खांसी और शरीर में गर्माहट के लिए हल्दी का इस्तेमाल करना अच्छा माना जाता है. फेफड़ों को क्लीन करने के लिए हल्दी अदरक की ड्रिंक बना सकते हैं. हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : संडे स्पेशल: पति के इस पवित्र प्यार से मुझे डर लगता है...
Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 4:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर