मीठे ड्रिंक्स पीने से बढ़ सकता है हार्ट अटैक का खतरा: शोध में खुलासा

मीठे ड्रिंक्‍स ज्‍यादा पीने से हार्ट अटैक और क्लॉट स्ट्रोक आदि होने की संभावना बढ़ जाती है.
मीठे ड्रिंक्‍स ज्‍यादा पीने से हार्ट अटैक और क्लॉट स्ट्रोक आदि होने की संभावना बढ़ जाती है.

शुगर ड्रिंक्स (Sugar Drinks) में आर्टिफिशियल तरीके से बने पेय पदार्थ (Drinks) हेल्दी चीज नहीं है. इन मीठे पेय को पीने वाले लोगों में हार्ट अटैक (Heart Attack) आने का 20 फीसदी जोखिम बताया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 6:32 AM IST
  • Share this:
एक स्टडी (Study) में पाया गया है कि कृत्रिम रूप से बने मीठे पेय पदार्थ (Sweet Drinks) हार्ट (Heart) के लिए हानिकारक है. सोरबॉन पेरिस नोर्ड यूनिवर्सिटी के न्यूट्रीशनल एपिडिमियोलोजी रिसर्च टीम (Research Team) ने अपने बयान में कहा कि शुगर ड्रिंक्स में आर्टिफिशियल तरीके से बने पेय पदार्थ हेल्दी चीज नहीं है. इससे पहले 2019 में भी एक अध्ययन में कहा गया था कि जो महिलाएं दिन में दो से ज्यादा शुगर ड्रिंक्स पीती हैं. उनमें समय से पहले मृत्यु का जोखिम 63 फीसदी तक बढ़ गया. पेय पदार्थ को बोतल, कैन या गिलास में परिभाषित किया गया है. आदमियों में समय से पहले मृत्यु का जोखिम 29 फीसदी तक बताया गया.

अमेरिकन जर्नल ऑफ़ कार्डियोलोजी में नई स्टडी सोमवार को पब्लिश हुई जिसमें एक लाख वयस्क फ्रेंच वोलंटियर्स का डेटा विश्लेषण किया है. उन्हें तीन ग्रुप में बांट दिया गया. इनमें कम इस्तेमाल करने वाले, ज्यादा इस्तेमाल करने वाले और बिलकुल भी मीठा पेय नहीं पीने वाली तीन कैटेगरी रखी गई. कृत्रिम मीठे पदार्थ नहीं पीने वाले लोगों से ज्यादा पीने वालों की तुलना की गई, तो ज्यादा कृत्रिम मीठा पेय पीने वाले लोगों में कभी भी हार्ट अटैक आने का 20 फीसदी जोखिम बताया गया. इसके अलावा शक्कर के पदार्थ सबसे ज्यादा पीने वालों पर भी यही परिणाम देखा गया.

ये भी पढ़ें - न्यूमोकोकल टीका लगवाते समय इन साइड इफेक्ट का रखें ध्यान



हालांकि शोधकर्ताओं ने कहा कि स्टडी में प्रत्यक्ष कारण नहीं है, सिर्फ एक दावा किया गया है. इससे पहले भी 2019 की एक रिसर्च में सामने आया था कि दो और उससे ज्यादा किसी भी तरह के कृत्रिम मीठे पदार्थ पीने पर महिलाओं में समय से पहले मृत्यु का 50 फीसदी जोखिम है. इसमें हार्ट अटैक और क्लॉट स्ट्रोक आदि रोग होने की संभावना जताई गई.
अगर कृत्रिम पेय पीने की आदत है, तो क्या करें?
विशेषज्ञों का कहना है कि पीने का पानी एक अच्छा विकल्प है. भले ही यह कार्बोनेटेड ही क्यों न हो. एक घड़ा खरीदकर उसमें आपके पसंदीदा फल जैसे नीम्बू, तरबूज या अन्य फल पानी के साथ मिलाएं और उस पानी को पी सकते हैं. यह आपको मिठास प्रदान करेगा.

ये भी पढ़ें - आईवीएफ तकनीक के जरिए बनना चाहते हैं माता-पिता, जान लें ये बातें

मीठा पदार्थ नहीं पीने के लिए छोटा चैलेंज स्वीकार करें, इससे कुछ दिनों बाद आपका टेस्ट बदल सकता है. एक बार ऐसा करने के बाद प्राकृतिक पदार्थों में मिली शक्कर की आदत आपको हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज