Home /News /lifestyle /

इयर पियर्सिंग कराने से पहले जान लें कुछ जरूरी बातें, तभी इंफेक्‍शन से बच पाएंगे

इयर पियर्सिंग कराने से पहले जान लें कुछ जरूरी बातें, तभी इंफेक्‍शन से बच पाएंगे

छूने से पहले हाथों को जरूर धोएं. Image : Instagram/ritualpiercingstudio

छूने से पहले हाथों को जरूर धोएं. Image : Instagram/ritualpiercingstudio

Ear Piercing Tips : इयर पिय‍र्सिंग (Ear Piercing) इन दिनों काफी फैशन (Fashion) में है. इयर पियर्सिंग महिलाएं ही नहीं, पुरुषों में भी काफी ट्रेंड में चल रहा है. यंग लड़के लड़कियां तो कई कई बार कान छिदवाते हैं. हालांकि हमारे देश में महिलाओं और पुरुषों में कान छिदवाने की परंपरा काफी पुरानी है. लेकिन कान छिदवाने के दौरान या बाद में हुई थोड़ी सी लापरवाही मुश्किलें पैदा कर सकती हैं. इन लापरवाही की वजह से कई बार इंफेक्‍शन (Infection) तक हो सकता है जो काफी दर्दनाक होता है.

अधिक पढ़ें ...

    Ear Piercing Tips : अगर हम इयर पियर्सिंग (Ear Piercing) को लेकर लापरवाही करें तो इससे कई तरह का संक्रमण (Infection) हो सकता है जिसकी वजह से काफी समस्‍याएं हो सकती है. मायोक्‍लीनिक के अनुसार, जब भी पियर्सिंग की सोचें तो यह तय करें कि आप पूरी तरह से इसे कराना चाहते हैं या नहीं. अगर मन में थोड़ी भी शंका हो तो इसे ना कराएं. लेकिन अगर आप कराना ही चाहते हैं तो पहले उन लोगों से संपर्क करें जिन्‍होंने पहले पियर्सिंग कराया हो. इन सबके बाद ही पियर्सिंग की सोचें. ऐसे में यहां हम बताते हैं कि इयर पियर्सिंग के बाद इंफेक्‍शन से बचने के लिए किन बातों (Tips) को ध्‍यान में रखना बहुत जरूरी है.

    इयर पियर्सिंग के बाद इन बातों का रखें ध्‍यान

    – हमेशा अच्‍छे पियर्सिंग स्‍टूडियो में ही कान छिदाएं. अगर आप बेकार जगहों से कान छिदवाते हैं तो ये पक सकते हैं और टेढे मेढे भी हो सकते हैं.

    इसे भी पढ़ें : सोने से पहले मेकअप हटाना है बहुत जरूरी, वरना चेहरे पर आ सकता है जल्‍दी बुढ़ापा

    -कान छिदवाने के बाद उसे बार बार छूने से बचें. यह ध्‍यान रखें कि अगर कान को आप बार बार छूएंगे तो इनमें संक्रमण की संभावना बढेगी.

    – जब पूरी तरह कान हील हो जाए इसके बाद ही भारी ज्वैलरी पहनें. अगर ऐसा नहीं करेंगे तो कान में खिचाव होगा और छेद का शेप खराब होगा.

    – कानों के नए छेद को हमेशा गीला रखें और इसमें एंटीबैक्‍टीरियल प्रोडक्‍ट लगाकर रखें.

    – कानों को छूने से पहले हाथों को जरूर धोएं. कुछ कुछ देर में कानों की बाली को कानों में घुमाएं ताकि ये स्किन में चिपके नहीं.

    – कान छिदवाने के लगभग एक से दो महीने बाद ही स्‍विमिंग के लिए जाएं. स्विमिंग पूल का पानी आपके छेद में संक्रमण कर सकता है.

    इसे भी पढ़ें : Winter Skin Care Tips: सर्दियों में रूखी और काली पड़ने लगती है त्वचा? इस तरह करें देखभाल

    – हमेशा नहाते या कपड़े बदलते समय ध्‍यान रहे कि कान का पिछला भाग तौलिये आदि में फंसे नहीं. ऐसा करने से खिंचकर खून निकल सकता है.

    संक्रमण हो तो क्‍या करें

    -हल्‍दी पाउडर में नारियल का तेल मिलाएं और छेद पर लगाएं. इससे घाव जल्‍दी ठीक होगा.

    -रूई में गुनगुना तेल लगाएं और कान पर लगाकर रखें. इससे दर्द में राहत मिलेगी और सूजन कम होगा.

    -अगर कान में लगातार दर्द हो रहा हो या घाव से पस निकल रहा हो तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

    Tags: Fashion, Infection, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर