Home /News /lifestyle /

नॉर्थ दिल्ली में वृन्दावन का भोग! ब्रजवासी मिठाई वाले के यहां चखें रसगुल्ले, रसमलाई, राजभोग

नॉर्थ दिल्ली में वृन्दावन का भोग! ब्रजवासी मिठाई वाले के यहां चखें रसगुल्ले, रसमलाई, राजभोग


ब्रजवासी मिठाई वाला के नाम से मशहूर है दुकान

ब्रजवासी मिठाई वाला के नाम से मशहूर है दुकान

Shri Bankey Bihari Brijwasi Rasgulle Wala In Delhi: 'श्री बांके बिहारी ब्रजवासी रसगुल्ला वाले' की दुकान नॉर्थ दिल्ली के बाजार कमला नगर गोल चक्कर से खादी भंडार के सामने की गली में है. इस दुकान पर ब्रज क्षेत्र की मिठाइयां ही प्रमुख हैं. लेकिन यहां बेड़मी-सब्जी, आलू की टिक्की व लस्सी के अलावा मलाई रोल, भरवां आम (आम के अंदर रबड़ी व मेवा) जामुन, फाल्से, चीकू वाली कुल्फी भी मिलती है.

अधिक पढ़ें ...
    (डॉ. रामेश्वर दयाल)
    फूड सीरीज में हमने आपको बहुत कुछ चटपटा और मसालेदार खाना खिला दिया. सोचा कि इस बार कुछ मीठा हो जाए. मिष्ठान्न भी ब्रज क्षेत्र का हो तो क्या कहने. दुकानदार भी ब्रजमंडल के खानदानी हलवाई हैं तो मानकर चलें कि उनकी मिठाइयों का स्वाद भी इस पवित्र नगरी जैसा ही होगा. बहुत पहले इस हलवाई परिवार ने घर पर ही मिष्ठान्न बनाकर रेहड़ी पर बेचा. फिर दुकान बना ली. मिठाइयों की वैरायटी भी सुन लीजिए. दुकान पर रसगुल्ले, काला गुलाब जामुन से लेकर रसमलाई, राजभोग और मन को तरावट देने वाली गाढ़ी रबड़ी भी हाजिर है. ऐसे में इनको देखकर जीभ तो लपलपाएगी ही. दुकानदारों का कहना है कि मथुरा, वृंदावन के मंदिरों में जो ‘भोग’ लगता है, वह सब कुछ इनकी दुकान में हाजिर है.

    ब्रजमंडल की सारी मिठाइयां इस दुकान पर मौजूद हैं
    इस दुकान का नाम है ‘श्री बांके बिहारी ब्रजवासी रसगुल्ला वाला.’ नॉर्थ दिल्ली के बाजार कमला नगर गोल चक्कर से खादी भंडार के सामने की गली में है यह दुकान. इलाके में यह दुकान ब्रजवासी मिठाई वाले के नाम से मशहूर है. इस दुकान की खासियत यह है कि जो मिष्ठान्न आपको ब्रजमंडल में मिलेगा, वह इस दुकान पर हाजिर है. इनमें गाय के दूध के बने 50 रुपये के दो रसगुल्ले, 100 रुपये प्लेट रसमलाई, 100 रुपये प्लेट राजभोग, 80 रुपये प्लेट काला गुलाब जामुन और 600 रुपये किलो गाढ़ी रबड़ी खाने को मिलेगी. लोग भी मानते हैं कि इन मिठाइयों की तासीर वाकई ब्रजमंडल के मिष्ठान्न जैसा आनंद पहुंचाती है. लोग आते हैं, खाते हैं और पैक करवाकर भी ले जाते हैं.

    दुकान सुबह 8 बजे खुल जाती है और रात 10 बजे तक माल मिलता है.


    वृंदावन के मंदिरों के 'भोग' जैसा स्वाद व क्वॉलिटी
    वैसे तो इस दुकान पर ब्रज क्षेत्र की मिठाइयां ही प्रमुख हैं. लेकिन दस साल पहले वैरायटी बढ़ाने के लिए बेड़मी-सब्जी, आलू की टिक्की व लस्सी के अलावा मलाई रोल, भरवां आम (आम के अंदर रबड़ी व मेवा) व अन्य देसी स्वाद जैसे जामुन, फाल्से, चीकू वाली कुल्फी भी बेचना शुरू किया. दुकानदार दावा करते हैं कि मथुरा-वृंदावन के मंदिर में जो 'भोग' अर्पित किया जाता है. वह इनकी दुकान पर उसी स्वाद व क्वॉलिटी का मिलेगा. इसके लिए ये लोग वृंदावन व बागपत से भैंस का दूध मंगाते हैं और राजस्थान से गाय के दूध की सप्लाई है. इन दुकानदारों का हलवाई का खानदानी काम है और सालों पहले यह ब्रजमंडल में ही निवास करते थे.

    इसे भी पढ़ेंः मौसम के हिसाब से बदलता है 180 रुपये की इस शाकाहारी थाली का मेन्यू, भरपेट संतुष्टि का दावा

    पूरा परिवार खुद ही मिठाई बनाता है
    अब इन ब्रजवासी हलवाई परिवार की दास्तां भी सुन लीजिए. पचास के दशक में ये दिल्ली आए. वर्ष 1954 में उन्होंने खादी भंडार के बाहर रेहड़ी लगाई और रसगुल्ले, रसमलाई, राजभोग और रबड़ी बेचना शुरू की. पूरा परिवार घर पर ही मिठाई बनाता था और रेहड़ी पर बेचता था. इस काम को शुरू किया रामप्रसाद ब्रजवासी ने, उसके बाद कमान उनके बेटे श्यामलाल ने संभाली, अब दुकान का कामकाज उनके तीन बेटे राजीव, अमित व रोहित ब्रजवासी के अलावा राजीव के बेटे रजांश संभाल रहे हैं.

    ब्रजवासी मिठाई वाला के नाम से मशहूर है दुकान
    उन्होंने बताया कि 1957 में उन्होंने दुकान ले ली. लेकिन पांच साल तक रेहड़ी पर ही मिठाई बेचते रहे. पूरे इलाके के लोग उन्हें बृजवासी मिठाई वाले के रूप में पहचानने लगे जब नाम चलने लगा तो दुकान पर ही सारा काम समेट लिया. तो आपको ब्रजमंडल की स्वादिष्ट मिठाइयों के स्वाद से रूबरू होना है तो ब्रज के रहने वाले इन खानदानी हलवाइयों के हाथ का स्वाद जरूर चख लें. दुकान सुबह 8 बजे खुल जाती है और रात 10 बजे तक माल मिलता है.

    नजदीकी मेट्रो स्टेशन: पुलबंगश व विश्वविद्यालय

    आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

    दिल्ली-एनसीआर
    दिल्ली-एनसीआर

    Tags: Famous Recipes, Food, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर