क्या आप नाश्ते में खाते हैं ओट्स, कम होगा ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

क्या आप नाश्ते में खाते हैं ओट्स, कम होगा ब्रेन स्ट्रोक का खतरा
ओट्स खाने से कम होगा ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को कम करने के लिए अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन धूम्रपान न करने, रोजाना व्यायाम करने, वजन, रक्तचाप, कॉलेस्ट्रोल और रक्त शर्करा के स्तर पर नियंत्रण रखने की सलाह देता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 27, 2019, 8:06 AM IST
  • Share this:
रोजाना ब्रेकफास्ट में ओट्स खाने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा कम होता है. इससे पहले ऐसी कई रिसर्च हो चुकी हैं जिनमें ये बताया गया है कि ओट्स ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को कम करता है, लेकिन नए शोध में शोधकर्ताओं ने बताया है कि कैसे नाश्ते में आमतौर पर खाए जाने वाले अंडे, सफेद ब्रेड और दही से यह ज्यादा फायदेमंद है. यह शोध 'स्ट्रोक' नाम की पत्रिका में प्रकाशित किया गया है.

शोधकर्ताओं ने इस रिसर्च के लिए डेनमार्क के 55,000 वयस्कों पर अध्ययन किया. जिनकी औसत आयु 56 साल थी. इन लोगों की ब्रेन स्ट्रोक की कोई हिस्ट्री नहीं थी. शुरुआत में हर हफ्ते प्रतिभागियों को 2.1 सर्विंग अंडों की दी गई, 3 सर्विंग सफेद ब्रेड की दी गई, 1 सर्विंग दही की दी गई और 0.1 सर्विंग ओट्स की दी गई. शोधकर्ताओं ने आधे से ज्यादा प्रतिभागियों की 13.4 सालों तक निगरानी की. इस दौरान 2,260 लोगों को ब्रेन स्ट्रोक हुआ. जिन लोगों ने अंडे या सफेद ब्रेड की एक सर्विंग की जगह ओट्स खाया उनमें ब्रेन स्ट्रोक का खतरा चार फीसदी तक कम पाया गया. वहीं, दही खाने पर ब्रेन स्ट्रोक के खतरे पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा. यूनिवर्सिटी इन डेनमार्क की शोधकर्ता क्रिस्टीना दहम ने कहा, हमारे शोध से यह पता चलता है कि अगर ज्यादा अंडे और सफेद ब्रेड की जगह नाश्ते में ओट्स का सेवन करें तो बड़ी संख्या में लोगों में ब्रेन स्ट्रोक का खतरा कम होगा.

इसे भी पढ़ें: दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है., मिर्ज़ा ग़ालिब के जन्मदिन पर पढ़ें उनके बेहतरीन शेर



शोधकर्ता क्रिस्टीना ने बताया कि ओट्स शरीर में मौजूद कॉलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करता है. कॉलेस्ट्रोल इस्केमिक ब्रेन स्ट्रोक का सबसे बड़ा जोखिम कारक होता है. ऐसे में अगर लंबे समय तक ओट्स का सेवन किया जाए तो कॉलेस्ट्रोल का स्तर कम होता है और ब्रेन स्ट्रोक के खतरे में भी कमी आती है. ये ब्रेन स्ट्रोक तब होते हैं जब एक खून का थक्का दिमाग तक खून ले जाने वाली धमनियों को बाधित कर देता है. ओट्स शरीर में उपस्थित अतिरिक्त वसा को भी कम करता है.
विशेषज्ञों की सलाह:

ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को कम करने के लिए अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन धूम्रपान न करने, रोजाना व्यायाम करने, वजन, रक्तचाप, कॉलेस्ट्रोल और रक्त शर्करा के स्तर पर नियंत्रण रखने की सलाह देता है. वहीं, आहार में साबूत अनाज, फल, सब्जियां और लीन प्रोटीन खाने की सलाह देता है. शोध में पाया गया कि जो लोग नाश्ते में ज्यादा अंडे और सफेद ब्रेड खाते थे उनकी खान-पान की आदतें खराब थीं. शोधकर्ता डॉक्टर माइकन हिल ने कहा, शोध के दौरान देखा गया कि जो लोग नाश्ते में ओट्स ज्यादा खाते थे वे अपने खान-पान के प्रति काफी सचेत थे और अपना बेहतर ख्याल रखते थे.

(एजेंसी- भाषा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading