फेस मास्‍क लगाने के बावजूद आंखों से व्‍यक्‍त होती हैं भावनाएं : स्‍टडी

फेस मास्‍क लगाने के बावजूद आंखों से व्‍यक्‍त होती हैं भावनाएं : स्‍टडी
फेस मास्क लगाने के लिए स्वास्थ मंत्रालय के सख्त निर्देश हैं.

हमबॉल्टड यूनिवर्सिटी ऑफ बर्लिन (Humboldt University of Berlin) की प्रोफेसर और संवाद विशेषज्ञ उर्सुला हेस ने एक स्‍टडी के हवाले से कहा है क‍ि भावनाएं व्‍यक्‍त करने में फेस मास्क (Face Mask) बाधा नहीं बनता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 12:02 PM IST
  • Share this:
कोरोनावायरस (Coronavirus) के फैलते संक्रमण (Infection) को रोकने के लिए विशेषज्ञों ने मास्‍क लगाना जरूरी बताया है. ऐसे में फेस मास्‍क (Face Mask) को लेकर यह बात भी उठने लगी है कि लोग मास्‍क की वजह से बातचीत करने में दिक्‍कत का अनुभव करते हैं. यानी उन्‍हें अपनी भावनाएं (Emotions) जताने, बातचीत करने में बाधा महसूस होती है. हालांकि इस बीच संवाद विशेषज्ञ के मुताबिक अपनी भावनाएं व्‍यक्‍त करने में मास्क बाधा नहीं बनता.

 

लाइव हिंदुस्‍तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक इस बारे में हमबॉल्टड यूनिवर्सिटी ऑफ बर्लिन (Humboldt University of Berlin) की प्रोफेसर और संवाद विशेषज्ञ उर्सुला हेस का कहती हैं कि जब किसी व्यक्ति से बात की जाती है, तो उस वक्त मुंह से ज्यादा अहम भूमिका आंखों के साथ हमारी आवाज भी निभाती हैं. ऐसे में किसी तरह की भावनाओं की अभिव्‍यक्ति में मास्क बाधा नहीं बनता.



उनका कहना है कि मास्क चेहरे पर आती मुस्कान को ढक जरूर लेता है, लेकिन इससे यह छिपती नहीं है. इसकी वजह यह है कि मुस्कुराते समय गाल का ऊपरी हिस्सा कुछ उठ जाता है. ऐसे में सामने वाले को यह पता चल जाता है कि व्‍यक्ति मुस्‍कुरा रहा है. इसके अलावा हंसते समय भले ही मास्‍क में ढके होंठ न दिखें, लेकिन हंसी की आवाज तो यह एहसास करा ही देती है कि हमारे सामने वाला व्‍यक्ति हंस रहा है.
वहीं संवाद विशेषज्ञ उर्सुला हेस ने अपने विश्लेषण में यह पाया कि जब भी कोई व्यक्ति अपनी भावनाओं को जताता है, तो ऐसे समय में उसके मुंह की बनावट भी बदलती है और इससे व्‍यक्ति के बोलने के अंदाज, आवाज में बदलाव आता है. इसके अलावा उन्होंने अपने विश्‍लेषण में यह भी पाया कि उम्मीद जैसे भावों को हम मुंह से नहीं आवाज से पहचान पाते हैं.
प्रोफेसर उर्सुला के मुताबिक क्‍योंकि मास्क लगाकर बातचीत करने वाले व्यक्ति के सामने खड़े दूसरे व्‍यक्ति का पूरा ध्‍यान उसके चेहरे पर होता है, ऐसे में सामने वाले व्‍यक्ति का ध्‍यान आंखों के भाव, माथे पर पड़ने वाली लकीरों और गाल के ऊपरी हिस्से पर होता है. इस तरह मास्‍क लगाकर बातचीत करने वाले व्यक्ति के भाव आसानी से समझे जा सकते हैं. इसके साथ ही व्‍यक्ति के चेहरे और आंखों के भावों से यह अनुमान आसानी से लगाया जा सकता है कि सामने वाले व्यक्ति के जहन में क्‍या चल रहा है, वह क्‍या सोच रहा है.

ये भी पढ़ें - Weight Loss Tips: ब्लैक कॉफी में इन 4 चीजों को मिलाकर पीने से वजन होगा कम

             आज का पंचांग: योगिनी एकादशी आज, जानें ग्रह-नक्षत्रों की चाल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज