बड़े काम का है नीलगिरी का तेल, स्ट्रेस से लेकर डायबिटीज तक में भी मिलता है फायदा

अगर आपकी स्किन पर इंफेक्शन है तो आप नीलगिरी का तेल उस जगह पर लगाएं.
अगर आपकी स्किन पर इंफेक्शन है तो आप नीलगिरी का तेल उस जगह पर लगाएं.

नीलगिरी की पत्तियों में गांठें होती हैं जिनमें तेल भरा होता है. इस तेल को नीलगिरी का तेल (Eucalyptus Oil) कहते हैं. इस तेल का इस्तेमाल कई दवाइयों (Medicines) और जड़ी-बूटियों से बनी औषधियों में किया जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 8:52 AM IST
  • Share this:
नीलगिरी (Eucalyptus) के पेड़ की पत्तियों से निकलने वाला तेल शारीरिक रूप से बहुत फायदेमंद होता है. यह कई रोगों को जड़ मिटाने में काम आता है. दरअसल, नीलगिरी की पत्तियों में गांठें होती हैं जिनमें तेल भरा होता है. इस तेल को नीलगिरी का तेल (Eucalyptus Oil) कहते हैं. इस तेल का इस्तेमाल कई दवाइयों और जड़ी-बूटियों से बनी औषधियों में किया जाता है. शायद ही आपको पता हो कि परफ्यूम (Perfume) में भी नीलगिरी का तेल खूब इस्तेमाल किया जाता है. आइए जानते हैं नीलगिरी के तेल के फायदों के बारे में.

नीलगिरी तेल के फायदे और इस्तेमाल

त्वचा के लिए फायदेमंद
अगर आपकी स्किन पर इंफेक्शन है तो आप नीलगिरी का तेल उस जगह पर लगाएं. यह चेहरे पर दाद, चिकन पॉक्स के दाग और मुंहासों को दूर करने में कारगार साबित होता है.
डायबिटीज से छुटकारा


डायबिटीज की समस्या आजकल आम हो गई है. डायबिटीज से ग्रसित लोगों को इस तेल का सेवन करना चाहिए. यह तेल शरीर में मौजूद रक्त शर्करा को कंट्रोल करता है. लेकिन इसका सेवन डॉक्टर की सलाह से ही करें.

इसे भी पढ़ेंः सर्दी, जुकाम और खांसी से बचने के लिए ये हैं कुछ आसान टिप्स, जरूर करें इनका सेवन

दातों की सड़न को दूर करे
दांत में दर्द, मसूड़ों में सूजन, कीड़े लगना जैसी समस्यायों को आप नीलगिरी के तेल से दूर कर सकते हैं क्योंकि इस तेल में जीवाणु रोधक तत्व होते हैं.

पेट के कीड़े मारता है
नीलगिरी का तेल बच्चों के लिए बहुत लाभदायक होता है. यह बच्चों के पेट में पलने वाले कीड़ों को जड़ से मिटा देता है.

जूं मारने के आता है काम
बड़े हो या बच्चे, कई लोगों के सिर में जूं की शिकायत रहती है. अगर सिर में ज्यादा जूं पड़ गई हैं तो आप नीलगिरी के तेल से मालिश कर सकते हैं. आपको अच्छा रिजल्ट मिलेगा.

निमोनिया में कारगार
इस तेल में एंटीवायरल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं. इस तेल से बच्चों और बड़ों की छाती की मालिश करने से फेफड़ों का साफ किया जा सकता है और यह सूजन कम करता है. साथ ही टीबी के लक्षणों को भी नष्ट करता है.

किडनी की पथरी खत्म करे
किडनी की पथरी से लोगों का जीना मुहाल हो जाता है. यह बहुत दर्दनाक अवस्था होती है. इसमें व्यक्ति दिन-दिन कमजोर होता चला जाता है. इस तेल को दर्द वाली जगह लगाने पर बड़ी राहत मिलेती है.

मांसपेशिओं का दर्द दूर करे
इस तेल की मालिश करने से तनाव और दर्द में राहत मिलती है. गठिया, कमर दर्द, मोच, लगातार दर्द, फाइब्रोसिस और तंत्रिका दर्द से पीड़ित लोगों के लिए यह तेल औषधि की तरह काम करता है.

ये भी पढ़ें - कोरोना काल में बच्‍चों से जुड़ी परेशानियों पर यूनिसेफ ने दिए 5 सुझाव

बंद नाक खोले
नाक में कफ जमने से छुटकारा पाने के लिए इस तेल की कुछ बूंदों को नाक में डालने से फायदा हो सकता है. इसके असर के बाद आप खुलकर सांस ले सकेंगे.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज