रक्षाबंधन पर हर भाई करे वादा- बहन के इन पांच फैसलों पर देगा उसका साथ

रक्षाबंधन पर हर भाई करे वादा- बहन के इन पांच फैसलों पर देगा उसका साथ
बहन भाई के हाथ पर रक्षा सूत्र बांधकर भाई की खुशहाल जिंदगी की कामना करती है.

इस रक्षाबंधन (Rakshabandhan)पर हर भाई (Brother) को तय करना चाहिए कि वो अपनी बहन की जिंदगी में पाबंदियां (Restrictions)नहीं लगाएगा. साथ ही बहन के द्वारा लिए गये जिंदगी के अहम फैसलों पर उसका साथ देगा.

  • Share this:
भाई-बहन का रिश्ता (Brother Sister Relation) एक बहुत ही मजबूत और पवित्र रिश्ता माना जाता है. इस रिश्तों के लिए एक खास त्योहार रक्षाबंधन मनाया जाता है, जो भाई-बहन के प्यार और विश्वास को बढ़ाता है. बहन भाई के हाथ पर रक्षा सूत्र बांधकर भाई की खुशहाल जिंदगी की कामना करती है. इस त्योहार में हर भाई को चाहिए कि वो भी बहन की जिंदगी को खुशहाल बनाने के लिए उसके साथ खड़ा हो. लेकिन बहुत से भाई ऐसा नहीं करते हैं. आज उनको कसम खानी चाहिए कि वो अपनी बहन के पांच फैसलों पर उसका साथ देंगे. आइए आज हम बताते हैं कि बहन के किन फैसलों पर भाई को उसके साथ खड़ा होना चाहिए...

बहन की रक्षा के नाम पर 'तांडव' ना करें
भारतीय समाज में भाई का धर्म है कि वह बहन की रक्षा करे. एक भाई को ऐसा करना भी चाहिए, लेकिन बहन की रक्षा करने के नाम पर उसकी आजादी को छीन लेना सही नहीं है. झूठी शान के लिए बहनों पर पाबंदियां लगाना सही नहीं है. भाई को बहने की भावनाओं को समझना चाहिए और उसका साथ देना चाहिए. भाईयों को बहने के इन फैसलों पर सोचना चाहिए और उनका साथ देना चाहिए...

1. दोस्तों के साथ पार्टी
अब लोग लड़कियों को पढ़ने के लिए कॉलेज भेजते हैं, लेकिन आज लड़कियां अपने दोस्तों के साथ पार्टी करने नहीं जा सकती है. क्योंकि उनके भाई या घऱ में मौजूद पुरुष इस चीज को सही नहीं मानते. लेकिन उसी घर के लड़के अपने दोस्तों के साथ ऐसा कर सकते हैं. इसमें उनको रोकने वाला कोई नहीं है. इसलिए अबकी बार से आप अपनी बहन को भी मौज-मस्ती करने से रोकें नहीं.



Happy Rakshabandhan 2020: कब शुरू हुआ रक्षाबंधन का त्योहार, जान लें इसका अनोखा इतिहास

2. समय की पाबंदी न लगाएं
www.mensxp.com लड़कियों पर आज भी समय की पाबंदी होती है कि आजको शाम 7 बजे तक हर हाल में घर पहुंचना है. अगर स्कूल-कॉलेज से आने पर थोड़ा ज्यादा टाइम लग जाए तो सवालों का तांता लग जाता है. अगर आप सच में अपनी बहन को भी अपनी तरह आजाद देखना चाहते हैं तो फिर समय की पाबंदी न लगाएं.

3. जीवन साथी चुनने की आजादी दें
जब बात शादी की आती है तो भाई अपनी मर्जी से किसी को अपना जीवनसाथी चुन सकता है, लेकिन घर में बहन को खुद से अपना जीवनसाथी चुनने का आजादी नहीं होती. अगर पता चला कि बहन किसी से बाहर मिलती है तो उसका घर से निकलना बंद कर देते हैं. अगर आपकी बहन ने अपनी इच्छा से पार्टनर पसंद किया है तो उसे परेशान न करें उसके सात खड़े हों.

4. पढ़ाई करने से न रोकें
भारत के कई हिस्सों में स्कूल तक तो लड़कियों को पढ़ाने में कोई दिक्कत नहीं होती, लेकिन वो जैसे ही कॉलेज जाने के लिए तैयार होती हैं. उनके भाई ही पढ़ने से रोक देते हैं. दूसरे शहर में पढ़ने के लिए भेजना तो बहुत दूर की बात होती है. इसलिए भाई को चाहिए कि बहन की पढ़ाई पर रोक टोक और पाबंदी न लगाए.

5. नौकरी करने से मना न करें
अगर बहन नौकरी करने के लिए उत्सुक है तो उसे रोकना नहीं चाहिए. उसकी एक अच्छे भाई की तरह मदद करनी चाहिए. क्योंकि उसको आत्मनिर्भर बनाने में भलाई है ताकि कल को वह अपनी जिंदगी जी सके.

क्या कहता है कानून ?
लड़कियों ऐर महिलाओं के लिए कानून क्या कहता है मैं नहीं समझता कि इसके बारे में आपको विस्तार से बताने की जरूरत है. बस इतना समझ लीजिए कि लड़की को रोकने का अधिकार संविधान नहीं देता है. हर किसी को अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीने का हक है. इसलिए अगर आप चाहते हैं कि रिश्ते की बात कानून तक न पहुंचे तो अपनी बहन पर पाबंदियां न लगायें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading