कोरोना रोकने में मददगार है फेस मास्‍क, 25% तक कम हुए मामले: स्‍टडी

मास्क पहनने से वायरस के प्रभाव में कमी लाई जा सकती है.
मास्क पहनने से वायरस के प्रभाव में कमी लाई जा सकती है.

एक हालिया स्‍टडी (Study) के मुताबिक फेस मास्क (Face Mask) कोरोना (Corona virus) को रोकने में प्रभावी है. इसके आधार पर कहा जा सकता है कि अगर घर और सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहना जाए तो कोविड-19 (Covid-19) के प्रभाव को धीमा किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2020, 1:40 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Corona virus) पर हुए एक और अध्ययन (Study) में यह निष्कर्ष निकलकर आया है कि वायरस से बचाव के लिए फेस मास्क (Face Mask) बड़ी भूमिका अदा कर रहा है. शोध के मुताबिक सार्वजनिक रूप से बड़ी सख्या में लोगों के मास्क पहनने से कोविड-19 (Covid-19) के संचरण में तेजी से कमी आ सकती है. यह अध्ययन कनाडा की साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी (Simon Fraser University) ने किया है. शोधकर्ताओं के मुताबिक सार्वजनिक रूप से मास्क पहनने से कोविड-19 की दर में साप्ताहिक 25 फीसदी की कमी आ रही है. शोध में यह भी पाया गया कि व्यवसायों और समारोह पर प्रतिबंध के दौरान कोरोना के मामलों में 48 से 57 फीसदी की कमी आई थी. निष्कर्षों के लिए शोध दल ने दो महीनों के दौरान ओंटारियो की 34 सार्वजनिक स्वास्थ्य इकाइयों (PHU) में लागू किए गए मास्क के प्रभाव का भी विश्लेषण किया.

ये भी पढ़ें - कोरोना वायरस से पड़ रहा पुरुषों के सेक्स हॉर्मोन्स पर असर, जानिए 

इसके बाद शोध दल ने PHU के परिणामों की तुलना की. जिसमें पहले ही हफ्ते में यह पता चला कि जुलाई-अगस्त की तुलना में कोविड-19 मामलों में 25 से 31 फीसदी की कमी आई है. अध्ययनकर्ताओं ने बताया कि इन परिणामों की अतिरिक्त सर्वेक्षण डेटा ने भी सराहना की और इसी आधार पर कनाडा में मास्क पहनने वालो में 30 फीसदी की बढ़ोतरी हुई. इन परिणामों के आधार पर सुझाव दिया गया है कि घर और सार्वजनिक रूप से मास्क पहनने से कोविड-19 के संचरण को धीमा किया जा सकता है.



ये भी पढ़ें - कोरोना में क्‍यों की जाती है कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, जानिए क्‍या है ये
शोधकर्ताओं ने कहा कि हालांकि यह परिणाम बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, लेकिन उनके द्वारा जांचे गए नमूनों की अवधि उन्हें निश्चित रूप से यह कहने की अनुमति नहीं देती है कि मास्क की आनिवार्यता से वायरस का प्रभाव बराबर बना रहेगा या फिर कुछ हफ्तों में ही इसका असर फीका पड़ जाएगा, लेकिन शोधकर्ताओं ने इसका निष्कर्ष निकाला कि अन्य नीतिगत उपायों के साथ मास्क की अनिवार्यता से वायरस के प्रभाव में बड़ी कमी लाई जा सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज