• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Shayari: 'जी ख़ुश तो हो गया मगर आंसू निकल पड़े', आज पढ़ें ये दिलकश अशआर

Shayari: 'जी ख़ुश तो हो गया मगर आंसू निकल पड़े', आज पढ़ें ये दिलकश अशआर

शायरी: रोज़ अच्छे नहीं लगते आंसू...Image/pexels-Ir-Solyanaya

शायरी: रोज़ अच्छे नहीं लगते आंसू...Image/pexels-Ir-Solyanaya

Shayari: उर्दू शायरी (Urdu Shayari) में दर्दे-जुदाई और इससे लबरेज़ जज्‍़बात (Emotion) को बहुत ही ख़ूबसूरत अंदाज़ में पेश किया गया है...

  • Share this:
    Shayari: शेरो-सुख़न (Urdu Shayari) की दुनिया में हर जज्‍़बात को बेहद ख़ूबसूरती के साथ काग़ज़ पर उकेरा गया है. बात चाहे इश्‍क़ो-मुहब्‍बत (Love) की हो या किसी और जज्‍़बात (Emotion) को अल्‍फ़ाज़ में बांधा गया हो. शायरी में इन्‍हें ख़ूबसूरती के साथ तवज्‍जो मिली है. इसी तरह ख़ुशी की कैफियत हो या दर्द का लम्‍हा, इन्‍हें शायरों ने अपने अपने दिलकश अंदाज़ में पेश किया है. ऐसे ही शायरी में अगर दर्द का बयां है, तो अश्‍क की बात भी बेहद ख़ूबसूरती के साथ कही गई है. आज शायरों के ऐसे ही बेशक़ीमती कलाम से चंद अशआर आपके लिए. शायरों के ऐसे अशआर जिसमें बात 'दर्द, ग़म की हो और अश्‍क का जिक्र हो. तो आप भी इसका लुत्‍़फ़ उठाइए...

    वो अक्स बन के मेरी चश्म-ए-तर में रहता है
    अजीब शख़्स है पानी के घर में रहता है
    बिस्मिल साबरी

    रोने वाले तुझे रोने का सलीक़ा ही नहीं
    अश्क पीने के लिए हैं कि बहाने के लिए
    आनंद नारायण मुल्ला

    ये भी पढ़ें - Shayari: 'हम न सोए रात थक कर सो गई', पेश हैं दिलकश कलाम

    एक आंसू ने डुबोया मुझ को उनकी बज़्म में
    बूंद भर पानी से सारी आबरू पानी हुई
    शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

    रोज़ अच्छे नहीं लगते आंसू
    ख़ास मौक़ों पे मज़ा देते हैं
    मोहम्मद अल्वी

    उन के रुख़्सार पे ढलके हुए आंसू तौबा
    मैंने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा
    साहिर लुधियानवी

    मैं रोना चाहता हूं ख़ूब रोना चाहता हूं मैं
    फिर उसके बाद गहरी नींद सोना चाहता हूं मैं
    फ़रहत एहसास

    मुद्दत के बाद उसने जो की लुत्फ़ की निगाह
    जी ख़ुश तो हो गया मगर आंसू निकल पड़े
    कैफ़ी आज़मी

    ये भी पढ़ें - Shayari: 'दरमियां के फ़ासले का तय सफ़र कैसे करें', मुहब्‍बत से लबरेज़ शायरी

    इस क़दर रोया हूं तेरी याद में
    आईने आंखों के धुंदले हो गए
    नासिर काज़मी

    हसीं तेरी आंखें हसीं तेरे आंसू
    यहीं डूब जाने को जी चाहता है
    जिगर मुरादाबादी

    (साभार/रेख्‍़ता)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज