Father’s Day 2021: ये 5 बातें पिता के साथ आपके रिश्‍ते को बना देंगी और मजबूत

Father’s Day 2021: कुछ पल फुर्सत के आपके रिश्‍तों को बनाएंगे मजबूत. Image/shutterstock

Father’s Day 2021: कई बार कम्‍युनिकेशन गैप (Communication Gap) की वजह से संबंधों (Relationship) में खिंचाव पैदा होने लगता है. अगर कोरोना काल में आप घर में ज्‍यादा समय बिता रहे हैं तो अपने पिता के साथ अपने संबंध बेहतर बनाने का प्रयास करें.

  • Share this:
    Father’s Day 2021: खुशी हो या दुख हमारे साथ हमारे माता पिता खड़े होते हैं. जहां मां की ममता की छाया हमें सुकून देती है, वहीं पिता (Father) का संरक्षण हमें इस बात का एहसास कराता है कि हम सुरक्षित हैं. हालांकि आज की व्‍यस्‍त जीवन शैली में बच्‍चों के पास अपने पेरेंट्स के लिए समय की कमी है. इसका नतीजा कई बार यह होता है कि कम्‍युनिकेशन गैप (Communication Gap) की वजह से हमारे संबंधों में खिंचाव पैदा होने लगता है और दूरियां बढ़ने लगती हैं. मगर रिश्‍तों को संभाले रखने और इनमें मिठास कायम रखने के लिए जरूरी है कि हम अपने पेरेंट्स (Parents) का ख्‍याल रखें. मां के साथ तो फिर भी कुछ समय बिताने का मौका अक्‍सर मिल जाता है, मगर पिता की व्‍यस्‍तता और बच्‍चों के अपने काम, पढ़ाई, जॉब आदि की वजह से उनके साथ कई बार समय गुजारने तक का समय नहीं मिलता. ऐसे में कुछ बदलाव करके और कुछ पल फुर्सत के निकाल कर अपने पिता के साथ अनमोल पल जरूर बिताएं. ताकि आपका रिश्‍ता और मजबूत होता जाए.

    मॉर्निंग वॉक के बहाने आएं करीब
    अक्‍सर हमें अपने पिता के साथ समय बिताने का मौका कम ही मिलता है. इस भागम-भाग भरी लाइफ में कई बार हमारे पास समय नहीं होता, तो कई बार हमारे पिता को ही अपनी जिम्‍मेदारियों आदि से फुर्सत कम ही मिलती है. ऐसे में सुबह का समय सबसे अच्‍छा होता है जब आप कुछ पल फुर्सत के निकाल सकते हैं. अगर आपके फादर मॉर्निंग वॉक पर नहीं जाते हैं, तो उन्‍हें इसके लिए प्रोत्‍साहित करें, ताकि उनकी सेहत दुरुस्‍त बनी रहे. वहीं अगर वह रोज सुबह की सैर के आदी हैं तो यह आपके लिए एक खूबसूरत बहाना बन सकता है उनके साथ समय बिताने का. तो इस बहाने अपने पिता के साथ कुछ समय जरूर बिताएं.

    ये भी पढ़ें - Father’s Day 2021: जानें क्‍यों मनाया जाता है 'फादर्स डे', क्‍या है इतिहास

    कम्‍युनिकेशन गैप न होने दें
    लॉकडाउन या कोरोना काल में अगर आप अपने घर में ज्‍यादा समय बिता रहे हैं तो ऐसे में इसका पूरा फायदा अपने पिता के साथ अपने संबंध मजबूत करने में कर सकते हैं. अक्‍सर बढ़ते बच्‍चों और पेरेंट्स के बीच कुछ चीजों को लेकर तनाव पनपने लगता है. ऐसे में जब आप घर में ज्‍यादा समय बिता रहे हैं तो कोशिश करें कि इस समय आप अपने रिश्‍तों के कम्‍यूनिकेशन गैप को दूर करने का प्रयास करें.

    सेहत पर दें पूरा ध्‍यान
    बढ़ती उम्र में पेरेंट्स की सेहत का ख्‍याल रखना हमारी जिम्मेदारी होती है. ऐसे में उनकी हेल्‍थ का पूरा ख्‍याल रखें. उनकी दवाएं और डॉक्‍टर के पर्चे आदि व्‍य‍वस्थित रखें ताकि जब कभी जरूरत पड़े तो इन्‍हें ढूंढ़ने या डॉक्‍टर को दिखाने में कोई दिक्‍कत न आए. साथ ही कागजी कार्यवाही में उनकी मदद करके भी आप उनका हाथ बंटा सकते हैं.

    वह करें जो दोनों को लगे दिलचस्प
    पिता से बच्‍चों के संबंध कभी-कभी तनावपूर्ण हो जाते हैं. खासकर तब जब दोनों की रुचियां अलग अलग हों. मगर थोड़े से प्रयास से आप ऐसा कुछ कर सकते हैं जो आप दोनों को दिलचस्प लगे. यानी जो चीज आपके पिता को पसंद हो उसकी प्रशंसा करें. अगर उन्‍हें कोई खेल पसंद है तो इस बहाने उनके साथ समय बिताएं. समान रुचियों की वजह से जहां आप और करीब आएंगे वहीं पिता से आपके संबंध और मजबूत होंगे. जैसे अगर आपके पिता को बागवानी या कुकिंग पसंद है तो आप इसमें उनका हाथ बंटा सकते हैं. वहीं उनकी पसंद की किताबों पर चर्चा भी कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें - दूसरों की मदद में है खुशियों की चाबी और इससे होता है तनाव दूर

    भावनाओं का रखें पूरा ख्‍याल
    सबसे जरूरी बात वह यह कि जब भी किसी बात को लेकर आपके पेरेंट्स या पिता के बीच मतभेद हों तो आप इस पर प्रतिक्रिया देने से बचें. अगर कुछ कहना ही है तो कुछ समय बाद विनम्रता से अपनी बात रखें. लेकिन अगर आप उस समय उग्र हो जाएंगे तो इससे आपके पिता के मन को ठेस पहुंचेगी. वैसे भी वे बच्‍चो का हित ही चाहते हैं, ऐसे में उनकी भावनाओं का भी पूरा ख्‍याल रखें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.