पुरुष शुक्राणुओं को स्वस्थ्य बनाने के लिए अपना सकते हैं ये घरेलू उपाय

पुरुष शुक्राणुओं को स्वस्थ्य बनाने के लिए अपना सकते हैं ये घरेलू उपाय
एक मिलीलीटर वीर्य में डेढ़ करोड़ तक शुक्राणु होने चाहिए.

सेक्स (Sex) के दौरान पुरुषों के लिंग से निकलने वाले वीर्य में शुक्राणु (Sperm) की संख्या सामान्य से कम होना चिंता का विषय है.वहीं शुक्राणु की संख्या बढ़ाने के लिए पुरुष कई घरेलू उपायों (Home remedies) को भी अपना सकते हैं, जिनका कोई साइडइफेक्ट नहीं है.

  • Last Updated: August 29, 2020, 6:44 AM IST
  • Share this:
स्वस्थ्य जीवन (Healthy life) के लिए शारीरिक संबंध (Sex) बनाना जरूरी है. वहीं पति-पत्नी का संबंध तभी पूर्ण माना जाता है जब महिला मां बनती है, लेकिन कुछ मामलों में ऐसा नहीं हो पाता. यह कमी महिला या पुरुष, किसी में भी हो सकती है. पुरुषों में शुक्राणुओं (Sperms) की कमी वह कारण होती है, जिसके कारण वह पिता नहीं बन पाता है. myUpchar से जुड़ीं डॉ. वीके राजलक्ष्मी के अनुसार, शुक्राणुओं की कमी का मतलब है कि सेक्स (Sex) के दौरान पुरुषों के लिंग से निकलने वाले वीर्य में सामान्य से कम शुक्राणु होना.

इस स्थिति को डॉक्टरी भाषा में ओलिगोस्पर्मिया कहा जाता है. एक स्थिति ऐसी भी आती है जब शुक्राणु पूरी तरह खत्म हो जाते हैं. इसे एजुस्पर्मिया कहा जाता है. एक मिलीलीटर वीर्य में डेढ़ करोड़ तक शुक्राणु होने चाहिए. इससे कम हैं तो इलाज करवाना चाहिए. शुक्राणु की गणना करने के लिए टेस्ट भी करवाए जा सकते हैं. वहीं शुक्राणु की संख्या बढ़ाने के लिए कई घरेलू उपाय भी हैं, जिन्हें बिना किसी साइडइफेक्ट के अपनाया जा सकता है.


शुक्राणु कम होने के लक्षण
पुरुषों में शुक्राणु कम होने पर शरीर से संकेत मिलने शुरू हो जाते हैं. जैसे - यौन गतिविधियों की समस्याएं, लिंग में सूजन, गांठ, चेहरे पर बालों का कम होना, हार्मोन की असामान्य स्थिति. डॉ. वीके राजलक्ष्मी के अनुसार, अगर पुरुष ने इच्छा नहीं होने के कारण एक साल तक शारीरिक संबंध नहीं बनाए हैं, तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए. साथ ही यदि एक साल तक शारीरिक संबंध बनाए जाने के बाद भी गर्भधारण नहीं हो रहा है तो डॉक्टर से सम्पर्क कर इलाज करवाना चाहिए.



शुक्राणु बढ़ाने के घरेलू उपाय
myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, शुक्राणु या स्पर्म बढ़ाने का अचूक नुस्खा है अश्वगंधा. एक गिलास दूध में आधा चम्मच अश्वगंधा मिलाकर नियमित रूप से सेवन करें. शुरू में इसका सेवन दिन में दो बार किया जा सकता है. इसके अलावा अश्वगंधा की जड़ का जूस बनाकर भी पिया जा सकता है. माका जड़ एक अन्य लोकप्रिय जड़ी-बूटी है, जो हार्मोन संतुलन का काम करती है. दिन में दो बार माका जड़ का सेवन करने से लाभ होता है. इसे पानी या प्रोटीन शेक के साथ भी लिया जा सकता है.

शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू नुस्खा लहसुन भी है. लहसुन प्राकृतिक रूप से शारीरिक संबंध की इच्छा बढ़ाने वाली औषधि है. इसमें एल्लीसिन नामक यौगिक होता है जो शुक्राणु बढ़ाता है. इसके अलावा लहसुन में मौजूद सेलेनियम शुक्राणु की गतिशिलता को बेहतर बनाने में मदद करता है. रोज लहसुन की एक या दो कली का सेवन जरूर करें. संभव हो तो कच्चा लहसुन खाएं, इसके अलावा पैनेक्स जिंसेंग भी शुक्राणु बढ़ाने की आर्युवेदिक दवा है. इसे कोरियन जिंसेंग भी कहा जाता है. चीन मे इसका उपयोग तनाव दूर करने में किया जाता है. शुक्राणु बढ़ाने का एक अन्य घरेलू नुस्खा है ग्रीन टी. ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो शुक्राणु कोशिकाओं को नुकसान होने से रोकता है. इससे शुक्राणुओं की गुणवत्ता और गतिशिलता बढ़ाती है. इसके अलावा शुक्राणु की कमी को रोकने के घरेलू उपायों में शामिल हैं. आर्गेनिक चीजों का अधिक इस्तेमाल, विटामिन सी, जस्ता, सेलेनियम, फोलिक एसिड और ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्त खाद्यपदार्थों का इस्तेमाल करें. तनाव न लें. भरपूर नींद लें.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, शुक्राणुओं की संख्या कितनी होनी चाहिए, लक्षण, कारण, इलाज, जटिलताएं और दवा? पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज