• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • FOOD FEELS MORE TASTY DUE TO MORE LIGHT IN THE RESTAURANT STUDY DLNK

रेस्टोरेंट में हो ज्यादा रोशनी तो खाना लगता है ज्‍यादा टेस्टी: स्टडी

तेज रौशनी में खाना ज्यादा स्वादिष्ट लगता है. Image Credit/Pexels Adrienn

एक अध्ययन (Study) के मुताबिक रोशनी का असर खाने के टेस्ट (Food Taste) पर भी पड़ता है. इस स्‍टडी में सामने आया कि रेस्टोरेंट (Restaurant) में ज्‍यादा रोशनी से परोसे जाने वाले भोजन का स्वाद भी प्रभावित होता है.

  • Share this:
    हमारी इंद्रियां एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं और हमारी प्रतिक्रिया शायद ही कभी अलग-थलग होती है. यह दो या अधिक इंद्रियों का एक संयोजन है. एक अध्ययन (Study) द्वारा सामने आया कि स्थिति के अनुसार खाने का टेस्ट (Food Taste) पता चलता है. चमकदार रोशनी वाले कमरे में बैठे मेहमानों को कम रोशनी में बैठे मेहमानों की तुलना में खाना ज्यादा स्वादिष्ट लगा. नीदरलैंड्स (Netherlands) के मास्टरिच यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं (Researchers) ने कहा कि हमने अपनी रिसर्च में पाया कि एक रेस्टोरेंट में रोशनी को संशोधित करने से न केवल माहौल बदल जाता है, बल्कि वहां परोसे जाने वाले भोजन का स्वाद भी प्रभावित होता है.

    शोधकर्ताओं ने 138 लोगों पर रिसर्च की. उन्हें रेस्टोरेंट में लेकर जाया गया और अलग-अलग दिन लाइट में बदलाव किया गया. पहली डिश सर्व करने के बाद उन्हें रिसर्च सवाल यानी क्वेश्चनेयर भरने को कहा गया. शोधकर्ताओं ने उनमें स्वाद के अलावा सुनने, उत्तेजनाओं, ध्वनी और सुगंध आदि में भी वृद्धि देखी.

    ये भी पढ़ें - Most Popular Dishes of Kerala: केरल की 5 लोकप्रिय डिशेज

    हर्टफोबशायर के एक रेस्टोरेंट मालिक गार्न्सवर्दी ने द टेलीग्राफ अख़बार को बताया कि पहला टेस्ट आँखों में होता है इसलिए खाने के दौरान लाइटिंग काफी अहम होती है. स्टडी यह भी कहती है कि लाइटिंग से खाना ज्यादा स्वादिष्ट लगा. कुछ लोगों ने यह भी माना कि बाहर खाने के दौरान कम लाइट का होना काफी आरामदायक होता है. नोर्म, द स्टैफोर्ड में निर्देशक बेन टिश ने कहा कि डिनर में रोशनी लोगों को लम्बे समय तक रहने के लिए प्रेरित करती है. उन्होंने यह भी कहा कि रोमांटिक डिनर के लिए यह अच्छा है.

    ये भी पढ़ें - कोरोना काल में रेकी हीलिंग है फायदेमंद, जानिए क्‍या है ये

    डिनर के लिए अक्सर बाहर जाने वाले लोगों में दो प्रवृत्ति के लोग देखे जाते हैं. कुछ लोग गहरी लाइटिंग में बैठकर खाना पसंद करते हैं. दूसरी तरफ कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो प्राइवेसी चिंताओं के कारण कम या मध्यम लाईट में बैठकर अपने डिनर का आनन्द उठाना पसंद करते हैं. हालांकि वे अपनी व्यतिगत सुविधाओं के कारण ऐसा फैसला लेते हैं.
    Published by:Naaz Khan
    First published: