Covid 19: सैनिटाइजर का ज्यादा इस्तेमाल है हानिकारक- विशेषज्ञ

डब्ल्यूएचओ साबुन और पानी से हाथों को बार-बार धोने की भी सलाह देता है.
डब्ल्यूएचओ साबुन और पानी से हाथों को बार-बार धोने की भी सलाह देता है.

Covid 19, Coronavirus: व्यक्तिगत स्वच्छता के लिए डब्ल्यूएचओ (WHO) साबुन और पानी से हाथों को बार-बार धोने की भी सलाह देता है.

  • Agency
  • Last Updated: April 17, 2020, 1:59 PM IST
  • Share this:
कोविड-19 (Covid 19, Coronavirus) से लड़ने के लिए सोडियम हाइपोक्लोराइट (Sodium hypochlorite) घोल और हाइड्रोजन पेरोक्साइड जैसे रसायनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. इसका इस्तेमाल ज्यादातर सैनिटाइजेशन के लिए किया जा रहा है. हिंदुस्तान ई पेपर ने कई विशेषज्ञों के हवाले से छापा है कि इन रसायनों का सीधे मानव की त्वचा पर उपयोग करते समय सावधानी बरतने की आवश्यकता है. यह इंसान की त्वचा को खराब कर सकता है. व्यक्तिगत स्वच्छता के लिए डब्ल्यूएचओ साबुन और पानी से हाथों को बार-बार धोने की भी सलाह देता है.

सोडियम हाइपोक्लोराइट एक मजबूत कीटाणुनाशक है, जिसका उपयोग संदूषित सतहों और वस्तुओं को कीटाणुरहित करने के लिए किया जाता है. इसके त्वचा के संपर्क में आने से त्वचा में खुजली और जलन हो सकती है जिससे त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं. इसी तरह, हाइड्रोजन पेरोक्साइड एक मजबूत विरंजन एजेंट है और इसका उपयोग वस्तुओं और सतहों तक सीमित होना चाहिए. आपके चेहरे पर इन रसायनों का उपयोग आंखों, नाक और मुंह में प्रवेश की संभावना के साथ और भी अधिक हानिकारक है, जिससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं.

एएमएआई अध्यक्ष जयंतीभाई पटेल, ने कहा कि हम इन कीटाणुनाशकों के सुरक्षित उपयोग के लिए सरकार और नागरिकों के साथ संपर्क कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि सोडियम हाइपोक्लोराइट, क्लोरीन, हाइड्रोजन पेरोक्साइड और ब्लीच जैसे रसायनों के अत्यधिक संपर्क से बचना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज