Home /News /lifestyle /

गणेश चतुर्थी: गणेश भगवान करेंगे सब विघ्नों का नाश अगर ऐसे करेंगे उपवास और पूजा

गणेश चतुर्थी: गणेश भगवान करेंगे सब विघ्नों का नाश अगर ऐसे करेंगे उपवास और पूजा

गणेश भगवान

गणेश भगवान

इस दिन पूरे विधि-विधान से पूजा करने से गणेश भगवान प्रसन्न होते हैं.

    गणेश भगवान को विघ्नहर्ता कहा जाता है इसीलिए पूजापाठ के दौरान सबसे पहले उन्हीं की पूजा की जाती है. गणेश चतुर्थी के दिन पूजा-पाठ करने और उपवास करने का एक अलग महत्व है. मार्गशीष माह, अगहन (नवंबर) की गणेश चतुर्थीइस बार 26 नवम्बर सोमवार को पड़ रही है. इस दिन पूरे विधि-विधान से पूजा करने से गणेश भगवान प्रसन्न होते हैं. आइए जानते हैं इस दिन किस विधि से पूजा करना फलदायक रहेगा:

    'Y' अक्षर से शुरू होता है नाम? जानें सारे राज!

    गणेश चतुर्थी पूजा की विधि:

    गणेश चतुर्थी यानी कि 26 नवम्बर सोमवार को जो भी भक्त गणेश भगवान का आशीर्वाद पाना चाहते हैं वो इस दिन सुबह उठकर नहा-धोकर साफ़ कपड़े पहनकर तैयार हो जाएं. इसके बाद धूप, दीप, नैवेद्य, अक्षत और पुष्प अर्पित कर गणेश भगवान की पूजा करें. साथ ही मंत्रो का पाठ भी करते रहें.

    VASTU: हर घर में लगे होने चाहिए ये 5 पौधे, आती है सकारात्मक ऊर्जा और खुशहाली!

    ऐसे लें उपवास का संकल्प:

    इसके बाद अपने चेतन मन में गणेश भगवान का ध्यान करते हुए अपने हाथ में घास और पानी लेकर व्रत का संकल्प इस प्रकार पढ़ें, 'मम सर्वकर्मसिद्धये सिद्धिविनायक पूजनमहं करिष्ये'.

    जन्म की तारीख में छुपे हैं कई राज, इस तरह मूलांक निकालकर जानें अपनी किस्मत

    इसके बाद तांबे के एक कलश में गंगाजल मिलाकर पानी भर लें. अब इसमें घास, हल्दी की गांठ और कुछ सिक्के डाल कर आम्रपत्र लगाकर एक तश्तरी से ढक दें, इसके मुहाने पर लाल कपड़ा लगाकर कलावे से भी बांध सकते हैं. अब इसपर गणेश भगवान की एक मूर्ति रख दें. पूरे दिन गणेश भगवान के मंत्र का मन ही मन जाप करते रहें. शाम को भगवान की पूजा करने से पहले दोबारा नहा-धो लें.

    अब गणेश भगवान को मोदक चढ़ाएं और धूप, दीप, नैवेद्य, अक्षत के साथ विधिवत उनकी पूजा-अर्चना करें. इस बात का ख़याल रखें कि गणेश भगवान को 10 मोदकों का भोग लगाना है. इस पूजा के बाद आसमान में चंद्रमा के द्रष्टिगोचर होने पर पूरे विधि-विधान से उसकी पूजा-अर्चना कर दूध और पानी के मिश्रण से उसे अर्घ्य दें. इसके बाद पंडितजी से गणेश चतुर्थी की कथा सुनें. इसके बाद हवन करें. हवन में समिधा के तौर पर जौ, चावल, चीनी, तिल व घी का प्रयोग करें. इसके बाद देसी घी के दीपक से गणेश भगवान की आरती उतारें. इसके बाद कथा सुनने आए लोगों या किसी गरीब को 5 लड्डू (मोदक) प्रसाद के तौर पर बांटे और बाकी बचे 5 लड्डू (मोदक) ब्राह्मण देवता को दान कर देने चाहिए.

    Tags: Ganesh Chaturthi, Ganesh Chaturthi 2018, Lifestyle, Religion

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर