Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी मूर्ति स्थापना के समय भूलकर भी न करें ये 10 गलतियां

Happy Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी का समय ऐसा होता है कि आप गणेश भगवान की कृपा पा सकते हैं लेकिन इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है.

News18Hindi
Updated: September 13, 2018, 9:17 AM IST
Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी मूर्ति स्थापना के समय भूलकर भी न करें ये 10 गलतियां
गणेश चतुर्थी २०१८
News18Hindi
Updated: September 13, 2018, 9:17 AM IST
भगवान गणेश को प्रथम पूज्य माना जाता है. लोग दफ़्तर हो या घर हर जगह भगवान गणेश की फोटो लगाते हैं. गणेश चतुर्थी का समय ऐसा होता है कि आप गणेश भगवान की कृपा पा सकते हैं लेकिन इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है.

  • मूर्ति स्थापना के समय ध्यान रखें कि उनकी सूंड बाएं हाथ की ओर घुमी हुई हो. दाएं हाथ की ओर घुमी हुई सूंड वाले गणेश जी ज़िद्दी माने जाते हैं.

  • भगवान गणेश की मूर्ति स्थापना के समय ध्यान रखें, भगवान श्रीगणेश का मुंह दक्षिण दिशा की ओर ना हो. अगर ऐसा है तो आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है.


  • घर पर श्रीगणेश की बैठी मुद्रा वाली और दफ्तर में खड़े गणपति की मूर्ति रखना शुभ माना जाता है. इसका बेहद ध्यान रखें.

  • जिस घर या दुकान में आप मूर्ति रख रहे हैं वहां ध्यान रखें कि भगवान के दोनों पैर जमीन को स्पर्श कर रहे हों. इससे सफलता आपके कदम चूमेगी.

  • वास्तु-दोष खत्म करने के लिए घर के मेन गेट पर गणपति की दो मूर्ति या चित्र लगाएं. दोनों मूर्तियों को ऐसे लगाएं कि पीठ आपस में मिली रहे.

  • घर में खुशहाली बनाए रखने के लिए अपने घर सफेद रंग के भगवान गणेश की मूर्ति लगाएं.

  • घर के केंद्र में और पूर्व की दिशा में मंगलकारी श्री गणेश की मूर्ति लगाना बेहद शुभ माना जाता है.

  • सिंदूरी रंग के गणपति की पूजा करने से आपका हर काम मंगलमय होगा. ऐसा करने वालों की सभी मनोकामनाएं जल्दी पूरी हो जाती हैं.

  • घर में श्री गणेश का चित्र लगाते समय ध्यान रखें कि चित्र में मोदक और चूहा हो.

  • गणपति स्थापना के बाद श्री गणेश का एक मेहमान की तरह ख्याल रखें. उन्हें 3 टाइम भोग लगाएं.


ये भी पढ़ें:

Ganesh Chaturthi 2018: ऐसे करें गणपति की स्‍थापना, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

जानिए क्यों मनाई जाती है गणेश चतुर्थी और क्या है पौराणिक कथा

गणेशोत्सव के बहाने होती थी आज़ादी की बातें, जानें गणेश चतुर्थी का ऐतिहासिक महत्व

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर