फैशन इंडस्ट्री की वजह से खतरे में है पर्यावरण: स्टडी


बढ़ती फैशन इंडस्ट्री की वजह से खतरे में है पर्यावरण
बढ़ती फैशन इंडस्ट्री की वजह से खतरे में है पर्यावरण

शोधकर्ताओं ने कहा, फास्ट फैशन के चलते कपड़ों का निर्माण बहुत तेजी से हो रहा है और यह बहुत सस्ते में बनाए व बेचे जा रहे हैं.

  • Agency
  • Last Updated: April 15, 2020, 9:50 AM IST
  • Share this:
फैशन इंडस्ट्री के तेजी से बढ़ने के कारण पर्यावरण प्रभावित हो रहा है. हिंदुस्तान ई पेपर ने हाल ही में हुए एक अध्ययन के हवाले से छापा है कि- तेजी से बढ़ता फैशन उद्योग हमारे ग्रह के अस्तित्व को धीरे-धीरे खत्म कर रहा है. शोधकर्ताओं ने कहा, आए-दिन बदलते फैशन के चलते कपड़ों का निर्माण बहुत तेजी से हो रहा है, जिसकी वजह से यह दुनिया में सबसे अधिक प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों में से एक बन गया है.

इन फैक्टर्स की पहचान की :
शोधकर्ताओं ने तेजी से बढ़ते फैशन का पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन किया. इसमें फिनलैंड, स्वीडन, अमेरिका, यूके और यूएनएसडब्ल्यू के शिक्षाविदों ने फैशन सप्लाई चेन के पर्यावरणीय प्रभावों की पहचान की. इसमें उत्पादन से लेकर उपभोग तक, पानी की खपत, रासायनिक प्रदूषण, कार्बन उत्सर्जन और कपड़े के कचरे पर ध्यान केंद्रित किया गया. टेक्सटाइल और फैशन उद्योग एक लंबी सप्लाई चेन है, जो कृषि और पेट्रोकेमिकल उत्पादन (फाइबर उत्पादन) से लेकर विनिर्माण, आपूर्ति और खुदरा क्षेत्र तक है.

शोधकर्ताओं ने कहा, उत्पादन के हर चरण में में पानी, सामग्री, रसायनों और ऊर्जा का इस्तेमाल होने से पर्यावरण पर प्रभाव पड़ता है. अध्ययन में पाया गया कि यह उद्योग हर साल 92 मिलियन टन से अधिक कचरा उत्पन्न करता है और प्रति वर्ष लगभग 1.5 ट्रिलियन टन पानी की खपत करता है. विकासशील देशों के साथ अक्सर यह विकसित देशों के लिए भी एक बोझ बन जाता है.
बदलता फैशन वजह बड़ी :


शोधकर्ताओं ने कहा, फास्ट फैशन के चलते कपड़ों का निर्माण बहुत तेजी से हो रहा है और यह बहुत सस्ते में बनाए व बेचे जा रहे हैं. फैशन एंड टेक्सटाइल डिजाइन के शोधकर्ता एलिसन ग्विल्ट ने कहा, फास्ट फैशन एक चलन है क्योंकि इन कपड़ों को अक्सर थोड़े समय के लिए पहना जाता है. उपभोक्ता इनको डिस्पोजेबल कपड़ों के रूप में देखते हैं.

इन कपड़ों के उत्पादन की लागत बेहद कम होती है और अक्सर ये खराब गुणवत्ता वाली सामग्री से बने होते हैं. आमतौर पर ये कपड़े वर्तमान में चल रहे फैशन के लिए डिजाइन किए जाते हैं, जिसका मतलब है कि नए उत्पाद लगातार हर समय स्टोर में आते रहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज