गुप्त नवरात्रि आज से शुरू, जानिए महत्व और पूजा विधि

तांत्रिक विद्या सिद्ध करने के लिए तांत्रिक गुप्त नवरात्रि में ख़ास विधि से मां की पूजा करते हैं...

News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 12:54 PM IST
गुप्त नवरात्रि आज से शुरू, जानिए महत्व और पूजा विधि
गुप्त नवरात्र
News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 12:54 PM IST
अषाढ़ माह में आज यानी कि 3 जुलाई बुधवार से  गुप्त नवरात्रि का शुभारम्भ हो चुका है. हिंदू पांचाग के अनुसार, नवरात्रि साल में चार बार पड़ती है. मान्यता है कि दो  नवरात्रि सामान्य होते हैं और दो नवरात्रि गुप्त होते हैं. गुप्त नवरात्रि के दौरान तांत्रिक और अघोरी अपनी मनोकामना पूरी करने और शक्ति हासिल करने के लिए ख़ास विधि से मां की पूजा करते हैं. इस दौरान तांत्रिक गुप्त तरीके से सबकी नजरों से बचाकर मां की पूजा करते हैं. सप्तमी तिथि का क्षय होने के कारण यह नवरात्रि 8 दिनों का है. आइए जानते हैं गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि और महत्व:

इसे भी पढ़ें:  पुरुषों की दाढ़ी में कुत्ते के बाल से ज्यादा खतरनाक बैक्टीरिया, रिसर्च में हुआ खुलासा

गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि:
तांत्रिक और अघोरी गुप्त नवरात्रि के दौरान आधी रात में मां दुर्गा की पूजा करते हैं. मां दुर्गा की मूर्ति स्थापित करने के दौरान लाल रंग का सिन्दूर और सुनहरे गोटे वाली लाल रंग की चुनरी चढ़ाई जाती है. इसके बाद मां के चरणों में पानी वाला नारियल, केले, सेब, तिल के लडडू, बताशे और खील अर्पित करें. मां पर लाल गुलाब या गुड़हल का पुष्प चढ़ाएं. सरसों के तेल से दिया जलाकर 'ॐ दुं दुर्गायै नमः' मंत्र का जाप करें.

इसे भी पढ़ें: ऐसी महिलाएं होती हैं बेहद मजबूत, इन्हें हराना किसी के बस में नहीं!

गुप्त नवरात्रि का महत्व:
गुप्त नवरात्रि में तांत्रिक देवी मां को खुश करने के लिए अर्द्धरात्रि में तांत्रिक विधि से पूजा करते हैं. इस दौरान वो चमत्कारी शक्तियां हासिल करना चाहते हैं. तंत्र-मंत्र सिद्धि करने के लिए ही वो गुप्त नवरात्रि की पूजा करते हैं. कुछ तांत्रिक इस बीच पूरी महाविद्याओं की भी पूजा करते हैं. मान्यता है कि इस दौरान साधना करने से विशेष तांत्रिक शक्तियां हासिल होती हैं. समान्य साधक भी अगर गुप्त नवरात्रि के दौरान पूजा करता है तो उसे नौ गुने अधिक फल की प्राप्ति होती है.
Loading...

लाइफस्टाइल, खानपान, रिश्ते और धर्म से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 2:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...