लाइव टीवी
Elec-widget

हैंड राइटिंग खोलती है कई राज, बताती है कैसी है आपकी शख्सियत

News18Hindi
Updated: December 1, 2019, 3:36 PM IST
हैंड राइटिंग खोलती है कई राज, बताती है कैसी है आपकी शख्सियत
हैंड राइटिंग खोलती है कई राज, बताती है कैसी है आपकी शख्सियत

जयपुर के 51 वर्षीय कारोबारी नवीन तोशनीवाल सदियों पुराने हस्तलेख अध्ययन का विश्लेषण कर रहे हैं. वह इसका विश्लेषण करके प्रबंधन छात्रों और पेशेवर को उनके व्यक्तित्व सुधार में मदद कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2019, 3:36 PM IST
  • Share this:
बचपन के दिनों में जब अच्छी हैंड राइटिंग के लिए क्लास टीचर गुड देते थे या इसके एक्स्ट्रा मार्क्स मिलते थे तो कितना अच्छा लगता था ना. लेकिन क्या आपने उस समय कभी ये बात सोची थी कि आपकी लिखावट आपकी शख्सियत के कई गहरे राज खोलती है. अमूमन ज़्यादातर लोगों का मनाना होगा कि लिखावट और व्यक्तित्व में कोई समानता नहीं है.लोग इन दोनों में भले ही कोई तालमेल न बैठा पाएं लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि आपकी लिखावट आपके व्यक्तित्व का परिचय देती है.

जयपुर के 51 वर्षीय कारोबारी नवीन तोशनीवाल सदियों पुराने हस्तलेख अध्ययन का विश्लेषण कर रहे हैं. वह इसका विश्लेषण करके प्रबंधन छात्रों और पेशेवर को उनके व्यक्तित्व सुधार में मदद कर रहे हैं. रसायन इंजीनियर से ग्राफो विश्लेषण (हस्तलेखन विश्लेषक) बने तोशनीवाल ने बताया कि हस्तलेख विश्लेषण वाली कला लगभग 2,000 ईसा पूर्व पुरानी है और यह दर्शनशास्त्री अरस्तु से जुड़ी है. अरस्तु ने ही मानव के मन और उसकी लिखावट के बीच के संबंध को निकाला था.

इसे भी पढ़ें: विश्व एड्स दिवस: AIDS के बारे में ये बातें जानते हैं आप? एड्स और HIV में क्या है फर्क

उन्होंने बताया कि हस्तलेखन विश्लेषण को लोकप्रियता कुछ दशक पहले ही मिली है और अब इस विज्ञान का सहारा कर्मचारियों की भर्ती, छात्रों के मार्गदर्शन, करियर काउंसलिंग और खुद के सुधार के लिए बड़े पैमाने पर लिया जाता है.

तोशनीवाला ने कहा, ‘‘ हस्तलेखन दरअसल ‘मन लेखन’ है. यह हमारे अंतर्मन की चीजों को कागज पर लाता है. इसलिए लिखावट में बदलाव के लिये किये गए थोड़े से प्रयास का भी असर एक व्यक्ति के चरित्र और व्यक्तित्व में इच्छित बदलाव लाने के लिये अंतर्मन पर पड़ता है. लिखावट में बदलाव के लिये तीन से चार हफ्तों तक रोजाना पांच से सात मिनट भी अभ्यास किया जाए तो इससे उस व्यक्ति के व्यक्तित्व में बदलाव आ सकता है.

इसे भी पढ़ें: टूटा फोन या टूटा हाथ- क्या चुनेंगे आप?

उन्होंने किसी की भी लिखावट को देखकर किसी की बुद्धिमता, दृढ़ निश्चय स्तर, रचनात्मकता, कल्पना शक्ति, एकाग्रता क्षमता का पता लगाया जा सकता है. तोशनीवाला ने बताया कि लिखावट का विश्लेषण कॉर्पोरेट, प्लेसमेंट सलाहकार, जांच एजेंसी और विवाहों में मददगार हो सकते हैं और सबसे ज्यादा मददगार तो खुद के व्यक्तित्व में सुधार के लिए हो सकता है. तोशनीवाला को इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी), हैदराबाद से हस्तलेखन विश्लेषण के लिए प्रशस्ति पत्र मिल चुका है. (एजेंसी)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 1, 2019, 3:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...