Home /News /lifestyle /

क्या खराब ओरल हेल्थ हार्ट अटैक की दस्तक है, स्टडी में जानिए सच्चाई

क्या खराब ओरल हेल्थ हार्ट अटैक की दस्तक है, स्टडी में जानिए सच्चाई

कुछ अध्ययनों में दावा किया जा रहा है कि खराब ओरल हेल्थ हार्ट डिजीज के जोखिम को बढ़ाती है. (Image: Shutterstock)

कुछ अध्ययनों में दावा किया जा रहा है कि खराब ओरल हेल्थ हार्ट डिजीज के जोखिम को बढ़ाती है. (Image: Shutterstock)

Poor oral health and heart disease: कुछ अध्ययनों में दावा किया जाता है कि खराब ओरल हेल्थ दिल की बीमारियों को दस्तक दे सकती है. अध्ययन के मुताबिक मसूड़ो या दांतों की परेशानी की प्रमुख वजह बैक्टीरिया है. ये बैक्टीरिया ब्लड वेसल्स में पहुंचकर सूजन पैदा करते हैं जिससे हार्ट अटैक या स्ट्रोक का जोखिम बढ़ जाता है. अध्ययन में यहां तक दावा किया गया कि अगर मामला गंभीर हो गया तो एंटीबायोटिक का असर इन बैक्टीरिया पर नहीं होता. ये बैक्टीरिया अन्य समस्याएं पैदा करने के बजाय बॉडी के इम्यून सिस्टम को प्रभावित करते हैं जिससे हार्ट डैमेज होने का खतरा बढ़ सकता है.

अधिक पढ़ें ...

    Poor oral health and heart disease: पिछले कुछ सालों से कई ऐसी स्टडी हुई हैं जिनमें यह दावा किया गया है कि अगर आपकी ओरल हेल्थ सही नहीं है यानी आप अपने दांतों और मसूड़ों की केयर सही से नहीं करते हैं, तो यह दिल से संबंधित बीमारियों का जोखिम बढ़ा देता है. ओरल हेल्थ को नजरअंदाज करने के गंभीर परिणामों में हार्ट अटैक और स्ट्रोक भी आ सकता है. अध्ययन के दावों में कहा जा रहा है कि जो बैक्टीरिया दांत के मसूड़ों पर हमला करता है वही बैक्टीरिया ब्लड वेसल्स में चले जाते हैं. मसूड़ों पर बैक्टीरिया के हमले से जिंजीवाइटिस और पेरियोडोंटाइटिस (gingivitis and periodontitis) की बीमारी लगती है. अध्ययन के मुताबिक ये बैक्टीरिया ब्लड वेसल्स में सूजन पैदा करने लगते हैं जिससे ब्लड क्लॉट होने लगता है और यही हार्ट अटैक और स्ट्रोक का कारण बनता है.

    इसे भी पढ़ेंः Health News: एंटी एजिंग के लिए दवा से बेहतर असर करती है डाइट- नई स्टडी

    क्या है सच्चाई

    हार्वर्ड मेडिकल जर्नल की रिपोर्ट में कहा गया है कि अध्ययन में यहां तक दावा किया गया कि अगर मामला गंभीर हो गया तो एंटीबायोटिक का असर इन बैक्टीरिया पर नहीं होता. ये बैक्टीरिया अन्य समस्याएं पैदा करने के बजाय बॉडी के इम्यून सिस्टम को प्रभावित करते हैं जिससे हार्ट डैमेज होने का खतरा बढ़ सकता है. 2018 में हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने करीब 10 लाख लोगों के मेडिकल डाटा का विश्लेषण किया. इनमें से 65 हजार लोगों का दिल से संबंधित जटिलताओं का सामना करना पड़ा था. इनमें से कुछ को हार्ट अटैक या स्ट्रोक का भी सामना करना पड़ा था. अध्ययन में खराब ओरल हेल्थ और हार्ट डिजीज के बीच बहुत मामूली संबंध ही पाया गया. जब स्मोकिंग पर विचार किया गया, तब ओरल हेल्थ के मामले गौण हो गए. अंत में अध्ययन के नतीजों में कहा गया कि खराब ओरल हेल्थ का सीधा संबंध हार्ट डिजीज से तो नहीं है लेकिन अगर इसमें सच्चाई भी है तो हमें गहन अध्ययन की जरूरत होगी. कुछ अध्ययनों के आधार पर हम इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकते कि खराब ओरल हेल्थ दिल की बीमारियों की दस्तक है.

    इसे भी पढ़ेंः एचआईवी मरीजों को अब रोजाना गोली नहीं लेनी होगी, दो महीने में एक इंजेक्शन काफी 

    हार्ट डिजीज की मुसीबतों से ऐसे बचें

    हार्ट डिजीज के लक्षण शुरुआत में बिल्कुल भी नहीं दिखते. लेकिन यह बात प्रमाणित हो चुकी है खराब लाइफस्टाइल हार्ट डिजीज के जोखिम को कई गुना बढ़ा देता है. इसलिए सबसे पहले खान पान पर ध्यान दीजिए और रोजाना फिजिकल एक्टिविटी को आदत बनाएं. स्मोकिंग और अल्कोहल को पूरी तरह बाय कह दें. फैट वाली चीजों से परहेज करें.

    Tags: Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर