जान लें सर्दियों में अमरूद खाने के फायदे, पेट की परेशानियां होंगी छूमंतर

जान लें सर्दियों में अमरूद खाने के फायदे, पेट की परेशानियां होंगी छूमंतर
अमरूद में आयरन और विटामिन सी दोनों ही भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं.

कब्ज की समस्या अधिक होने पर सुबह और शाम दोनों समय अमरूद (Guava) खाना फायदेमंद हो सकता है.

  • Myupchar
  • Last Updated : November 25, 2020, 1:33 pm IST
  • Share this:



    अमरूद (Guava) का नाम लेते ही कई लोगों के मुंह में पानी आ जाता है. शायद ही ऐसा कोई हो, जिसे अमरूद पसंद न हो. खट्टे-मीठे अमरूद न सिर्फ स्वाद में अच्छे लगते हैं बल्कि आयुर्वेद (Ayurveda) में अमरूद के बीजों को गुणकारी बताया गया है. अमरूद में भरपूर विटामिन सी, कैल्शियम, फॉस्फोरस और आयरन होता है. आइए जानते हैं कि अमरूद के फायदों के बारे में.

    पेट दर्द से दिलाए मुक्ति



    myUpchar के अनुसार,  पेट दर्द की समस्या गलत खानपान के वजह से होती है. यह कोई बीमारी नहीं, बल्कि खान-पान में अनियमितता के चलते पेट दर्द की समस्या आम है. इसे ठीक करने के लिए नमक के साथ पके हुए अमरूद का सेवन करना चाहिए, इससे पेट दर्द ठीक हो सकता है. इसके अलावा अमरूद के बीज पेट साफ करने में भी मदद करते हैं.

    कब्ज की समस्या दूर करता है अमरूद

    जिन्हें ज्यादातर कब्ज की समस्या बनी रहती है, उन्हें नाश्ते में रोज अमरूद का सेवन करना चाहिए. कब्ज की समस्या अधिक होने पर सुबह और शाम दोनों समय अमरूद खाना फायदेमंद हो सकता है.

    पेचिश रोग में लाभकारी

    बच्चों में पेचिश होने पर अमरूद की 15 ग्राम जड़ को एक गिलास पानी में तब तक उबालें, जब तक यह आधा न हो जाए. इसके बाद इसे बच्चों को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दिन में 2-3 बार पिलाते रहें, इससे उन्हें फायदा हो सकता है. इसके अतिरिक्त हैजा होने पर भी अमरूद की छाल और इसके पत्तों को पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर पीने से राहत पाई जा सकती है.

    हिमोग्लोबिन बढ़ाता है अमरूद

    अमरूद में आयरन और विटामिन सी दोनों ही भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. चूंकि आयरन हिमोग्लोबिन बढ़ाने और विटामिन सी आयरन को शरीर में अवशोषित करने कार्य करता है, इसलिए हिमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए यह दोनों ही तत्व जरूरी हैं. यही वजह है कि एनीमिया से ग्रसित व्यक्ति को अमरूद का सेवन जरूर करना चाहिए.

    गैस एसिडिटी दूर करने की कारगर औषधि

    अमरूद के बीज एसिडिटी कम करने में काफी कारगर होते हैं. इसके लिए अमरूद के बीज निकालकर इसमें गुलाब जल और मिश्री मिलाकर सेवन करें, इससे एसिडिटी में फायदा होता है.

    खूनी बवासीर में फायदेमंद है अमरूद की छाल

    खूनी बवासीर में अमरूद की छाल काफी फायदेमंद होती है। 5-10 ग्राम अमरूद की छाल का चूर्ण का काढ़ा बनाकर सेवन करने से बवासीर ठीक हो सकता है. बवासीर के मरीजों को यह काढ़ा लगातार कम से कम 1 माह तक पीना चाहिए.

    बुखार कम करने में सहायक है अमरूद के पत्ते

    myUpchar के अनुसार, यदि बुखार तेज है, तो अमरूद का औषधीय प्रयोग लाभकारी होता है. अमरूद के पत्तों को पीसकर इसका रस निकालकर बुखार से पीड़ित व्यक्ति को पिलाने से बुखार कम होता है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, अमरूद खाने के फायदे और नुकसान पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.