होम /न्यूज /जीवन शैली /कमजोर हार्ट या दिल की बीमारी होने पर मिलते हैं ये संकेत, FACES से जानें इसके लक्षण

कमजोर हार्ट या दिल की बीमारी होने पर मिलते हैं ये संकेत, FACES से जानें इसके लक्षण

हार्ट संबंधी बीमारी के संकेतों को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

हार्ट संबंधी बीमारी के संकेतों को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

Deteriorating Heart Health: हेल्दी रहने के लिए बहुत जरूरी है कि हमारा हार्ट पूरी तरह से स्वस्थ्य रहे. हार्ट ही है जिसके ...अधिक पढ़ें

Deteriorating Heart Health: हार्ट हमारे शरीर का अभिन्न है और शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए इसका स्वस्थ्य होना बहुत जरूरी है. कमजोर और बीमार हार्ट शरीर के महत्वपूर्ण कार्यों को करने के लिए दूसरे अंगों तक ब्लड को पहुंचाने में असमर्थ हो जाता है जिससे स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है. कोनरी हार्ट डिजीज, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों की वजह से हार्ट ठीक से काम करना बंद कर देता है. जब हमारा हार्ट कमजोर होता है तो वह तेजी से ब्लड पंप करने की कोशिश करता है और इस वजह से हृदय की मांसपेशियां मोटी होने लगती हैं और इससे हमारा पूरा स्वास्थ्य प्रभावित होता है.

हावर्ड हेल्थ पब्लिशिंग की खबर के अनुसार 60 की उम्र पहुंचने तक हमारा दिल कमजोर हा जोता है और यह एक कड़वा सत्य है. हार्ट कमजोर होने से जल्द थकावट आने लगती है. हार्ट फेलियर तब होता है जब हार्ट की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचता है. हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो जब भी हार्ट कमजोर हो जाता है और इसके कई संकेत हमें मिलने लगते हैं, लेकिन कई बार लोग इन संकेतों को नजर अंदाज कर देते हैं जिससे भविष्य में दिल संबंधी गंभीर स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं.

हार्ट फेल्योर सोसाइटी ऑफ अमेरिका एक ऐसा उपकरण तैयार किया है जिससे कमजोर हार्ट के लक्षणों को समझा जा सकता है. इसे FACES के नाम से जाना जाता है…

F = Fatigue – जब हमारा हार्ट शरीर के दूसरे अंगों की ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन को नहीं पहुंचा पाता तो इससे जल्द थकान आने लगती है. अगर आपको घर में कुछ सीढ़ियां चढ़ने में हफन या सांस लेने में दिक्कत होती है तो यह हार्ट संबंधी बीमारी का संकेत हो सकता है.

A = Activity Limitation: हार्ट संबंधी बीमारी वाले लोग अक्सर अपनी सामान्य गतिविधियां करने में भी असमर्थ होते हैं क्योंकी वे आसानी से थक जाते हैं. दैनिक जीवन में काम करने की क्षमता घटने लगती है.
Diabetes Cure: शुगर के मरीज नाश्ते के दौरान कभी न करें ये गलतियां, वरना हाई हो जाएगा डायबिटीज

C = Congestion: फेफड़ों में तरल पदार्थ जमने से खांसी, घबराहट, कफ, और सांस लेने में कठिनाई होती है.

E = Edema or Ankle Swelling: जब हमारे हार्ट के पास शरीर के दूसरे अंगों तक ब्लड पहुंचाने की ताकत नहीं होती तो इससे शरीर के निचले हिस्से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं. इससे टखनों, पैरों, जांघ और पेट में तरल पदार्थ जमने लगता है और इन भागों में सूजन आने लगती है. पैरों में सूजन आने पर हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लेनी जरूरी है.

S = Short of Breath: सांस लेने में तकलीफ होना हार्ट कमजोर होने का एक बड़ा कारण हो सकता है. जब फेफड़ों में फ्लूड भर जाता है तो सांस लेना मुश्किल होने लगता है. अगर रातभर सोने के बाद भी आपको थकान महसूस होती है और सांस लेने में तकलीफ होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए.

Tags: Health, Heart attack, Heart Disease

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें