इन 7 खाद्य पदार्थों के सेवन से मिलेगी घुटनों और जोड़ों के दर्द से राहत

इन 7 खाद्य पदार्थों के सेवन से मिलेगी घुटनों और जोड़ों के दर्द से राहत
घुटने और जोड़ों में दर्द

दर्द (Pain) के साथ सूजन, लालिमा की तकलीफ भी कम नहीं होती है. डॉक्टर तो इसका दवाइयों (Medicine) से इलाज करते हैं, लेकिन आहार भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

  • Last Updated: July 3, 2020, 1:35 PM IST
  • Share this:


घुटनों या जोड़ों का दर्द (Knee and Joint Pain) किसी को भी बेचैन कर सकता है और इसका असर पूरे दिन तकलीफ दे सकता है. कई बार घुटनों में दर्द किसी चोट (Injury) लगने के कारण या फिर कई रोगों के कारण हो सकता है जैसे गठिया, गाउट आदि. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. केएम नाधिर के अनुसार, जोड़ों के दर्द की भी कई वजहें हैं जैसे कि ऑस्टियोआर्थराइटिस, रुमेटॉइड ऑर्थराइटिस, बुर्सा, टेन्डिटिस आदि. दर्द के साथ सूजन, लालिमा की तकलीफ भी कम नहीं होती है. डॉक्टर तो इसका दवाइयों से इलाज करते हैं, लेकिन आहार भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. प्राकृतिक रूप से घुटनों और जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए इन 7 खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं.

लालमिर्च : myUpchar के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि लालमिर्च में कैप्साइसिन मौजूद होता है जो दर्द निवारक की तरह काम करता है. इसके दर्द से राहत देने वाले गुण गर्माहट पैदा करते हैं और घुटनों के दर्द को दूर करते हैं. आधे कप गर्म जैतून के तेल में दो चम्मच लालमिर्च मिलाएं और इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं. यह प्रक्रिया एक सप्ताह तक रोज दिन में दो बार जरूर करें. लाल मिर्च प्रभावित क्षेत्रों पर जलन पैदा कर सकती है. इसलिए इसका इस्तेमाल चोट लगी जगह पर न करें. लाल मिर्च में खूब विटामिन सी होता है जो कोलेजन के उत्पादन में सहायक होता है. कोलेजन हड्डी और मांसपेशियों को एक साथ रखता है.



हल्दी : हल्दी में मौजूद करक्यूमिन सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है. अध्ययन में पाया गया कि हल्दी का नियमित सेवन वास्तव में ऑस्टियोपोरोसिस और रुमेटोइड आर्थराइटिस के विकास को रोकने में मदद कर सकता है. एक चम्मच हल्दी पाउडर और थोड़ा-सा शहद एक गिलास गर्म दूध से मिलाएं. ध्यान दें खून पतला करने की दवाईयां लेने वालों के लिए यह उपाय उपयुक्त नहीं है.
अदरक : जोड़ों में दर्द और मांसपेशियों के लिए यह शानदार प्राकृतिक उपाय है. इसमें सूजनरोधी गुण होते हैं जो कि दर्द को कम करने के लिए बेहत प्रभावी हैं. एक कप पानी में अदरक के टुकड़ों को दस मिनट के लिए उबलने के लिए रख दें. इस मिश्रण को छानकर इसमें शहद और नीबू मिलाकर पिएं.

लहसुन : गठिया और जोड़ों के दर्द से जूझ रहे लोगों के लिए लहसुन का सेवन फायदेमंद हो सकता है. इसमें सल्फर और सेलिनियम होता है जो दर्द और सूजन से राहत पहुंचाता है. अपने आहार में कच्चा या पका हुआ लहसुन शामिल कर सकते हैं. रोजाना लहसुन की दो से तीन फाकें लाभकारी हैं.

मेथी दाना : गठिया के कारण जिन्हें घुटनों में दर्द है, वे एक चम्मच मेथी के बीज को रातभर भिगोकर रख दें और सुबह उन्हें खा लें. इसमें एंटीऑक्सिडेंट और सूजनरोधी गुण होते हैं.

सेब का सिरका : सेब के सिरके का सेवन जोड़ों और उत्तकों में मौजूद विषाक्त पदार्थों को निकालता है. क्षारिय प्रभाव के कारण घुटनों और जोड़ों के दर्द से राहत देता है. जोड़ों में चिकनाई भी लाता है और गतिशीलता को बढ़ाता है. दो कप पानी में दो चम्मच सेब का सिरका डालें और अच्छे से मिलाकर पी लें.

मछली : मछली जोड़ों के स्वास्थ्य के लिए एक बढ़िया विकल्प है. इसमें हड्डियों को मजबूत करने के लिए विटामिन डी और कैल्शियम होता है, साथ ही अच्छी मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है. ओमेगा-3 सूजन को कम करने में मदद करता है. अगर मछली पसंद नहीं है तो कैल्शियम और विटामिन डी के लिए कम वसा वाले डेयरी उत्पाद खाएं और अपने विटामिन में मछली के तेल के सप्लीमेंट लेने की कोशिश करें. अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, जोड़ों में दर्द की आयुर्वेदिक दवा और इलाज पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading