होम /न्यूज /जीवन शैली /गुणों से भरपूर अश्वगंधा पहुंचा सकता है सेहत को नुकसान, जानिए कैसे

गुणों से भरपूर अश्वगंधा पहुंचा सकता है सेहत को नुकसान, जानिए कैसे

तीन महीने से ज्‍यादा अश्‍वगंधा का सेवन हानिकारक हो सकता है.(Image Canva)

तीन महीने से ज्‍यादा अश्‍वगंधा का सेवन हानिकारक हो सकता है.(Image Canva)

Side Effects Of Ashwagandha: कोरोना महामारी के दौरान अश्‍वगंधा का इस्तेमाल इम्‍यूनिटी बूस्‍ट करने के लिए खूब किया गया. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

अश्‍वगंधा के अधिक इस्तेमाल से बढ़ सकती है लिवर प्रॉब्‍लम.
अश्‍वगंधा स्किन को भी पहुंचा सकता है नुकसान.
अश्‍वगंधा का तीन महीने से अधिक सेवन पड़ सकता है सेहत पर भारी.

Side Effects Of Ashwagandha- अश्‍वगंधा औषधीय गुणों से भरपूर है, जिसे कई बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है. अश्‍वगंधा को विंटर चेरी या जिनसेंग के नाम से भी जाना जाता है. कोरोना महामारी के दौरान अश्‍वगंधा का प्रयोग इम्‍यूनिटी बूस्‍ट करने के लिए किया गया और अभी भी लोग काढ़े या टैबलेट के रूप में इसका सेवन कर रहे हैं. आमतौर पर इसका इस्तेमाल तनाव और डिप्रेशन को कम करने के लिए किया जाता है. गुणों से भरपूर होने के बावजूद अश्‍वगंधा सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है. अश्‍वगंधा काफी गर्म होता है, जिसका अधिक सेवन करने से लिवर प्रॉब्‍लम और पेट संबंधी विकार हो सकते हैं. चलिए जानते हैं अश्‍वगंधा का अत्‍यधिक प्रयोग कैसे सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है.

अश्वगंधा तीन महीन से अधिक लेना
अश्‍वगंधा में कई ऐसे औ‍षधीय गुण होते हैं, जो शरीर को हेल्‍दी रखने में मदद कर सकते हैं. वेब एमडी के अनुसार, अश्‍वगंधा एक मात्र ऐसी जड़ी-बूटी है, जिसका इस्तेमाल सभी घातक बीमारियों के इलाज में किया जाता है. अश्‍वगंधा काफी गर्म होता है, जिसका प्रयोग बुखार या पेट संबंधी विकार में नहीं किया जाना चाहिए. इस औषधी का सेवन तीन महीने से अधिक नहीं किया जाना चाहिए. ये शरीर के तापमान को बढ़ा देता है, जिस वजह से अल्‍सर की समस्‍या हो सकती है.



हो सकता है डायरिया
अश्‍वगंधा का सेवन डायरिया को बढ़ावा दे सकता है. ये गर्म होने की वजह से शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है. इसका अधिक सेवन करने से पेट दर्द, उल्‍टी और गैस की समस्‍या हो सकती है. ये लिवर पर भी बुरा प्रभाव डाल सकता है, जिस वजह से लिवर कमजोर हो सकता है.

इसे भी पढ़ें: आयुर्वेद के अनुसार जानें, अच्छी नींद लने के लिए किस दिशा में सोना है फायदेमंद

नींद में कमी
अश्‍वगंधा में कई ऐसे कंपाउंड होते हैं, जो शरीर और दिमाग को एक्टिव रखने में मदद करते हैं. अश्‍वगंधा के अधिक सेवन से लोगों को नींद न आने की समस्‍या का सामना करना पड़ सकता है. दिमाग एक्टिव रहने की वजह से नींद में कमी आने लगती है. इंसोम्निया से पीड़ित लोगों को खासकर इस औषधि से दूर रहना चाहिए. इससे बेचैनी और घबराहट की समस्‍या हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: नींद ना आने से हैं परेशान? अपनाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय, होगा फायदा

स्किन पर प्रभाव
अश्‍वगंधा स्किन प्रॉब्‍लम्‍स का भी कारण बन सकता है. गर्म होने के कारण ये स्किन में पिंपल्‍स और ड्राइनेस को बढ़ा देता है. गर्मी की वजह से फेस पर पिंपल्‍स निकलने लगते हैं. कई बार ये पिंपल्‍स पीठ या छाती पर भी उभर आते हैं.

Tags: Health, Health problems, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें